स्वामी प्रसाद मौर्य की पडरौना सीट पर हार या जीत?

स्वामी प्रसाद मौर्य की पडरौना सीट पर हार या जीत?

RPN सिंह बीजेपी में शामिल, अब खुद अपनी सीट हारेंगे स्वामी?

उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने एक ऐसा कदम उठाया है जिसका सीधा असर स्वामी प्रसाद मौर्य के राजनीतिक भविष्य पर पड़ने वाला है. ये ऐसा फैसला है जिससे स्वामी प्रसाद मौर्य की पडरौना सीट पर बड़ा संकट खड़ा हो गया है.

स्वामी प्रसाद मौर्य की पडरौना सीट पर हार या जीत?
स्वामी प्रसाद मौर्य की पडरौना सीट पर हार या जीत?

हाल ही में यूपी के रोज़गार मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य बीजेपी छोड़ कर समाजवादी पार्टी में शामिल हुए थे. अब बीजेपी ने स्वामी प्रसाद मौर्य की काट के तौर पर आरपीएन सिंह को जॉइन करा लिया है. आरपीएन सिंह का बीजेपी में शामिल होना बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि आरपीएन सिंह कुशीनगर की उसी पडरौना विधानसभा सीट से 3 बार विधायक रह चुके हैं जहां से स्वामी प्रसाद मौर्य 2 बार जीते हैं.


स्वामी प्रसाद मौर्य 2017 में बीजेपी के टिकट पर और 2012 में बीएसपी के टिकट पर पडरौना विधानसभा सीट जीते हैं. 2012 में मौर्य जब बीएसपी के टिकट पर लड़े थे तो उनकी जीत का मार्जिन केवल 8,162 वोटों का था लेकिन जब वो 2017 में बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़े तो उनकी जीत का मार्जिन पांच गुना बढ़कर 40,552 वोटों का हो गया.
दूसरी तरफ आरपीएन सिंह पुराने कांग्रेसी हैं और पडरौना से तीनों बार कांग्रेस के टिकट पर जीते हैं. आरपीएन सिंह 2007 में 5,419 वोटों से, 2002 में 15,382 वोटों से और 1996 में 18,023 वोटों से पडरौना की सीट जीते हैं.

पडरौना की सीट पर कांग्रेस ने सबसे ज्यादा चार बार कब्जा जमाया है, बीजेपी 2 बार इस सीट पर जीती है जबकि समाजवादी पार्टी एक बार और बहुजन समाज पार्टी एक बार इस सीट पर जीती हैं.


इतिहास बताता है कि इस सीट पर कांग्रेस सबसे ज्यादा मज़बूत रही है. 4 बार सीट जीतने के अलावा वो 2 बार इस सीट पर दूसरे नंबर पर भी रही है. आरपीएन सिंह पडरौना विधानसभा सीट पर कांग्रेस के दबदबे का चेहरा रहे हैं और अब वो बीजेपी में शामिल हो गए हैं.
कुशीनगर में पडरौना विधानसभा सीट के अलावा आरपीएन सिंह कुशीनगर लोकसभा सीट पर भी असर रखते हैं.

2009 के लोकसभा चुनाव में आरपीएन सिंह कुशीनगर लोकसभा सीट पर जीत हासिल कर चुके हैं. मजे की बात ये है कि आरपीएन ने 2009 में बीएसपी के स्वामी प्रसाद मौर्य को ही लोकसभा चुनाव हराया था. तब आरपीएन को 21094 वोटों से जीत मिली थी. 2009 का चुनाव जीतने के बाद आरपीएन सिंह केंद्र सरकार में मंत्री भी रहे. वो केंद्र सरकार में गृह राज्य मंत्री का पद संभाल चुके हैं.


हालांकि जबसे नरेंद्र मोदी और अमित शाह का प्रभाव बीजेपी में बढ़ा तब से आरपीएन सिंह लोकसभा चुनाव में हारते रहे हैं. 2014 में आरपीएन सिंह को बीजेपी के राजेश पांडे ने 85540 वोटों से हराया था. और 2019 में तो आरपीएन सिंह कुशीनगर लोकसभा सीट के चुनाव में तीसरे नंबर पर चले गए थे. 2019 में बीजेपी के विजय कुमार दुबे ने 3,37,560 वोटों से ये चुनाव जीता था.

कुशीनगर में बीजेपी का प्रभाव बढ़ने के बाद से आरपीएन सिंह ने सोचा होगा कि अब भविष्य बीजेपी में ही है और शायद यही सोचकर वो 2022 के चुनाव का मतदान शुरू होने से 15 दिन पहले बीजेपी में शामिल हो गए हैं. लेकिन उनके बीजेपी में आने से सबसे बड़ा खतरा स्वामी प्रसाद मौर्य पर मंडरा रहा है जिनके सामने चुनौती है कि वो पडरौना से विधानसभा चुनाव कैसे जीतेंगे.

जेवर से RLD प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना को चुनाव आयोग का नोटिस

जेवर से RLD प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना को चुनाव आयोग का नोटिस

भड़ाना पर लटकी तलवार
जिला निर्वाचन अधिकारी ने भेजा नोटिस

उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर में जेवर विधानसभा सीट पर भड़ाना का बहाना और फसाना काफी चर्चा में है. यहां बीजेपी के विधायक अवतार सिंह भड़ाना आरएलडी के टिकट पर पहले मैदान में उतरे, फिर मैदान छोड़ दिया, और फिर वापस मैदान में लौट आए. भड़ाना का चुनाव न लड़ने का बहाना और फिर लौट आने का फसाना लोगों को हकीकत में समझ नहीं आ रहा है.

जेवर से RLD प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना को चुनाव आयोग का नोटिस
जेवर से RLD प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना को चुनाव आयोग का नोटिस

समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के गठबंधन के उम्मीदवार अवतार सिंह भड़ाना के खिलाफ अब एक नोटिस जारी किया गया है. गौतम बुद्ध नगर जिला निर्वाचन अधिकारी ने नोटिस जारी करते हुए भड़ाना से 24 घंटे में जवाब मांगा है. वीडियो में आगे आपको बताउंगा कि ये नोटिस क्यों जारी किया गया है. लेकिन पहले भड़ाना के बारे में कुछ और भी जान लेना ज़रूरी है.


अवतार सिंह भड़ाना 2017 में बीजेपी के टिकट पर मुजफ्फरनगर की मीरापुर सीट से विधायक चुने गए थे. बीजेपी की प्रचंड लहर के बावजूद भड़ाना अपना चुनाव 193 वोटों के बेहद मामूली अंतर से जीत पाए थे. इसके बावजूद वो चाहते थे कि उन्हें उत्तर प्रदेश सरकार में अहमियत दी जाए लेकिन उन्हें यूपी सरकार में मंत्री नहीं बनाया गया. भड़ाना उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में अपनी अनदेखी के चलते नाराज रहे.

जेवर से RLD प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना को चुनाव आयोग का नोटिस
जेवर से RLD प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना को चुनाव आयोग का नोटिस

बीजेपी से भड़ाना की नाराज़गी इतनी ज्यादा थी कि वो बीजेपी के विधायक रहते हुए ही साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में हरियाणा की फरीदाबाद लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ गए थे. हालांकि उन्हें इस चुनाव में कृष्णपाल गुर्जर ने बुरी तरह हरा दिया था. 2019 में भड़ाना को लगभग साढ़े छह लाख वोटों से हार झेलनी पड़ी थी.
इस बड़ी हार के बाद भड़ाना ने जेवर से चुनाव लड़ने का मन बनाया और वहां आना जाना शुरू किया.


बीजेपी से बगावत करके भड़ाना वहां से टिकट मिलने का रास्ता पहले ही बंद कर चुके थे. इसलिए उन्होंने दूसरे दलों से संपर्क करना शुरू किया. चुनाव नज़दीक आने पर आखिरकार भड़ाना 12 जनवरी 2022 को राष्ट्रीय लोकदल में शामिल हो गए और तुरंत ही समाजवादी पार्टी-राष्ट्रीय लोक दल गठबंधन ने अवतार सिंह भड़ाना को जेवर से अपना प्रत्याशी बना दिया. इसके बाद भड़ाना ने अपना नामांकन किया और चुनाव प्रचार करना भी शुरू किया.


यहां तक सब ठीक था लेकिन मामले में ट्विस्ट आया 20 जनवरी 2022 को जब अवतार सिंह भड़ाना के वकील ने बताया कि भड़ाना चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अवतार सिंह भड़ाना के एडवोकेट रविकांत गुरुवार यानी 20 जनवरी को अचानक डीएम ऑफिस पहुंच गए और वहां उन्होंने रिटर्निंग ऑफिसर से भड़ाना के चुनाव न लड़ने की बात कही. भड़ाना के वकील ने मीडिया को भी बताया कि भड़ाना कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं और उन्होंने जनहित में फैसला लिया है कि अब वो चुनाव नहीं लड़ेंगे. लेकिन अभी एक और ट्विस्ट आना बाकी था.

रात होते-होते अवतार सिंह भड़ाना ने ट्वीट करके ऐलान कर दिया कि वो फिर से चुनाव मैदान में आ गए हैं. भड़ाना ने लिखा कि उनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव आई है और वो चुनाव लड़ेंगे. यानी दोपहर से रात तक वो कोविड पॉजिटिव से कोविड निगेटिव हो गए.

अब इन 6 घंटों में क्या हुआ ये तो भड़ाना ही बता सकते हैं लेकिन मीडिया में कई तरह के फसाने चल रहे हैं. कहीं डीलिंग की बात कही जा रही है तो कहीं कहा जा रहा है कि खुद भड़ाना को ही हार का डर सता रहा है.

इसी बीच गौतम बुद्ध नगर में रिटर्निंग ऑफिसर ने अवतार सिंह भड़ाना के खिलाफ नोटिस जारी किया है. 24 घंटे के अंदर जवाब न देने पर अवतार सिंह भड़ाना के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. मीडिया रिपोर्ट्स में रिटर्निंग ऑफिसर रजनीकांत मिश्रा ने कहा है कि अवतार सिंह भड़ाना ने प्रशासन को बिना जानकारी दिए अपना दफ्तर खोला है, उसी को लेकर उनके खिलाफ नोटिस जारी किया गया है.

रजनीकांत मिश्रा ने बताया कि किसी भी प्रत्याशी को अपना चुनावी दफ्तर खोलने से पहले चुनाव अधिकारी को इसकी जानकारी देनी होती है लेकिन अवतार सिंह भड़ाना ने जेवर में झाझर रोड पर अपना ऑफिस खोला और उसके बारे में चुनाव अधिकारी को कोई भी जानकारी नहीं दी. इसी को लेकर उनके खिलाफ एक नोटिस जारी किया गया है.

अब देखना होगा कि भड़ाना इस नोटिस का क्या जवाब देते हैं. ये भी देखना होगा कि क्या भड़ाना इस चुनाव में बने रहेंगे या फिर कोई बहाना बनाकर चुनाव छोड़ कर चले जाएंगे.

Akhilesh Yadav vs Yogi Adityanath गोरखपुर से चुनाव लड़ पाएंगे अखिलेश ?

Akhilesh Yadav vs Yogi Adityanath गोरखपुर से चुनाव लड़ पाएंगे अखिलेश ?

Akhilesh Yadav vs Yogi Adityanath गोरखपुर से चुनाव लड़ पाएंगे अखिलेश ?
Akhilesh Yadav vs Yogi Adityanath गोरखपुर से चुनाव लड़ पाएंगे अखिलेश ?

याद कीजिए 2021 का बंगाल विधानसभा चुनाव जब बीजेपी की तरफ से अमित शाह ने 294 में से 200 सीटें जीतने का दावा किया था. लेकिन जब नतीजे आए तो बीजेपी 80 सीटें भी नहीं पाई थी. सवाल उठता है कि फिर ये नेता ऐसी जुमलेबाजी करते क्यों हैं?

कहा जाता है कि

No one is ever defeated until defeat has been accepted as reality.

यानी

कोई भी तब तक नहीं हार सकता जब तक कि पराजय को स्वीकार ना कर लिया जाए.

यानी

मन के हारे हार है 

मन के जीते जीत

इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखकर हर नेता चुनाव से पहले की जुमलेबाजी में लगा रहता है. नेता हर चुनाव में अपनी पार्टी को ज्यादा से ज्यादा सीटें मिलने का दावा करता है. वो माहौल बनाता है कि उसकी पार्टी चुनाव में मज़बूती के साथ जीतने जा रही है. नेता ऐसा इसलिए करता है कि ज्यादा से ज्यादा लोग उसके कॉन्फिडेन्स को देखकर प्रभावित हों और जीतने जा रही पार्टी के साथ खड़े हो जाएं.

Akhilesh Yadav vs Yogi Adityanath
Akhilesh Yadav vs Yogi Adityanath गोरखपुर से चुनाव लड़ पाएंगे अखिलेश ?

चुनावी मौसम में हर नेता को लगता है कि वो बड़े से बड़ा दावा करे ताकि उसकी पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं का मन मज़बूत रहे, उनका हौसला बना रहे. ऐसा ही एक दावा समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव कर रहे हैं. यूपी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर अखिलेश यादव ने दावा किया है कि समाजवादी पार्टी इस चुनाव में 400 सीटें जीतने जा रही है. उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों में से 400 सीटें जीतने का दावा अखिलेश ने एक बार नहीं बार-बार किया है. ये दावा कितना बड़ा है इसका अंदाजा आप कुछ आंकड़ों से लगा सकते हैं.

जो अखिलेश 403 में से 400 सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं वो पिछले चुनाव में अपनी पार्टी को केवल 47 सीटें जितवा पाए थे. और जिस बीजेपी को अखिलेश 2022 में हराने का दावा कर रहे हैं उसने 2017 में अकेले ही 312 सीटों पर जीत हासिल की थी. अब अखिलेश का दावा है कि बीजेपी 2022 में 312 सीटों में से कम से कम 309 सीटें तो हारेगी ही. इसके उलट बीजेपी इस चुनाव में भी 300 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा कर रही है. बीजेपी का दावा उतना ही है जितना वो पिछले चुनाव में अचीव कर चुके हैं. यानी बीजेपी का दावा काफी रीज़नेबल, प्रैक्टिकल, और लॉजिकल लगता है.

Yogi Adityanath गोरखपुर से चुनाव लड़ पाएंगे अखिलेश ?
Akhilesh Yadav vs Yogi Adityanath गोरखपुर से चुनाव लड़ पाएंगे अखिलेश ?

दूसरी तरफ अखिलेश के कॉन्फिडेन्स और हौसले की दाद देनी पड़ेगी लेकिन ये कॉन्फिडेन्स उनके चुनावी फैसलों में दिखाई नहीं देता और ना ही आंकड़े उनके इस कॉन्फिडेन्स को सपोर्ट कर रहे हैं. अखिलेश के 400 सीटें जीतने के दावे को खोखला साबित करता है उनका खुद के चुनाव के लिए सीट चुनने का फैसला. अखिलेश ने खुद के लिए मैनपुरी की करहल सीट को चुना है. ये वही अखिलेश हैं जिन्होंने यूपी के मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से चुनाव लड़ने के फैसले पर कहा था कि बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ को घर भेज दिया है. अब अपने लिए मैनपुरी की करहल सीट चुन कर अखिलेश ने खुद घर जाने का फैसला कर लिया है.

खास बात ये है कि अखिलेश तो विधानसभा चुनाव भी नहीं लड़ना चाहते थे लेकिन योगी के चुनाव लड़ने के फैसले के बाद वो चुनाव लड़ने को मजबूर हुए हैं. राजनीति में चैलेंजर का हौसला काफी महत्वपूर्ण होता है. पहले से स्थापित नेता के खिलाफ ये हौसला सिर्फ जुमलेबाजी में नहीं बल्कि ज़मीन पर भी दिखना चाहिए.

पिछले कुछ बरसों में ये हौसला अरविंद केजरीवाल ने एक चैलेंजर के तौर पर कई बार दिखाया है. वो अरविंद केजरीवाल ही थे जिन्होंने दिल्ली की 15 साल की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को उनकी सीट पर चैलेंज करने की हिम्मत दिखाई थी. इस हौसले का फायदा भी अरविंद केजरीवाल को भरपूर मिला था और आखिरकार वो शीला दीक्षित को हराने में कामयाब हुए थे. इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को भी वाराणसी में खुलकर चुनौती दी थी. भले ही वो चुनाव हार गए लेकिन उसी हिम्मत ने अरविंद केजरीवाल को भारतीय राजनीति में स्थापित करने में बड़ा रोल निभाया था.

इसी तरह अपने प्रतिद्वंदी से सामने से भिड़ने का मामला पिछले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भी देखने को मिला था. पश्चिम बंगाल में भले ही सुवेंदु अधिकारी बीजेपी का सबसे बड़ा चेहरा और ममता बनर्जी के सामने चैलेंजर थे लेकिन हिम्मत ममता बनर्जी ने दिखाई थी. सुवेंदु अधिकारी ये हिम्मत नहीं जुटा पाए थे कि वो ममता बनर्जी के खिलाफ चुनाव लड़ सकें. तब ममता ने फैसला किया था कि वो अपनी जीती हुई सेफ सीट भवानीपुर छोड़कर सुवेंदू अधिकारी के गढ़ नंदीग्राम में जाकर चुनाव लड़ेंगी. ममता बनर्जी ने ऐसा करके एक बड़ा रिस्क लिया था. और उस रिस्क की कीमत उन्हें नंदीग्राम में चुनाव हारकर चुकानी भी पड़ी. लेकिन उसी एक फैसले ने ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल में फिर से सत्ता में वापस ला दिया.

जिस वक्त बंगाल में बीजेपी ने पूरा चुनावी माहौल बना दिया था. बड़े-बड़े दावे किए जा रहे थे, सर्वे बीजेपी की जीत की संभावना जता रहे थे तब ममता बनर्जी ने ज़मीनी हकीकत को ध्यान में रखते हुए असली हिम्मत दिखाई थी. चैलेंजर के रोल में सुवेंदु अधिकारी थे लेकिन ममता बनर्जी ने सुवेंदु  के गढ़ में जाकर चैलेंजर को चैलेंज करने का फैसला लिया था. ममता ने ये परवाह नहीं की कि वो चुनाव हार गईं तो क्या होगा. उनका मकसद था कि टीएमसी के कार्यकर्ताओं में ये मैसेज जाना चाहिए कि उनकी नेता ज़मीन पर चुनौती को चुनौती देकर लड़ना जानती है.

ममता ने अपने कार्यकर्ताओं के संदेश दिया कि वो लड़ाई में खुद फ्रंट पर डटी हुई हैं. ममता की फाइटिंग स्पिरिट देखकर ही टीएमसी पूरे बंगाल में जीत गई. भले ही ममता नंदीग्राम से हार गईं लेकिन उनकी पार्टी सत्ता में आ चुकी थी और उसके बाद उनका एक बार फिर भवानीपुर से उपचुनाव जीतना आसान हो चुका था.

अब अगर यूपी की बात करें तो अखिलेश यूपी की लगभग सारी सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं लेकिन चुनाव वो लड़ने जा रहे हैं अपने घर की सीट से. न तो वो अरविंद केजरीवाल की तरह हिम्मत दिखा पा रहे हैं और न ममता बनर्जी की तरह. अगर वाकई अखिलेश 403 में से 400 सीटें जीतना चाहते हैं या 300 सीटें जीतना चाहते हैं या फिर बहुमत के आसपास सीटें हासिल करना चाहते हैं तो उन्हें गोरखपुर की सदर सीट से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चुनौती देनी चाहिए.

अखिलेश का ये एक फैसला पूरे यूपी में समाजवादी पार्टी का मुकद्दर बदल सकता है. इस फैसले से पूूरे उत्तर प्रदेश में ये संदेश जाएगा कि जो भी बीजेपी को वोट नहीं देना चाहता वो एसपी के साथ आ जाए क्योंकि पूरे यूपी में अखिलेश ही योगी को उनके गढ़ में चुनौती दे सकते हैं और यूपी में सरकार भी बना सकते हैं. हो सकता है कि वो गोरखपुर से चुनाव हार भी जाएं लेकिन पूरे उत्तर प्रदेश में वो वैसी सफलता पा सकते हैं जैसी ममता बनर्जी को बंगाल में हासिल हुई थी. 

BJP SP RLD Congress in UP Vidhan Sabha Election यूपी चुनाव न्यूज़

BJP SP RLD Congress in UP Vidhan Sabha Election यूपी चुनाव न्यूज़

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लिए बीजेपी ने अपने उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी कर दी है. इस लिस्ट में 85 विधानसभा सीटों के लिए प्रत्याशियों के नाम घोषित किये गए हैं. इस लिस्ट में साफ दिखाई दे रहा है कि पार्टी अपने विधायकों के टिकट काटने से परहेज़ कर रही है. लिस्ट में नए लोगों की जगह पुराने चेहरों पर ही भरोसा जताया गया है. इस लिस्ट के ज़रिए बीजेपी ने कांग्रेस के कैम्पेन ”लड़की हूं लड़ सकती हूं” का असर कम करने की कोशिश की है. बीजेपी ने दूसरी लिस्ट में महिलाओं को बड़ी संख्या में टिकट दिये हैं. इसमें 85 में से 15 टिकट महिलाओं को दिये गए हैं.

बीजेपी ने कांग्रेस छोड़कर आईं अदिति सिंह को रायबरेली से टिकट दिया है और बीएसपी से आए रामवीर उपाध्याय को सादाबाद से मैदान में उतारा है. बीजेपी ने मुलायम सिंह के समधी हरिओम यादव को सिरसागंज से टिकट दिया है. इसके अलावा 3 दिन पहले ही विधानसभा उपाध्यक्ष पद और समाजवादी पार्टी से इस्तीफा देने वाले नितिन अग्रवाल को भी हरदोई से चुनाव मैदान में उतारा गया है. पार्टी ने कानपुर में कमिश्नर का पद छोड़ने वाले आईपीएस अधिकारी असीम अरुण को उनकी पसंदीदा सीट कन्नौज से टिकट दिया है. कन्नौज की सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है.

पूरी लिस्ट नीचे देखें.

उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट
उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी की दूसरी लिस्ट ऊपर है.

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में टीम-9 के अधिकारियों के साथ कोविड संक्रमण के संदर्भ में समीक्षा बैठक की।

उत्तर प्रदेश में हमें भयमुक्त वातावरण देने में सफलता हासिल हुई है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के इलाके कभी पलायन के लिए कुख्यात थे। 5 साल में इन इलाकों में लोगों ने देखा होगा कि वहां पर आज के दिन पलायन नहीं होता है। जो लोग पलायन कर चुके थे वे वापस अपने घर आ रहे हैं। अपराधी और पेशेवर माफिया उत्तर प्रदेश से पलायन करते हैं। पहले प्रदेश में पेशेवर माफिया और अपराधी पुलिस को दौड़ाते थे पर आज पुलिस उन्हें दौडाती है, दंगाई भागता है और पुलिस उसे राज्य छोड़ने पर मज़बूर करती है। हमारी सरकार ने 43 लाख गरीबों को मकान दिया। 2 करोड़ 61 लाख गरीबों को घरों में शौचालय दिए। 1 करोड़ 56 लाख परिवारों को निशुल्क रसोई गैस कनेक्शन, 9 करोड़ लोगों को आयुष्मान भारत योजना और मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना से 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर भी दिया: उ.प्र. CM योगी आदित्यनाथ

SP RLD Congress in UP Vidhan Sabha Election
BJP SP RLD Congress in UP Vidhan Sabha Election यूपी चुनाव न्यूज़

आज मतदान के पहले चरण के लिए नामांकन का कार्यक्रम संपन्न होकर दूसरे चरण का नामांकन शुरू हो गया है। भाजपा ने अपनी प्रचार सामग्री के शुभारंभ के साथ चुनाव प्रचार के लिए थीम सॉन्ग को भी आज लॉन्च किया है: लखनऊ के भाजपा मुख्यालय में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने आगरा में ‘राजेश्वर महादेव’ मंदिर में पूजा की।

दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने यूपी यूथ मेनिफेस्टो जारी किया।

भारत को एक नए विजन की ज़रुरत है। भारत को विजन कांग्रेस पार्टी ही दे सकती है, छोटी-छोटी पार्टियां नहीं दे सकती हैं। भाजपा का विजन देश का विजन नहीं है। अगर उत्तर प्रदेश को एक नया विजन नहीं दिया गया तो भारत को एक नया विजन नहीं दिया जा सकता है। उत्तर प्रदेश में हर 24 घंटे में लगभग 880 युवा रोज़गार खोते हैं। भाजपा के पिछले 5 सालों के शासन में लगभग 16 लाख युवाओं ने रोज़गार खोया है। प्रधानमंत्री ने कहा था कि हम आपको हर साल 2 करोड़ रोज़गार देंगे। सच्चाई सबको दिख रही है। ऐसा क्यों हो रहा है। क्योंकि देश का पूरा धन 2-3 बड़े उद्योगपतियों के हाथों में दिया जा रहा है। रोज़गार छोटे और मीडियम व्यवसाय से आते हैं। रोज़गार बड़े-बड़े व्यवसाय से कम आता है। भाजपा की नीति छोटे व्यापारियों को ख़त्म करने की है। नोटबंदी, गलत GST और कोरोना के समय सरकार द्वारा लिए गए गलत निर्णय के कारण 14 करोड़ युवाओं ने रोज़गार खोया है। रोज़गार हम आपको कैसे और किस प्रकार से दिलाएंगे, यह सब हमने अपने मेनिफेस्टो में लिखा है। इस मेनिफेस्टो को बनाने के लिए कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश के युवाओं के साथ बात की है और जो उनके विचार है वह हमने इस मेनिफेस्टो में डाले हैं: कांग्रेस नेता राहुल गांधी

इस मेनिफेस्टो को बनाने के लिए हमारे नेताओं, कार्यकर्ताओं ने हर ज़िले में युवाओं से बात कर उनकी बड़ी समस्याओं को समझा। उन्हीं में से निकले हुए मुद्दे भर्ती विधान में हैं। इसे भर्ती विधान इसलिए कहा है क्योंकि प्रदेश में बड़ी समस्या भर्ती की है। जब तक आप(जनता) जवाबदेही नहीं मांगेगे तब तक कोई नेता जवाबदेह नहीं बनेगा। जनता को जागरुक होना ही पड़ेगा। जातिवाद, सांप्रदायिकतावाद से आपका पेट नहीं भरने वाला है। इससे सिर्फ़ कुछ राजनीतिक दलों का फायदा होगा। जब आपको मालूम है कि आपको जाति और धर्म के आधार पर वोट मिलेगा। तो फिर आप उसका नल क्यों लगाएंगे, उसकी सड़क, स्कूल क्यों बनाएंगे, उसके लिए कुछ क्यों करेंगे। लेकिन जब सरकार बनाने की बात होती है तब जवाबदेही मांगिए और विकास पर अपना वोट दीजिए : कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा

Swami Prasad Maurya Impact अखिलेश को हरवाएंगे स्वामी प्रसाद मौर्य ?

Swami Prasad Maurya Impact अखिलेश को हरवाएंगे स्वामी प्रसाद मौर्य ?

अखिलेश को जिताएंगे या हराएंगे स्वामी मौर्य ?

जब से स्वामी प्रसाद मौर्य अपने कुछ साथियों के साथ बीजेपी छोड़कर समाजवादी पार्टी में गए हैं तब से ही ये चर्चा ज़ोरों पर है कि उनके जाने से उत्तर प्रदेश में बीजेपी को कितना नुकसान होगा और समाजवादी पार्टी को कितना फायदा होगा. बीजेपी सरकार में यूपी के रोज़गार मंत्री रहे स्वामी प्रसाद तो दावा कर रहे हैं कि वो बीजेपी को बरबाद कर देंगे. स्वामी प्रसाद ने ये भी दावा किया है कि 2017 में बीजेपी उत्तर प्रदेश में सत्ता में आई ही उनकी वजह से थी और अब जब वो समाजवादी पार्टी में जा चुके हैं तो बीजेपी का सत्ता से बाहर होना तय है. ये उनका दावा है और दावा करने का हक हर नेता और हर पार्टी को है.

Swami Prasad Maurya Impact अखिलेश को हरवाएंगे स्वामी प्रसाद मौर्य ?

हम इस वीडियो में बात करेंगे कि क्या स्वामी प्रसाद मौर्य का किसी पार्टी में रहना वाकई उस पार्टी की जीत की गारंटी है या नहीं.

Swami Prasad Maurya Impact अखिलेश को हरवाएंगे स्वामी प्रसाद मौर्य ?


ये बात सही है कि 2016 में स्वामी बीजेपी में उस वक्त शामिल हुए थे जब किसी को उम्मीद नहीं थी कि बीजेपी 2017 में 300 प्लस सीटें जीतकर यूपी की सत्ता में आने वाली है. स्वामी के इस एक फैसले की वजह से उन्हें राजनीति का मौसम वैज्ञानिक भी कहा गया है. जबकि इससे पहले स्वामी ने कभी भी ऐसा कदम नहीं उठाया जिससे कि कहा जा सके कि उन्हें सत्ता में आने वाली पार्टी का अहसास पहले ही हो जाता है. फॉर एग्ज़ाम्पल अगर हम 2012 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो उसमें समाजवादी पार्टी को बम्पर जीत हासिल हुई थी लेकिन स्वामी प्रसाद मौर्य उस वक्त बीएसपी में थे और उन्हें ज़रा भी अंदाज़ा नहीं हो पाया कि उनकी पार्टी की मुखिया मायावती की 2007 से चल रही सरकार जाने वाली है और समाजवादी पार्टी की सरकार आने वाली है.

2012 का यूपी का विधानसभा चुनाव कई मायनों में महत्वपूर्ण था. समाजवादी पार्टी के लिए भी और बीएसपी के स्वामी प्रसाद मौर्य के लिए भी. दरअसल यही वो चुनाव था जिसके रिज़ल्ट का ऐनैलिसिस करके आप स्वामी प्रसाद मौर्य की राजनीतिक हैसियत का अंदाज़ा लगा सकते हैं. 2012 के विधानसभा चुनाव के लिए बीएसपी की मुखिया मायावती ने स्वामी मौर्य को उनके राजनीतिक जीवन का सबसे बड़ा मौका दिया था.

हुआ ये था जब 2007 में मायावती उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनीं तो उसके अगले ही साल यानी 2008 में उन्होंने स्वामी प्रसाद मौर्य को बीएसपी की पूरे यूपी की ज़िम्मेदारी सौंप दी थी. मायावती ने स्वामी को बहुजन समाज पार्टी का उत्तर प्रदेश राज्य का अध्यक्ष बना दिया था. मायावती को उम्मीद थी कि स्वामी प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश में पिछड़ी जातियों को बीएसपी से जोड़ेंगे.

Swami Prasad Maurya Impact अखिलेश को हरवाएंगे स्वामी प्रसाद मौर्य ?


2007 के बाद अगला विधानसभा चुनाव 2012 में होना था. इस लिहाज़ से स्वामी प्रसाद के पास चुनावी तैयारी के लिए 2008 से लेकर 2012 तक का अच्छा खासा वक्त भी था. लेकिन जब 2012 विधानसभा चुनाव के नतीजे आए तो बीएसपी को बुरी हार का मुंह देखना पड़ा. इस चुनाव में बीएसपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य का सीधा मुकाबला हुआ था समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश यादव से. और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर अखिलेश ने स्वामी को तगड़ी पटखनी दी थी.

इलेक्शन कमीशन की वेबसाइट पर दिए गए रिकॉर्ड के मुताबिक 2012 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी की सीटें 2007 के मुकाबले 206 से घटकर 80 रह गई थीं. यानी जिस चुनाव के लिए स्वामी प्रसाद मौर्य को बीएसपी यानी बहुजन समाज पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया उस चुनाव में पार्टी की 126 सीटें कम हो गईं. इस चुनाव में स्वामी मौर्य के सामने जो चुनौती देने वाली पार्टी थी उसकी सीटें 2007 के मुकाबले 97 से बढ़कर 224 हो गई थीं.2012 में बीएसपी का वोट प्रतिशत भी 2007 के मुकाबले लगभग साढ़े चार प्रतिशत गिर गया था.

बीएसपी को 2007 में जहां कुल डाले गए 5 करोड़ 21 लाख 63 हज़ार 4 सौ 17 में से 1 करोड़ 58 लाख 72 हज़ार 5 सौ 61 यानी 30.43 प्रतिशत वोट मिले थे वहीं 2012 में बीएसपी को कुल डाले गए 7 करोड़ 58 लाख 31 हज़ार 6 सौ 82 वोट में से 1 करोड़ 96 लाख 47 हज़ार 3 सौ 3 वोट मिले थे. 2012 में बीएसपी का वोट प्रतिशत 2007 के मुकाबले 30.43 प्रतिशत से गिर कर 25.91 प्रतिशत रह गया था. ये वो चुनाव था जब समाजवादी पार्टी बड़े बहुमत से सत्ता में आई थी. समाजवादी पार्टी को उस चुनाव में 224 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल हुई थी. दूसरी तरफ स्वामी प्रसाद मौर्य की मौजूदगी वाली बीएसपी को 2012 में केवल 80 विधानसभा सीटों पर जीत मिली थी. हालांकि उस चुनाव में बीजेपी का और भी बुरा हाल था. बीजेपी को केवल 47 सीटें मिल पाई थीं. तब कांग्रेस को केवल 28 सीटें मिली थीं.अपनी-अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर अखिलेश और स्वामी के मुकाबले वाले इस चुनाव में समाजवादी पार्टी को कुल पड़े वोटों में से 29.13 प्रतिशत वोट मिले थे. यानी 2 करोड़ 20 लाख 90 हज़ार 5 सौ 71 वोट.

यहां ये ध्यान रखना ज़रूरी है कि 2012 में नरेंद्र मोदी का प्रभाव बीजेपी में गुजरात के बाहर कहीं नहीं था और यूपी में तो पार्टी की हालत बेहद खराब थी. 2012 में बीजेपी को केवल 1 करोड़ 13 लाख 71 हज़ार 80 वोट मिले थे और बीजेपी का वोट प्रतिशत था 15.
अब अगर बात करें इसके 2 साल बाद आए लोकसभा चुनाव 2014 की तो 2014 में बीएसपी को उत्तर प्रदेश में 1 करोड़ 59 लाख 14 हज़ार 1 सौ 94 यानी 19.77 प्रतिशत वोट मिले थे. ये तब की बात है जब स्वामी प्रसाद मौर्य बीएसपी में थे और बीजेपी ने पहली बार उत्तर प्रदेश में अपनी धमक दर्ज कराई थी. इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को 3 करोड़ 43 लाख 18 हज़ार 8 सौ 54 वोट मिले थे. बीएसपी के 19.77 प्रतिशत के मुकाबले बीजेपी के वोट 42.63 प्रतिशत थे. यानी स्वामी प्रसाद मौर्य के रहते हुए भी बीजेपी को बीएसपी से डबल से भी ज्यादा वोट मिले थे. इसी लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी का प्रदर्शन देखें तो उसे 1 करोड़ 79 लाख 88 हज़ार 9 सौ 67 वोट मिले थ. एसपी का वोट परसेंटेज था 22.35. यानी 2014 में स्वामी प्रसाद मौर्य के बीएसपी में होते हुए भी समाजवादी पार्टी को बहुजन समाज पार्टी से भी ज्यादा वोट मिले थे.

इसके बाद 2016 में स्वामी प्रसाद मौर्य बीजेपी में आ गए और यूपी में अगला चुनाव आया 2017 में. इलेक्शन कमीशन की वेबसाइट पर दिए गए रिकॉर्ड के मुताबिक 2017 में कुल वोट पड़े 8 करोड़ 67 लाख 28 हज़ार 3 सौ 24. इलेक्शन कमीशन के रिकॉर्ड के मुताबिक 2017 में हुए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी को कुल वोट मिले थे 3 करोड़ 44 लाख 3 हज़ार 2 सौ 99. बीजेपी का वोट परसेन्टेज 39.66 प्रतिशत था. 2017 में समाजवादी पार्टी को 21.82 प्रतिशत के हिसाब से 1 करोड़ 89 लाख 23 हज़ार 7 सौ 69 वोट मिले थे. 2017 में बीएसपी को वोट मिले 1 करोड़ 92 लाख 81 हज़ार 3 सौ 40 और बीएसपी का वोट प्रतिशत था 22.23. यहां ध्यान दीजिए कि जब 2014 में स्वामी प्रसाद मौर्य बीएसपी में थे तब वो बीएसपी को कुल 19.77 प्रतिशत वोट दिला पाए थे लेकिन जैसे ही वो बीएसपी से बाहर आए तो उनके जाने के बाद अगले चुनाव में ही बीएसपी का वोट प्रतिशत बढ़ गया. वो 2014 के 19.77 प्रतिशत से बढ़कर 2017 में 22.23 प्रतिशत हो गया. यानी स्वामी प्रसाद मौर्य का जाना बीएसपी के लिए अच्छा साबित हुआ.


दूसरी तरफ 2019 के लोकसभा चुनाव के आंकड़ों पर नज़र डालें तो इसमें कुल 8 करोड़ 57 लाख 56 हज़ार 3 सौ 1 वोट डाले गए थे जिसमें से Bahujan Samaj Party को 19.42 Percent के हिसाब से 1 करोड़ 66 लाख 59 हज़ार 7 सौ 54 votes मिले. 2019 में Bharatiya Janata Party को 49.97 Percent के हिसाब से 4 करोड़ 28 लाख 58 हज़ार 1 सौ 71 Votes मिले. जबकि Samajwadi Party को 18.11 Percent के हिसाब से 1 करोड़ 55 लाख 33 हज़ार 6 सौ 20 votes हासिल हुए.


अब अगर 2019 के लोकसभा चुनाव की तुलना 2014 से करें जब स्वामी प्रसाद मौर्य बीएसपी में थे तो कई मजेदार आंकड़े निकल कर सामने आते हैं. जैसे 2014 में बीजेपी को लोकसभा की 71 सीटें हासिल हुई थीं जबकि बीएसपी को ज़ीरो सीट मिली थी. लेकिन जब 2019 में स्वामी बीजेपी में थे तो बीजेपी की सीटें घटकर 62 रह गईं और बीएसपी की सीटें 2014 के मुकाबले 10 बढ़ गईं. इन तमाम आंकड़ों को जानने के बाद अब आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि स्वामी प्रसाद मौर्य किसके वोट और सीटें घटवा सकते हैं और किसकी बढ़वा सकते हैं.

UP Election News 2022 यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की ख़बर

UP Election News 2022 यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की ख़बर

उत्तर प्रदेश में रायबरेली सदर विधानसभा सीट की एमएलए यानी मेम्बर ऑफ लेजिस्लेटिव एसेंबली अदिति सिंह ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है.

प्रियंका गांधी की प्रियंका मौर्य ने बीजेपी जॉइन कर ली है. प्रियंका मौर्य को प्रियंका गांधी के अभियान ”लड़की हूं, लड़ सकती हूं” का चेहरा बनाया गया था. उन्हें इस कैम्पेन में पोस्टर गर्ल के तौर पर यूज़ किया था लेकिन ”लड़की हूं, लड़ सकती हूं” अभियान के विपरीत उन्हें ही चुनाव लड़ने का मौका नहीं दिया गया. जब उन्हें लड़ने से मना कर दिया गया तो उन्होंने लखनऊ में बीजेपी की सदस्यता ले ली.

प्रियंका मौर्य ने कहा ”समाज सेवा के लिए मैं कांग्रेस से जुड़ी थी, मुझे कहा गया आप मेहनत करें फल ज़रुर मिलेगा। एक स्लोगन मिला लड़की हूं लड़ सकती हूं। मैं आज कहती हूं लड़की हूं लड़ने का हुनर रखती हूं, मेहनत भी की, परिणाम भी अच्छे आए पर मुझे लड़ने का मौका नहीं मिला”

प्रियंका ने कहा, मैंने क्षेत्र में बहुत काम किया है, लेकिन टिकट वितरण पूर्व नियोजित था। मुझे टिकट नहीं दिया गया, लेकिन मैं एक योग्य उम्मीदवार थी।

UP Election 2022 Ki News यूपी विधानसभा चुनाव 2022 लेटेस्ट न्यूज़

UP Election 2022 Ki News यूपी विधानसभा चुनाव 2022 लेटेस्ट न्यूज़

19 जनवरी 2022 की ख़बरें

दिल्ली: समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुईं।

लोकतंत्र में सभी स्वतंत्र होकर अपनी विचारधारा से जुड़ सकते हैं। देश को बचाना है तो राष्ट्रवाद के साथ चलना है, BJP राष्ट्रवाद के लिए अग्रसर रही है। पार्टी जहां से सुनिश्चित करेगी मैं वहां से लड़ूंगी। मेरे लिए ज़रूरी है कि BJP का परचम लहराए: BJP में शामिल होने के बाद अपर्णा यादव

मैं पार्टी को धन्यवाद करती हूं कि उन्होंने मुझे पार्टी का हिस्सा बनने का मौका दिया। मैं हमेशा से पीएम मोदी से प्रभावित रहती थी और मेरे चिंतन में हमेशा राष्ट्र सबसे पहले है और मेरे लिए राष्ट्र धर्म सबसे पहले हैं: बीजेपी में शामिल होने के बाद अपर्णा यादव

मुलायम सिंह की पुत्रवधू होने के बावजूद भी अपर्णा यादव ने अपने विचार रखे हैं। काफी दिनों की चर्चा के बाद उन्होंने भाजपा में शामिल होने का फैसला लिया: अपर्णा यादव के BJP में शामिल होने पर उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

मैं अपर्णा यादव जी का हृदय से स्वागत करता हूं। पश्चिम यूपी में चुनाव होने वाला है और SP के शासन में गुंडागर्दी को इतना महत्व दिया जाता है कि पश्चिम उ.प्र. में कोई बेटी सुरक्षित नहीं थी। अपर्णा को शुरू से लगता था कि योगी जी के शासन में एक अच्छा सुशासन है: स्वतंत्र देव सिंह,BJP

मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव का BJP में शामिल होना साबित करता है कि योगी आदित्यनाथ की सरकार में किस तरह से महिलाओं को सुरक्षा देने का काम हुआ है। मुलायम सिंह यादव की बहू हो या स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी दोनों ही BJP में सुरक्षित महसूस करती हैं:केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर

उनको(अपर्णा यादव) भाजपा, डबल इंजन की सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली पसंद आई। उन्होंने आज भाजपा की सदस्यता ली, हम उनका स्वागत करते हैं। हमें विश्वास है कि अपर्णा जी भाजपा के साथ मिलकर मज़बूती प्रदान करेंगी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ,गौतमबुद्ध नगर

मैं उन्हें (अपर्णा यादव) बधाई दूंगा और हमें खुशी है कि हमारी समाजवादी विचारधारा का विस्तार हो रहा है, मुझे उम्मीद है कि हमारी विचारधारा वहां पहुंचकर संविधान और लोकतंत्र को बचाने का काम करेगी। नेता जी (मुलायम सिंह यादव)ने उन्हें समझने की बहुत कोशिश की: अखिलेश यादव, SP

मैं आजमगढ़ की जनता से अनुमति लेकर ही चुनाव लडूंगा अगर चुनाव लड़ा तो क्योंकि वहां के लोगों ने मुझे जिताया था :अखिलेश यादव,SP

मुझे नहीं लगता कि वो चुनाव लड़ना पसंद करते हैं क्योंकि मैदान में जाने वाले लोग हमेशा मैदान में दिखते हैं.

वो(अखिलेश यादव) मन से चुनाव तो नहीं लड़ने जा रहें बल्कि वो भरे मन से चुनाव लड़ने जा रहे हैं क्योंकि BJP ने CM योगी जी और उपमुख्यमंत्री केशव जी को चुनाव लड़ाने की बात की तो इसे लेकर उनके पार्टी के सदस्यों ने जरूर सवाल किया होगा कि आप क्यों नहीं चुनाव लड़ेंगे? : उत्तर प्रदेश के मंत्री मोहसिन रज़ा

उत्तर प्रदेश में जनता कभी कहीं से भी कमीशन, भ्रष्टाचार को बढ़ावा नहीं देगी। दागियों और बागियों की जुगाड़ से विपक्ष का चौधरी बनने की जंग चल रही है। वो चाहते हैं कि उन्हें सत्ता की ताक़त मिले और वे फिर से पहले की तरह की अराजकता शुरु कर सकें: केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नक़वी

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपना दल और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन की भाजपा की घोषणा के बाद, अपना दल की प्रमुख अनुप्रिया पटेल, निषाद पार्टी के संजय निषाद, UP के CM योगी आदित्यनाथ, भाजपा प्रमुख जेपी नड्डा और अन्य लोगों की एक तस्वीर साझा की।

UP Election 2022 Ki News
UP Election 2022 Ki News यूपी विधानसभा चुनाव 2022 लेटेस्ट न्यूज़

भाजपा, निषाद पार्टी और अपना दल उत्तर प्रदेश में गठबंधन कर चुनाव लडेगी। ऐसा निर्णय हुआ है। भाजपा की दोनों पार्टियों के साथ सीट को लेकर चर्चा हुई है। हम सब एकसाथ मिलकर 403 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा, दिल्ली

अपनी पहली सूची के बाद समाजवादी पार्टी बैकफुट पर आ गई है। अब उनकी हिम्मत नहीं हो पा रही है कि वे दूसरी सूची जारी करें। जैसे इन्होंने माफिया और अपराधियों को पहली सूची में जगह दी है अगर ऐसे ही करते हैं तो जनता के सामने ये मुंह नहीं दिखा पाएंगे: उत्तर प्रदेश के CM योगी आदित्यनाथ

ममता बनर्जी का उत्तर प्रदेश जाने से समाजवादी पार्टी को कितना फायदा होगा वह मुझे नहीं पता लेकिन उनकी राजनीतिक छवी सनातनी के ख़िलाफ़ है। ममता बनर्जी जिस भी पार्टी से प्रचार करेंगी वह हारेगी। उत्तर प्रदेश में ममता बनर्जी की हिंदी भी कोई नहीं समझेगा: विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी

सीटों की चर्चा सार्थक दिशा में आगे बढ़ रही है। हम ज़ल्द ही सीटों की संख्या को सार्वजनिक करेंगे। 10 मार्च को उत्तर प्रदेश में एक बार फिर NDA की मज़बूत सरकार बनेगी। जिन सीटों पर हम जीत सकते हैं, उन सीटों पर हमारी पार्टी चुनाव लड़ेगी: अपना दल की अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल, दिल्ली

मैं आभारी हूं कि मुझे भाजपा में शामिल होने का मौका मिला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच और विजन बहुत अद्भुत है: भाजपा में शामिल होने के बाद दिवंगत CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत

चुनावी राज्यों में विपक्ष के लोगों के यहां छापे पड़ते हैं जिससे लोगों को डराया जा सके। क्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और गोवा के मुख्यमंत्रियों के रिश्तेदारों के यहां छापे नहीं पड़ते? भाजपा भी चुनाव लड़ती है उसके साथ केंद्रीय एजेंसी भी चुनाव लड़ती है: छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल

UP Election 2022 News यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की न्यूज़

UP Election 2022 News यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की न्यूज़

17 जनवरी 2022 की ख़बरें

उत्तर प्रदेश को ऑक्सीजन उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाने के लिए हमने प्रदेश में 551 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए हैं। राज्य के प्रत्येक ज़िले में एक समर्पित एकीकृत कोविड नियंत्रण केंद्र है: गाजियाबाद में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

योगी जी कह रहे थे कि वो मथुरा से चुनाव लड़ेंगे और फिर कहा कि अयोध्या से चुनाव लड़ेंगे। अब उन्हें अपने ही गृह शहर में भेजा गया है। योगी जी को गोरखपुर से टिकट देना ये दर्शाता है कि भारतीय जनता पार्टी कमजोर हुई है: महाराष्ट्र के मंत्री और NCP नेता नवाब मलिक

अखिलेश यादव को पूरा ध्यान चुनाव पर लगाना चाहिए। अखिलेश यादव को भी सबको साथ लेकर ये लड़ाई लड़नी होगी। अहंकार सबको डूबाता है। लोग बहुत बड़ी अपेक्षा के साथ अखिलेश को देख रहे हैं: शिवसेना नेता संजय राउत

उत्तर प्रदेश की टक्कर और चक्कर राजनीति में बहुत महत्वपूर्ण है योगी जी गोरखपुर से लड़े या अयोध्या से लड़े ये उनका अधिकार है। लेकिन देश में जो अराजकता है, गंगा में लाशों को बहते देखा गया, इससे ज़िंदा लोग तो उन्हें वोट नहीं देंगे: शिवसेना नेता संजय राउत

हमारे अनुसार भारत में कोविड फरवरी के अंत तक ख़त्म हो जाएगा। अब तक किसी बड़े राज्य ने कोविड पीक को पार नहीं किया है। कुछ राज्य अगले एक हफ्ते में कोविड पीक को पार करेंगे: IIT कानपुर के प्रोफेसर मनिंदर अग्रवाल, उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सभी ज़िला निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखा कि यदि कोई पति और उसकी पत्नी दोनों सरकारी सेवा में हैं, तो उनकी समस्या को देखते हुए दोनों में से किसी एक को उनकी प्रार्थना पत्र के आधार पर चुनाव ड्यूटी से मुक्ति किया जाए।

UP Election 2022 News यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की न्यूज़

उत्तर प्रदेश: आगामी विधानसभा चुनाव के संदर्भ में गोरखपुर में सुरक्षाबलों और पुलिस ने फ्लैग मार्च निकाला। सिटी SP सोनम कुमार ने बताया, “हम रोज़ यह फ्लैग मार्च कर रहे हैं ताकि चुनाव से जुड़े लोगों की समस्याओं को समझ सकें और लोगों को चुनाव के प्रति प्रेरित करे सकें।”

वैक्सीनेशन को कल 1 वर्ष पूरे हुए और दुनिया में प्रसन्नता व्यक्त की जा रही है कि भारत ने कोरोना को बेहतर ढंग से नियंत्रित किया है। लेकिन कुछ नेता लोगों को गुमराह कर रहे है कि ये बीजेपी की वैक्सीन है जबकि उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने चुपचाप वैक्सीन लगा ली: ब्रजेश पाठक, मंत्री, यूपी

मैंने उनकी (अखिलेश यादव) पत्नी डिंपल जी से अनुरोध किया कि आप अपने पति को भी वैक्सीन लगवा दीजिए ताकि जनता ये ना समझे कि ये कोरोना बढ़ाने वाले नहीं है बल्कि कोरोना बढ़ाने वाले लोग है: ब्रजेश पाठक, मंत्री, यूपी

नोएडा व दादरी विधानसभा में किसानों की समस्या बड़ी है। अभी तक इनके मुआवज़े का प्रकरण पूरा नहीं हुआ। इन्हें इनका मालिकाना हक़ नहीं मिला। कांग्रेस पार्टी सरकार बनती है तो इन्हें मालिकाना हक़ दिया जाएगा। लोग परिवर्तन की लहर चाहते हैं: नोएडा में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए बड़े-बड़े षडयंत्र और साजिश की जा रही हैं। हमारे परिवार की हमसे ज़्यादा चिंता भाजपा को है। हमारा घोषणा पत्र भाजपा के घोषणा पत्र के बाद आएगा: समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव, लखनऊ

UP Election 2022 News यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की न्यूज़

समाजवादी पार्टी के घोषणा पत्र में किसानों को सभी फसलों पर MSP, गन्ना किसानों को 15 दिन में उनका भुगतान, किसानों को सिंचाई के लिए बिजली मुफ्त, ब्याज़मुक्त लोन, किसानों के लिए बीमा एवं पेंशन की व्यवस्था को शामिल किया जाएगा: समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव, लखनऊ

जेवर में BJP विधायक धीरेंद्र सिंह के सामने RLD के अवतार सिंह भड़ाना

जेवर में BJP विधायक धीरेंद्र सिंह के सामने RLD के अवतार सिंह भड़ाना

जेवर से चुनाव लड़ेंगे भड़ाना?
धीरेंद्र सिंह को हरा पाएंगे?

जिस जेवर को बीजेपी एयरपोर्ट की वजह से डेवेलपमेंट और चुनावी जीत का प्लेटफॉर्म मान रही है उसी जेवर में बीजेपी को जाति की चुनौती देने आ चुके हैं पुराने कांग्रेसी अवतार सिंह भड़ाना. 2017 में बीजेपी के टिकट पर मुज़फ्फरनगर में विधायकी का चुनाव जीते अवतार सिंह भड़ाना बीजेपी के विधायक रहते हुए 2019 में कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ गए थे. हालांकि जब रिज़ल्ट आया तो भड़ाना को बीजेपी के कृष्ण पाल गुर्जर के हाथों लगभग साढ़े छह लाख वोटों के अंतर से हार झेलनी पड़ी.

जेवर में BJP विधायक धीरेंद्र सिंह के सामने RLD के अवतार सिंह भड़ाना
अवतार सिंह भड़ाना
जेवर में BJP विधायक धीरेंद्र सिंह के सामने RLD के अवतार सिंह भड़ाना
द्र सिंह के सामने RLD के अवतार सिंह भड़ाना
जेवर में BJP विधायक धीरेंद्र सिंह के सामने RLD के अवतार सिंह भड़ाना


पूर्व लोकसभा सांसद अवतार सिंह भड़ाना अब 12 जनवरी 2022 को अजीत सिंह के बेटे की पार्टी आरएलडी यानी राष्ट्रीय लोक दल में शामिल हो गए हैं. आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी से मीटिंग के बाद उन्होंने पार्टी जॉइन कर ली. आरएलडी के ट्विटर हैंडल से दोनों नेताओं के बीच मुलाकात की पिक्चर शेयर की गई. अवतार सिंह भड़ाना 2017 में पश्चिमी यूपी की मीरापुर विधानसभा सीट से विधायक बने थे लेकिन पिछले साल कथित किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए उन्होंने बीजेपी छोड़ने का ऐलान कर दिया था. अवतार सिंह भड़ाना किसान आंदोलन के दौरान काफी सक्रिय रहे थे.

अब किसान आंदोलन खत्म होने के बाद यूपी में विधानसभा चुनाव के लिए आरएलडी ने समाजवादी पार्टी से गठबंधन किया है. हालांकि दोनों पार्टियों में सीट बंटवारे को लेकर फाइनल डिसीजन नहीं हुआ है लेकिन अटकलें हैं कि अवतार सिंह भड़ाना आरएलडी के टिकट पर गौतम बुद्ध नगर की जेवर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं. यानी उत्तर प्रदेश की मीरापुर विधानसभा सीट से बीजेपी के निलंबित विधायक अवतार सिंह भड़ाना अब जेवर से समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के संयुक्त प्रत्याशी होंगे.


अवतार सिंह भड़ाना तीन बार फरीदाबाद लोकसभा सीट से और एक बार मेरठ लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर सांसद रहे हैं. दिल्ली में कांस्टीट्यूशन क्लब में आरएलडी नेताओं के साथ बैठक के बाद अवतार भड़ाना आरएलडी में शामिल हुए. अब अवतार सिंह भड़ाना का जेवर सीट से चुनाव लड़ना तय माना जा रहा है। जेवर गुर्जर बाहुल्य विधानसभा सीट है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में वोट 10 फरवरी को डाले जाने हैं.


अवतार सिंह भड़ाना 64 साल के हैं और हरियाणा में फरीदाबाद के रहने वाले हैं. इनका सियासी सफर काफी लंबा रहा है. कांग्रेस के टिकट पर वो फरीदाबाद से तीन बार और मेरठ से एक बार सांसद रह चुके हैं. 2017 में बीजेपी के टिकट पर उन्होंने मुजफ्फरनगर की मीरापुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और बहुत कम वोटों से चुनाव जीत सके.

भाजपा के विधायक रहते हुए अवतार भड़ाना ने 2019 के लोकसभा चुनाव में हरियाणा की फरीदाबाद सीट से कांग्रेस के सिंबल पर लोकसभा का चुनाव लड़ा और मौजूदा केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर से रिकार्ड वोटों से हार गए. ये हार 6 लाख से ज्यादा वोटों की हार थी. इसके बाद से अवतार भड़ाना बेचैन थे. उन्हें शायद अपने राजनीतिक भविष्य की चिंता सता रही थी. इसीलिए किसान आंदोलन के दौरान विधानसभा चुनाव की तैयारी के तहत भड़ाना का गौतमबुद्धनगर में आना जाना बढ़ता गया था. कई बार वो जेवर विधानसभा क्षेत्र के गांवों में भी गए और जाट और गुर्जर बिरादरी के लोगों के कार्यक्रम में भी शामिल हुए.

भड़ाना ने काफी पहले ही अपने इरादे जाहिर कर दिए थे कि वो जेवर से चुनाव लड़ना चाहते हैं.


जेवर की विधानसभा सीट पर बीएसपी का दबदबा रहा है. जेवर सीट पर 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के धीरेंद्र सिंह ने पूर्व मंत्री वेदराम भाटी को हराया था. अब 2022 में अगर बीजेपी धीरेंद्र सिंह को ही जेवर सीट से उम्मीदवार बनाती है तो उनका मुकाबला एसपी आरएलडी के गठबंधन के उम्मीदवार अवतार सिंह भड़ाना से हो सकता है.
अवतार भड़ाना के राजनीतिक सफर की शुरूआत की बात करें तो वो 1988 में बिना विधायक बने हरियाणा में देवीलाल की सरकार में मंत्री बन गए थे.


पूर्व उपप्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल जब 1988 में हरियाणा के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने अवतार भड़ाना का गुर्जरों में बढ़ता कद देखते हुए बिना विधायक बने ही उन्हें छह महीने के लिए मंत्री बना दिया था। इसके बाद अवतार भड़ाना 1991 में फरीदाबाद से सांसद बन गए। भड़ाना ने इस दौरान कांग्रेस के बैनर तले जम्मू-कश्मीर, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश की गुर्जर बिरादरी में अपनी पैठ बढ़ाई। भड़ाना को तब गुर्जरों का इमाम तक कहा जाने लगा था।


1989 में वो राजस्थान की दौसा सीट से जनता दल के टिकट पर कांग्रेस नेता राजेश पायलट के सामने चुनाव हार गए थे.
1991 में फरीदाबाद से वो कांग्रेस के टिकट पर पहली बार सांसद बने.
लेकिन 1996 में फरीदाबाद सीट से ही बीजेपी के रामचंद्र बैंदा से चुनाव हार गए.
1998 में भड़ाना को फरीदाबाद से कांग्रेस ने टिकट नहीं दिया तो वो समाजवादी जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ गए लेकिन एक बार फिर बीजेपी के रामचंद्र बैंदा ने उन्हें चुनाव हरा दिया.
इसके बाद 1999 में भड़ाना मेरठ से कांग्रेस के टिकट पर दूसरी बार सांसद बने।
2004 में फरीदाबाद से कांग्रेस के टिकट पर वो तीसरी बार सांसद बने।
2009 में फरीदाबाद से ही कांग्रेस के टिकट पर चौथी बार सांसद बने।
लेकिन 2014 में मोदी लहर में फरीदाबाद में कांग्रेस के टिकट पर बीजेपी के कृष्णपाल गुर्जर से हार गए
इसके बाद 2015 में भड़ाना ने कांग्रेस छोड़कर हरियाणा की इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी जॉइन कर ली.


फिर एक साल बाद 2016 में अवतार भड़ाना भाजपा में शामिल हुए और भाजपा की राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्य बने. अगले साल यानी 2017 में यूपी में हुए विधानसभा चुनाव में अवतार भड़ाना मीरापुर सीट से भाजपा के टिकट पर विधायक बने.


कहा जाता है कि अवतार भड़ाना की पत्नी ममता भड़ाना कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के काफी नजदीक हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के तत्कालीन महासचिव और हरियाणा प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा अवतार को टिकट देने के खिलाफ थे. तब भड़ाना के बदले फरीदाबाद से पूर्व विधायक ललित नागर को कांग्रेस का लोकसभा प्रत्याशी बनाया गया था. इसके बाद भड़ाना की पत्नी ममता ने ही प्रियंका गांधी से बात करके ललित नागर का टिकट कटवाकर अवतार को टिकट दिलवाया था। हालांकि इस चुनाव में भी अवतार सिंह भड़ाना बुरी तरह हार गए थे. अब वो आरएलडी की शरण में हैं.


वैसे अवतार भड़ाना के बड़े भाई करतार भड़ाना हरियाणा सरकार में दो बार मंत्री रह चुके हैं। करतार 1996 और 2000 में पानीपत के समालखा से विधायक बने। पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला मंत्रिमंडल में वो दो बार कैबिनेट मंत्री रहे. अवतार के भाई करतार भड़ाना 2012 में उत्तर प्रदेश के खतौली से राष्ट्रीय लोकदल के टिकट पर विधायक बन चुके हैं। फिलहाल करतार भड़ाना बीजेपी में हैं.वैसे 2019 के लोकसभा चुनाव में करतार ने भी मध्यप्रदेश के मुरैना में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के सामने बीएसपी के टिकट पर चुनाव लड़ा था लेकिन हारने के बाद 19 अक्टूबर 2019 को करतार भड़ाना बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने बीजेपी में शामिल हो गए थे।


उधर अवतार सिंह भड़ाना बीजेपी के विधायक होने के बावजूद अपने लिए रास्ते ढूंढने में लगे रहे हैं.


22 सितंबर 2021 को गौतमबुद्धनगर के दादरी में सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण होना था। इसमें प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए थे. उनके आने से पहले मिहिर भोज के नाम के आगे लिखा गुर्जर हटा दिया गया था जिसके बाद गुर्जर भड़क गए थे. योगी सरकार के खिलाफ गुर्जर बगावत पर उतर आए। अगले दिन चिटहेरा गांव में 25 हजार से अधिक गुर्जरों की पंचायत हुई। जिसमें अवतार सिंह भड़ाना भी अपने समर्थकों के साथ पहुंचे थे. बीजेपी विधायक अवतार सिंह भड़ाना ने तब अपने ही मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था.

अब भड़ाना आरएलडी के टिकट पर बीजेपी के प्रत्याशी के सामने चुनाव मैदान में उतरने को तैयार हैं. देखना होगा कि जेवर की जनता फिर से बीजेपी उम्मीदवार को चुनती है या अवतार सिंह भड़ाना को.

BJP Candidates for UP VidhanSabha Election 2022 SP उम्मीदवारों की लिस्ट

BJP Candidates for UP Vidhansabha Election 2022 SP उम्मीदवारों की लिस्ट

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 के लिए बीजेपी ने अपने 107 प्रत्याशियों के नाम का ऐलान कर दिया है. इन 107 प्रत्याशियों में से पहले चरण के 57 और दूसरे चरण के 48 प्रत्याशी हैं. इसके अलावा एक प्रत्याशी छठे चरण के लिए और एक प्रत्याशी पांचवें चरण के लिए घोषित किया गया है. सबसे बड़ी खबर ये है कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से चुनाव लड़ने जा रहे हैं. इसके अलावा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य कौशांबी की सिराथू सीट से चुनाव लड़ेंगे.

P Candidates for UP VidhanSabha Election 2022 BJP उम्मीदवारों की लिस्ट
BJP Candidates for UP VidhanSabha Election 2022 BJP उम्मीदवारों की लिस्ट

नीचे दिए गए लिंक में अलग-अलग पार्टियों के घोषित प्रत्याशियों के नाम हैं

https://docs.google.com/spreadsheets/d/e/2PACX-1vRQzMHRFViNKKrWTg4c-ogDbODhIscyMiQtcH8fxV0CUHJWli_41H2EeIbQinO2Xxpc6wk3coRD_hEl/pubhtml/sheet?headers=false&gid=1364275336

बीजेपी के उम्मीदवार और उनकी सीट

फहेतपुर सीकरी- चौधरी बाबूलाल
खेरागढ- भगवान सिंह कुशवाहा
बाह- रानी पक्षालिका सिंह
मथुरा- श्रीकांत शर्मा
बलदेव- पूरन प्रकाश जाटव
एत्‍मादपुर- धर्मपाल सिंह
आगरा कैंट- जीएस धर्मेश
आगरा दक्षिण- योगेंद्र उपाध्‍याय
आगरा नार्थ- पुरषोत्‍तम खंडेलवाल
आगरा रूरल- बेबी रानी मौर्या
कैराना- मृगांका सिंह
थानाभवन – सुरेश राणा
चरथावल- सपना कश्‍यप
पुरकाजी- प्रमोद उटवान
मुजफफरनगर- कपिल देव अग्रवाल

नोएडा- पंकज सिंह
दादरी- तेजपाल सिंह नागर
जेवर- धीरेंद्र सिंह
सिकंदराबाद- लक्ष्‍मीराज सिंह
बुलंदशहर- प्रदीप चौधरी
स्‍याना- देवेंद्र सिंह लोधी
डिबाई- सीबी सिंह
अनूपशहर- संजय शर्मा
शिकारपुर- अनिल शर्मा
खुर्जा- मीनाक्षी सिंह
सरधना- संगीत सोम
हस्तिनापुर- दिनेश खरीक
मेरठ कैंट- अमित अग्रवाल
किठौर- सत्‍यवीर त्‍यागी
मेरठ- कमल दत्‍त शर्मा
साउथ -सोमेंद्र तोमर

जिन विधायकों का टिकट कटा


1. नौगांवा सादत –  संगीता चौहान

2.  सिवाल खास –  जितेंद्र सिंह

3.  मेरठ कैंट –  सत्य प्रकाश अग्रवाल

4.  गढ़मुक्तेश्वर – कमल मलिक

5.  सिकंद्राबाद –  बिमला सोलंकी

6.  बुलंदशहर –  ऊषा सिरोही

7.  डिबाई –  अनीता लोधी

8.  खुर्जा –  विजेंद्र सिंह

9.  बरौली –  दलवीर सिंह

10. गोवर्धन –  कारिंदा सिंह

11. एत्मादपुर –  राम प्रताप सिंह

12. आगरा ग्रामीण –  हेमलता दिवाकर

13. फतेहपुर सीकरी –  चौधरी उदयभान

14. खैरागढ़ –  मुकेश गोयल

15. फतेहाबाद –  जितेंद्र वर्मा

16. बिथरी चैनपुर –  राघवेंद्र शर्मा

17. बरेली कैंट –  राजेश अग्रवाल

18. गोरखपुर –  राधा मोहन दास अग्रवाल

19. सिराथू –  शीतला प्रसाद

20. नवाबगंज –  केसर सिंह (निधन हो गया है)

इनका भी टिकट कटा (बीजेपी छोड़ कर चले गए थे)


नकुड़ –  धर्म सिंह सैनी

मीरापुर –  अवतार सिंह भड़ाना

बिल्सी –  आर के शर्मा

दो दलबदलू विधायकों को टिकट

नरेश सैनी –  बेहट (काग्रेस के विधायक थे)
 
सहेंद्र रमाला –  छपरौली (आरएलडी के विधायक थे)

UP Election Latest News Today यूपी चुनाव की ख़बरें

UP Election Latest News Today यूपी चुनाव की ख़बरें

उत्तर प्रदेश: CM योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में अमृतलाल भारती के घर पर खाना ​खाया। CM ने कहा, “मैं मकर संक्रांति के अवसर पर अपने अनुसूचित जाति के कार्यकर्ता अमृतलाल भारती और उनके परिवार को हृदय से धन्यवाद करता हूं जिन्होंने मुझे अपने घर में खिचड़ी सह-भोज पर आमंत्रित किया।”

UP Election Latest News Today यूपी चुनाव की ख़बरें
UP Election Latest News Today यूपी चुनाव की ख़बरें

इस तरह की ‘एंट्री और एग्जिट’ से भाजपा पर कोई फर्क नहीं पड़ता है। चुनाव का मौसम है तो कुछ लोग सियासी सैर करने के लिए निकल पड़ते हैं। यह नई चीज़ नहीं है। इस तरह के लोग कहीं टिकते नहीं है: उत्तर प्रदेश में कुछ नेताओं द्वारा भाजपा छोड़ने पर केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नक़वी

भाजपा जनता से फीडबैक लेकर टिकट देती और काटती है, जब आपको पता चलता है तो आप भागोगे। अखिलेश जी के यहां तो दरवाजे खुले हुए हैं, सबको भर्ती कर लो, हमें कोई ऐतराज नहीं है। परिणाम वो ही आएगा 300 पार: सिद्धार्थ नाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मंत्री

उत्तर प्रदेश में भाजपा का नेतृत्व सारी परिस्थितियों पर निगरानी रखे हुए है, उत्तर प्रदेश में इस्तीफा देना कोई बहुत आश्चर्यजनक नहीं है: मध्य प्रदेश के ग्वालियर में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (13.1.22)

इन लोगों के आने, जाने से कोई प्रभाव नहीं होने वाला है। हमारी पार्टी एकजुट होकर उत्तर प्रदेश के विकास में लगी है। पहले से भी ज़्यादा सीटें जीतकर भाजपा उत्तर प्रदेश में सरकार बनाएगी: उत्तर प्रदेश में कुछ नेताओं द्वारा भाजपा छोड़ने पर बिहार सरकार में मंत्री शाहनवाज हुसैन, दिल्ली

उत्तर प्रदेश: BSP कार्यकर्ता अरशद राणा यह दावा करते हुए फूट-फूट कर रोने लगे कि आगामी चुनावों के लिए पार्टी की तरफ़ से उन्हें टिकट देने का वादा किया गया था। लेकिन उन्हें अंतिम समय में टिकट से वंचित कर दिया गया। (13.01)

Uttar Pradesh: BSP worker Arshad Rana bitterly cries claiming that he was promised a ticket in UP election only to be denied ticket at the last moment despite putting up hoardings for the upcoming polls

I’ve been working for 24 years; was formally declared candidate from Charthawal in 2018 (for 2022 UP polls), have been trying to get in touch with party, no proper response; have been told to arrange Rs 50 lakhs…had already paid about Rs 4.5 lakh: BSP’s Arshad Rana

उत्तर प्रदेश: जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने अलीगढ़ में होने वाले धर्म संसद पर रोक लगाने के लिए चुनाव आयोग को पत्र लिखा है। जमीयत-ए-हिंद के ज़िला अध्यक्ष मौलाना मो. फाज़ील ने कहा,”22-23 जनवरी को धर्म संसद का आयोजन होना है हमारी चुनाव आयोग और राज्य सरकार से मांग है कि इसे ना किया जाए।”

दिल्ली: गोवा, मणिपुर, पंजाब, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों को लेकर चुनाव आयोग ने प्रेक्षकों की ब्रीफिंग बैठक की। इस बैठक में मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा भी मौजूद रहे।

उत्तर प्रदेश: विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए आगरा में नामांकन प्रक्रिया आज से शुरू हुई। नामांकन की प्रक्रिया सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक चली। SDM (शहरी) अंजनी कुमार सिंह ने बताया, “9 विधान सभा के नामांकन की व्यवस्था की गई है।”

उत्तर प्रदेश: भाजपा छोड़ने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी, भगवती सागर, विनय शाक्य, रोशन लाल वर्मा, मुकेश वर्मा, बृजेश कुमार प्रजापति समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए।

पिछले 5 सालों में पिछड़ों, दलितों का राजनीतिक, आर्थिक, रोजगार और आरक्षण के क्षेत्र में पूरी तरह से शोषण हुआ। इसे देखते हुए हम पिछड़े, ​दलित वर्ग के लोग मकर संक्रांति के समय समाजवादी पार्टी में शामिल होने जा रहे हैं: धर्म सिंह सैनी

मुझे लगता है कि सरकार के लोगों को पहले ही पता लग गया था कि स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी के साथ बड़ी संख्या में लोग आ रहे होंगे इसलिए हमारे मुख्यमंत्री पहले ही गोरखपुर चले गए। हालांकि उनकी 11 मार्च की किसी ने टिकट बुक कर रखी है: लखनऊ में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव

आज भाजपा के खात्मे का शंखनाद बज गया है। भाजपा ने देश और प्रदेश की जनता को गुमराह कर उनकी आंखों में धूल झोंकी है और जनता का शोषण किया है। अब भाजपा का खात्मा करके उत्तर प्रदेश को भाजपा के शोषण से मुक्त कराना है: स्वामी प्रसाद मौर्य

इस्तीफों का आंकड़ा बढ़ता जाएगा, ये तो शुरुआत है मेरी जानकारी है कि 10 मंत्री और इस्तीफा दे सकते हैं। जब अपने प्रमुख मंत्री ही छोड़कर जा रहे हैं तो समझ लीजिए कि ​हवा किस दिशा में जा रही है: उत्तर प्रदेश में भाजपा विधायकों के इस्तीफे पर संजय राउत, शिवसेना

15-18 साल के बीच आने वाले 43,55,278 बच्चों ने कोविड वैक्सीन की पहली डोज़ ले ली है: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, लखनऊ

अब तक 18 साल से ज़्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन की 13,54,55,942 पहली डोज़ दे चुके हैं। इनमें से 8,31,73,093 लोगों को दूसरी डोज़ दी गई। कल प्रदेश में 24,91,529 डोज़ लगाई गई। 2,69,636 लोगों को प्रीकॉशन डोज़ लगा चुके हैं: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद

24 घंटे में कोविड संक्रमण से प्रदेश में 3 लोगों की मृत्यु दर्ज़ की गई। पॉजिटिविटी दर 6.30% है। 24 घंटे में 2,54,044 सैंपल की जांच की गई। अब तक 9,58,05,123 सैंपल की जांच की गई है: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद

UP Election 2022 Latest News in Hindi Today यूपी चुनाव 2022 की ख़बर

UP Election 2022 Latest News in Hindi Today यूपी चुनाव 2022 की ख़बर

13 जनवरी 2022 की ख़बरें

उत्तर प्रदेश: समाजवादी पार्टी-रालोद गठबंधन ने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए 29 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम की सूची जारी की।

Samajwadi party candidate list for UP Vidhan sabha election 2022
Samajwadi party candidate list for UP Vidhan sabha election 2022
Samajwadi party candidate list for UP Vidhan sabha election
Samajwadi party candidate list for UP Vidhan sabha election 2022
Samajwadi party candidate list for UP Vidhan sabha
Samajwadi party candidate list for UP Vidhan sabha election 2022

I’ve given my resignation; met Akhilesh Yadav today, will join him. This govt is a liar, no development has been done. Soon, more people will join us: Chaudhary Amar Singh, MLA Apna Dal, Uttar Pradesh

हर चुनाव में हमने हर पार्टी में देखा है​ कि कुछ लोग आते हैं और कुछ लोग जाते हैं, कुछ लोग घबरा जाते हैं कि हो सकता है कि हम यहां से नहीं जीते। मुझे नहीं लगता कि ये ऐसी चीज है जिससे किसी भी पार्टी को घबराना चाहिए: प्रियंका गांधी वाड्रा, कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी आज उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपनी पहली सूची जारी करने जा रही है, 125 प्रत्याशियों की सूची है जिसमें से 50 महिलाएं हैं। हमने प्रयास किया है कि संघर्षशील और पूरे प्रदेश में नई राजनीति की पहल करने वाले प्रत्याशी हों. इस सूची में 40% महिलाएं और 40% युवा हैं। महिलाओं में कुछ पत्रकार, एक अभिनेत्री, कुछ संघर्षशील महिलाएं, ऐसी महिलाएं हैं जिन्होंने अपने जीवन में बहुत अत्याचार देखा और उसके खिलाफ लड़ा, कुछ समाजसेविकाएं हैं: प्रियंका गांधी वाड्रा

आज केंद्रीय चुनाव समिति की UP को लेकर बैठक संपन्न हुई। बैठक में 172 विधानसभा सीटों को लेकर चर्चा हुई। बैठक की अध्यक्षता राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने की। BJP ने 2017 में जैसी विजय प्राप्त की थी, 2022 में उससे भी शानदार विजय प्राप्त करेंगे: UP के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

चुनाव आयोग के आचार संहिता लगाने के बाद कोई मंत्री और विधायक नहीं रह जाता, उनकी जिम्मेदारी बनती है कि फिर से जनता के बीच जाकर जीत कर आएं। 5 साल जब सत्ता सुख भोगना था तो बीजेपी, गठबंधन और सिस्टम खराब नहीं था: BJP विधायकों के इस्तीफे पर संजय निषाद, निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष

जिनको टिकट नहीं मिलने की संभावना है वे जा सकते हैं। UP की राजनीति में ऐसा होता है। जिनको टिकट नहीं मिलने वाले हैं, वे इधर-उधर जाते हैं। हमारे पास ज़्यादा विधायक हैं तो हम कुछ विधायकों के टिकट काटेंगे. उनको पहले सूचना मिल जाती है तो वे दूसरे दलों में जाएंगे ही: कैलाश विजयवर्गीय, नेता, BJP

मैंने सोशल मीडिया पर देखा कि किसी व्यक्ति ने समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव के साथ मेरा फोटो एडिट करके पोस्ट किया है। ये मेरे राजनीतिक जीवन को बर्बाद करने का षड्यंत्र है। मैंने थाना सदर में शिकायत दी है: उत्तर प्रदेश सरकार में राज्यमंत्री जी.एस. धर्मेश (12.01)

आज हमने सभी राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों की बैठक बुलाई। सभी को निर्वाचन आयोग द्वारा लागू की गई आचार संहिता की जानकारी दी। कोविड दिशानिर्देशों का पालन करने का अनुरोध किया। ऑनलाइन नामांकन करने की ट्रेनिंग भी दी गई: प्रवीण कुमार लक्षकार, ज़िला चुनाव अधिकारी मिर्ज़ापुर (12.01)

थाना ब्रह्मपुरी में गैंगस्टर एक्ट के एक मामले की विवेचना में पता चला कि अभियुक्त साकिब ने अवैध तरीके से संपत्ति अर्जित की थी। 6 आवासीय संपत्तियां और 9 वाहन ज़ब्त किए गए हैं। अभियुक्त के खिलाफ वाहन कटान एवं वाहन चोरी के 10 से ज्यादा मामले दर्ज़ हैं: सूरज राय, एसपी मेरठ कैंट(12.01)

अहिंसा चौक से घंटाघर तक फ्लैग मार्च निकाला गया, इसमें हमारे सर्किल के तीनों थाने कवर किए गए। चुनाव को देखते हुए हम तैयारियां कर रहे हैं, उसी को देखते हुए ये फ्लैग मार्च किया गया: शिखर कुमार, एसीपी कानपुर नगर (12.01)

उत्तर प्रदेश के मंत्री धर्म सिंह सैनी ने इस्तीफा दिया।

इस्तीफा देने का सिलसिला 11 तारीख से चला था और यह रोज़ ऐसे ही चलता रहेगा। इस पार्टी में दलितों और पिछड़ों की उपेक्षा हो रही थी इसलिए हमने यह पार्टी छोड़ी है। 10 मार्च को पता चलेगा गरीबों के लिए किसने कितना किया है: धर्म सिंह सैनी

‘सामाजिक न्याय’ के एक और योद्धा डॉ. धर्म सिंह सैनी जी के आने से, सबका मेल-मिलाप-मिलन करानेवाली हमारी ‘सकारात्मक और प्रगतिशील राजनीति’ को और भी उत्साह व बल मिला है। सपा में उनका ससम्मान हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन!: अखिलेश यादव, SP

RLD प्रमुख जयंत सिंह ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और हापुड़ से चार बार विधायक रहे गजराज सिंह का अपनी पार्टी में स्वागत किया।

RLD प्रमुख जयंत सिंह ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और हापुड़ से चार बार विधायक रहे गजराज सिंह का अपनी पार्टी में स्वागत किया।

8 साल पुराने केस में मंत्रिमंडल से इस्तीफा देते ही दूसरे दिन गैर जमानती वारंट जारी हुआ। इस प्रकार से दर्जनों केस भी लगेंगे तो स्वामी प्रसाद मौर्य का मनोबल कमजोर नहीं होगा, ये जितना छेड़ेंगे हम उतनी ही तेजी से इनपर हमलावर होकर नेस्तनाबूद करेंगे: स्वामी प्रसाद मौर्य

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ एक औपचारिक बैठक हुई और मैंने अपने सहयोगियों से उनका परिचय कराया। आज परिचयात्मक कार्यक्रम में हमारे प्रमुख लोगों में 30-35 लोग मौजूद थे। 2017 से पहले जो भाजपा का 45 सीटों का आंकड़ा था हम उनको वहां ले जाएंगे: स्वामी प्रसाद मौर्य

लखनऊ: बीजेपी विधायक विनय शाक्य ने पार्टी से इस्तीफा दिया। विनय शाक्य ने अपने त्याग पत्र में लिखा, “स्वामी प्रसाद मौर्य दलितों की आवाज हैं और वह हमारे नेता हैं। मैं उनके साथ हूं।”

उत्तर प्रदेश: शिवसेना नेता संजय राउत ने भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत से मुजफ्फरनगर में उनके आवास पर मुलाकात की।

हम किसी के साथ गठबंधन नहीं करेंगे लेकिन हम चाहते हैं कि UP में परिवर्तन हो और परिवर्तन हो रहा है। अगर हमें UP में लड़ना हैं तो हमें किसानों का आशीर्वाद चाहिए:संजय राउत, शिवसेना

Best Life Shayari in Hindi बेस्ट लाइफ शायरी जिंदगी पर शायरी

Best Life Shayari in Hindi बेस्ट लाइफ शायरी जिंदगी पर शायरी

Subscribe to My Youtube Channel ”Arz Karta Hoon Shorts” for Best Shayari in Hindi

अक्ल खोपड़ी में रहे घुटने में नहीं

ज़िंदगी होश में कटे सपने में नहीं

रोज़ उड़ो लेकिन ज़मीन पर भी आओ

जो मज़ा अपनों में है अपने में नहीं

Best Life Shayari in Hindi
Best Life Shayari in Hindi बेस्ट लाइफ शायरी जिंदगी पर शायरी

AkL Khopdi Mein Rahe Ghutne Mein Nahin

Zindagi Hosh Mein Kate Sapne Mein Nahin

Roz Udo Lekin Zameen Par Bhi Aao

Jo Mazaa Apnon Mein Hai Apne Mein Nahin

सिर्फ अपने में ही मस्त न रहें अपनों में रहें.

Sirf Apne Mein Hee Mast Na Rahein Apnon Mein Rahein

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

12 जनवरी 2022 की खबरें.

मेरा तन, मन व जीवन BJP को समर्पित है। मेरा लेटर पैड इस्तेमाल कर साज़िश के तहत इसे वायरल किया गया है, मैं इसकी तहक़ीक़ात कराऊंगा। ये भ्रामक स्थिति फैलाई गई है।सदन के अलावा स्वामी प्रसाद मोर्या के साथ 7-8 महीने से मेरी कोई वार्ता नहीं हुई है. मैं इस मामले पर एफआईआर दर्ज़ करवाऊंगा। मैं इसके ख़िलाफ सख़्त कार्रवाई की भी मांग करता हूं: अपने इस्तीफे की ख़बर पर भदोही से भाजपा विधायक रविन्द्रनाथ त्रिपाठी, उत्तर प्रदेश

पंजाब दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक एक साजिश थी। पंजाब सरकार ने प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया। वहां ड्रोन या किसी भी तरह का हमला हो सकता था लेकिन पंजाब सरकार ने इस सब को नजरअंदाज किया। कांग्रेस को देश से माफी मांगनी चाहिए: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ

18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में अब तक 13,37,28,003 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज़ लग चुकी है और इनमें से 8,09,49,371 लोगों को दूसरी डोज़ लगी है, अब तक कुल 21,46,67,374 डोज़ दी गई है। कल प्रदेश में 15-18 साल के बच्चों में 34,25,659 को पहली डोज़ दी गई: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद

पिछले 24 घंटे में #COVID19 के 13,681 नए मामले सामने आए हैं। 700 लोग डिस्चार्ज हुए। 57,355 सक्रिय मामले हैं। कल कोविड से 3 लोगों की मृत्यु दर्ज़ की गई। पॉजिटिविटी दर 5.71% है। कल प्रदेश में 2,49,771 सैंपल की जांच की गई: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद

उत्तर प्रदेश की जनता नकारात्मक राजनीति से थक गई है। जो भेदभाद की राजनीति, नफरत की राजनीति, शोषण की राजनीति और लोगों का जो अपमान हुआ है इसके बदलाव व विकास की राजनीति के लिए स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह सपा के साथ खड़े हुए हैं: समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक यूपी में योगी सरकार से इस्तीफा देने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ है. मौर्य के खिलाफ एमपी-एमएलए कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. सुल्तानपुर की अदालत ने मौर्य को 24 जनवरी 2022 तक पेश होने का आदेश दिया है. स्वामी के खिलाफ आरोप है कि उन्होंने 2014 में हिन्दू देवी देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी. स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ यह नया गिरफ्तारी वारंट नहीं है. वारंट पहले से जारी था, लेकिन इन्होंने हाईकोर्ट से 2016 से इस पर स्टे ले रखा था. इसी 6 जनवरी को MP-MLA कोर्ट ने मौर्य को 12 जनवरी को हाजिर होने को कहा था, जब वह हाजिर नहीं हुए तो वारंट पहले की तरह जारी कर दिया गया.

उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री और भाजपा नेता दारा सिंह चौहान ने अपने पद से इस्तीफा दिया।

5 साल तक जिस पिछड़े, उपेक्षित, दलित लोगों की मदद और आशिर्वाद से BJP की सरकार बनी उन्हीं लोगों को इंसाफ, न्याय नहीं मिला। इससे आहत होकर मैंने इस्तीफा दिया है। जिस समाज से मैं आता हूं उन समाज के लोगों से चर्चा कर किसी पार्टी में शामिल होने का निर्णय लूंगा: दारा सिंह चौहान

14 जनवरी को आपको पता चलेगा और जो भी मेरे साथ पार्टी में शामिल होंगे उनके चेहरे आपके सामने आ जाएंगे। हम 2 दिन तक संवाद करेंगे: समाजवादी पार्टी में शामिल होने के सवाल पर स्वामी प्रसाद मौर्य, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

अभी हम में से कोई भी व्यक्ति किसी दल में शामिल नहीं हुआ है। आज और कल हमारी वार्ता होनी है, स्वामी प्रसाद मौर्य जिस भी दल में जाएंगे हम उसी दल में रहेंगे। कल कई विधायकों ने इस्तीफा दिया और आज थोड़ी देर बाद सिलसिला शुरू होने वाला है: बृजेश प्रजापति, पूर्व भाजपा विधायक

स्वामी प्रसाद मौर्य ने 5 साल में कभी कुछ नहीं बोला, चुनाव के पहले जाने का मतलब कुछ और भी होता है वो खुलासा वो खुद करें तो ज़्यादा अच्छा है। सपा और BSP की तुलना में BJP ने दलितों, गरीबों, पिछड़ों के लिए कई गुना ज़्यादा काम किया है: सिद्धार्थ नाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मंत्री

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में शिवसेना 50-100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। मैं कल पश्चिमी उत्तर प्रदेश का दौरा करूंगा: शिवसेना नेता संजय राउत

उत्तर प्रदेश चुनाव में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन होना तय है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी में ये फैसला लिया गया था। हमने जो सीटें मांगी हैं उस पर चर्चा की जाएगी: उत्तर प्रदेश चुनाव में NCP-समाजवादी पार्टी के गठबंधन पर NCP नेता नवाब मलिक

दिल्ली: सहारनपुर जनपद के बेहट से कांग्रेस विधायक नरेश सैनी, सिरसागंज से समाजवादी पार्टी के विधायक हरिओम यादव और सपा के पूर्व विधायक धर्मपाल यादव भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए।

हमारे मोर्चे के सभी राष्ट्रीय अध्यक्ष ने मिलकर तय किया है कि चरणबद्ध तरीके से सूची जारी होगी। अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने के लिए हम लोग प्रण लेकर जा रहे हैं। पहले और दूसरे चरण में हम चुनाव नहीं लड़ेंगे: सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर

हम चाहते थे कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और सपा का गठबंधन हो लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। लड़ाई सीधे-सीधे सपा और BJP के बीच सिमट कर आ गई है तो फैसला तो लेना पड़ेगा। हमने जनता की चाहत को देखते हुए ये फैसला लिया है: कांग्रेस छोड़ने और सपा में शामिल होने के सवाल पर इमरान मसूद, लखनऊ, UP

दिसंबर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और गृह मंत्री की रैली के दौरान एक युवक ने कुछ नारे लगाए थे, उसपर कुछ लोगों ने आपत्ति जाहिर की। व्यक्ति की सुरक्षा के लिए गनर उपलब्ध कराया गया है। अगर कोई धमकी मिलती है तो हम कार्रवाई करेंगे: आकाश तोमर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, सहारनपुर (11.01)

सोशल मीडिया से हमें एक वीडियो प्राप्त हुआ जिसमें कहा गया कि विधायक विनय शाक्य को ज़बरदस्ती उनके भाई और मां लखनऊ ले जा रहे हैं। मैंने स्वयं विधायक से बात की जिसमें पाया गया कि वे परिवार के साथ इटावा में अपने आवास पर हैं। वीडियो निराधार है: अभिषेक वर्मा, पुलिस अधीक्षक औरैया(11.01)

11 जनवरी 2022 की खबरें.

उत्तर प्रदेश: प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने आज लखनऊ में घर-घर जनसंपर्क अभियान की शुरुआत की।

हम जनता के बीच जा रहे हैं उनका सुझाव ले रहे हैं और अपना रिपोर्ट कार्ड भी साथ लेकर जा रहे हैं। 300 से ज़्यादा के नारे के साथ हम जनता का आशीर्वाद लेंगे और योगी जी के नेतृत्व में सरकार बनाएंगे: उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह

स्वामी प्रसाद मौर्य समाजवादी पार्टी में शामिल हुए।

मैं राजनीतिक व्यक्ति हूं तो किसी न किसी राजनीतिक पार्टी से वार्ता करनी ही होगी। हम किस से बात करेंगे ये हम अपने कार्यकर्ताओं, समर्थकों से बात करने के बाद तय करेंगे: समाजवादी पार्टी में शामिल होने के सवाल पर स्वामी प्रसाद मौर्य

मैंने दलितों, पिछडों, किसानों, बेरोजगार नौजवानों, छोटे, लघु, मध्यम व्यापारियों के ​खिलाफ सरकार के रवैये को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया: स्वामी प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया।

उत्तर प्रदेश: मंत्री बृजेश पाठक ने लखनऊ के कैबिनेट गंज में घर-घर जनसंपर्क अभियान चलाया। उन्होंने कहा, “जिस तरह से जनता ने हमें आशीर्वाद दिया है, मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि जनता BJP के साथ खड़ी है। हम पिछली बार से भी ज्यादा सीटें जीत कर सरकार बनाएंगे।”

10 जनवरी 2022 की खबरें.

विधानसभा चुनाव 2022 में 300 से अधिक सीट जीतने के लक्ष्य के साथ बीजेपी के कार्यकर्ता पूरे प्रदेश में संपर्क अभियान प्रारंभ करेंगे। पार्टी चुनाव आयोग के नियमों और कोरोना को ध्यान में रखते हुए 11 जनवरी से जन संपर्क अभियान शुरू करेगी: स्वतंत्र देव सिंह, BJP, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनाव संचालन समिति की बैठक में हिस्सा लिया।

कल प्रदेश में 2,01,465 सैंपल की जांच की गई और अब तक कुल 9,38,53,350 सैंपल की जांच की जा चुकी है: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद

पिछले 24 घंटे में प्रदेश में कोरोना के 8,334 नए मामले सामने आए हैं, 335 लोग डिस्चार्ज हुए और कोरोना से 4 लोगों की मौत हुई है। सक्रिय मामलों की संख्या 33,946 है: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद

जनपद आगरा में ​कुल 9 विधानसभा हैं, हर विधानसभा में आदर्श आचार संहिता लागू करने के लिए 24X7 टीमों का गठन कर दिया गया है। होर्डिंग्स को हटाने का काम किया जा रहा है और कल तक सब होर्डिंग्स हटा दी जाएंगी: प्रभु एन.सिंह, आगरा के ज़िलाधिकारी

आदर्श आचार ​संहिता का पालन करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविन सॉफ़्टवेयर पर फ़िल्टर लागू किया ताकि जिन 5 राज्यों में चुनाव होने हैं वहां वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर दिखाई न दे: सूत्र

आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर अयोध्या के ज़िलाधिकारी नीतीश कुमार, उप ज़िला निर्वाचन अधिकारी अमित सिंह और SSP शैलेश कुमार पांडे ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। SSP शैलेश कुमार पांडे ने बताया, “जनपद में निष्पक्ष और शांतिपूर्ण चुनाव कराने के लिए पुलिस प्रशासन प्रतिबद्ध है।”

जनपद अयोध्या में सभी 5 विधानसभा क्षेत्रों में पांचवें चरण में चुनाव होंगे। अभी तक जनपद में 93.16% वयस्क आबादी को वैक्सीन की पहली डोज़ और 55% से अधिक वयस्क आबादी को वैक्सीन की दोनों डोज़ लग चुकी हैं। हमारे यहां कुल 18,45,305 मतदाता हैं: अयोध्या के ज़िलाधिकारी नीतीश कुमार

अखिलेश यादव जानते हैं कि वे हारने वाले हैं, इसलिए बहाने ढूंढ रहे हैं। कल उन्होंने कहा कि डिजिटल चुनाव में संतुलन नहीं होगा, हमें डिजिटल प्रचार के लिए पैसा मिलना चाहिए। आज उन्होंने चुनाव आयोग को लिखा कि उ.प्र. सरकार के अधिकारियों को हटाया जाए: उ.प्र. के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह

8 जनवरी 2022 की खबरें.

उत्तर प्रदेश में चुनाव की तारीखों का ऐलान.

UP में पहला चरण 10 फरवरी,

दूसरा चरण 14 फरवरी 2022

तीसरा चरण 20 फरवरी 2022

चौथा चरण 23 फरवरी 2022

पांचवां चरण 27 फरवरी 2022

छठा चरण 3 मार्च 2022

सातवां चरण 7 मार्च 202210 मार्च 2022 को वोटों की गिनती होगी.

उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी को पहले चरण के मतदान होंगे, दूसरे चरण में 14 फरवरी को उत्तर प्रदेश के दूसरे चरण और पंजाब में एक चरण, उत्तराखंड में एक चरण, गोवा में एक चरण में मतदान पूरे होंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

तीसरे चरण में 20 फरवरी को उत्तर प्रदेश में तीसरे चरण के मतदान होंगे। चौथे चरण में 23 फरवरी को उत्तर प्रदेश में चौथे चरण के मतदान होंगे। पांचवे चरण में 27 फरवरी को उत्तर प्रदेश के पांचवें चरण और मणिपुर के पहले चरण के मतदान होंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

छठे चरण में 3 मार्च को उत्तर प्रदेश के छठे चरण और मणिपुर के दूसरे चरण के मतदान पूरे होंगे। उत्तर प्रदेश के 7वें और अंतिम चरण के मतदान 7 मार्च को पूरे होंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

10 मार्च को 5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की मतगणना होगी: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

सभी 5 राज्यों के चुनाव कुल सात चरणों में पूरे होंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

15 जनवरी 2022 तक किसी भी रोड शो, पदयात्रा, साइकिल रैली, बाइक रैली और जुलूस निकालने की अनुमति नहीं होगी। चुनाव आयोग स्थिति की समीक्षा करेगा और बाद में नए निर्देश जारी किए जाएंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

सभी चुनाव अधिकारियों और कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर माना और सभी पात्र अधिकारियों को प्रीकोशनरी डोज़ लगाई जाएगी: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

80 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिक, दिव्यांग व्यक्ति और कोविड-19 पॉजिटिव व्यक्ति पोस्टल बैलेट से मतदान कर सकते हैं: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

लोकतंत्र के महापर्व में प्रदेश के चुनाव की तिथियों की घोषणा का स्वागत। भारतीय जनता पार्टी डबल इंजन की सरकार की उपलब्धियों के आधार पर जनता जनार्दन के आशीर्वाद से प्रचंड बहुमत की सरकार बनाने में सफल होगी- योगी आदित्यनाथ

भारत निर्वाचन आयोग ने देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश समेत 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा की है। प्रधानमंत्री मोदी जी के मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश पिछले 5 वर्षों में बदलाव और विकास की एक नई राह पर चला है: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

नए भारत के नए उत्तर प्रदेश में हम लोकतंत्र के इस महापर्व का हृदय से स्वागत करते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए कि 10 मार्च 2022 को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के परिणाम में भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ जनता जनार्दन का आशीर्वाद प्राप्त करने में सफल होगी: योगी आदित्यनाथ, UP CM

देखिए! फर्क साफ है …राम का नाम हनुमान भी लेते थे, कालनेमि भी लेता था – योगी आदित्यनाथ

जैसी करनी वैसी भरनी… जो भारत की परम्परा और संस्कृति को नष्ट करने के लिए आए थे, आज उनका नामोनिशान मिट गया है – योगी आदित्यनाथ

हम लोग राजनीति में कुछ संकल्पों के साथ आए हैं… 1. राष्ट्रवाद के मुद्दे से कभी इधर-उधर नहीं होंगे। 2. सत्ता में रहेंगे तो सुशासन के लक्ष्य को हर हाल में प्राप्त करेंगे। 3. अगर हम सत्ता में हैं तो हर एक चेहरे पर खुशहाली लाने के लिए विकास को प्राथमिकता देंगे – योगी आदित्यनाथ

शास्त्र और शस्त्र, जब दोनों में समन्वय होगा तो राज्य की व्यवस्था चलती है – योगी आदित्यनाथ

‘एंटी सोशल और एंटी नेशनल एलिमेंट’ के साथ जीरो टॉलरेंस के तहत हमारी सरकार निपटती है – योगी आदित्यनाथ

वर्ष 2017 से पहले प्रदेश के अंदर आतंकवादी जहां मर्जी हो ​वहां विस्फोट कर लेते थे। मगर वर्ष 2017 के बाद प्रदेश में एक भी विस्फोट नहीं हुआ, एक भी दंगा नहीं हुआ। फर्क साफ है! – योगी आदित्यनाथ

वर्ष 2017 के बाद परिवर्तन आया है। आज पेशेवर दंगाई किसी बिल के अंदर छुपा हुआ है या दूसरे लोक की यात्रा पर जा चुका है – योगी आदित्यनाथ

People in Uttar Pradesh are set to bid farewell to the BJP government. These dates will mark a huge change in the state. Rules will be followed by Samajwadi Party, but the Election Commission should make sure the ruling party follows these guidelines: SP chief Akhilesh Yadav

ये तारीखें बदलाव की हैं। शुरुआत 10 फरवरी से हो रही है और 10 मार्च तक परिणाम आएगा। चुनाव आयोग द्वारा रखी गई शर्तों का पालन किया जाएगा। 10 मार्च के बाद यूपी से भाजपा का साफ होना तय है: चुनाव आयोग द्वारा 5 राज्यों में चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद SP अध्यक्ष अखिलेश यादव, लखनऊ

7 जनवरी 2022 की खबरें.

मौजूदा वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी में 9.2% की बढ़ोतरी का अनुमान है: भारत सरकार

आदरणीय प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन और @UPGovt के अथक प्रयासों से प्रदेश में कोविड टीके की रिकॉर्ड 21 करोड़ से अधिक डोज का सुरक्षा कवच प्रदान किया जा चुका है। यह ‘सुरक्षा कवच’ कोरोना की पराजय हेतु अत्यंत आवश्यक है। अतएव, अपनी बारी आने पर आप भी अवश्य लगवाएं ‘टीका जीत का’… : योगी आदित्यनाथ

कल प्रदेश में कोविड के लिए 2,19,256 सैंपल की जांच की गई। 18 वर्ष से अधिक आयु के 13,05,03,000 लोगों को पहली डोज़ और 7,68,83,945 से ज्यादा लोगों को दूसरी डोज़ भी लगाई जा चुकी है। 15-18 आयु वर्ग में 12,16,167 बच्चों को पहली डोज़ लगा चुके हैं: उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य

मैं पंजाब के किसानों से अपील करता हूं कि कम से कम प्रधानमंत्री जी को मंच पर तो जाने देते, मंच पर जाते और खाली कुर्सियां देखते तो उन्हें अच्छा लगता और खाली कुर्सियों पर भी भाषण देना चाहिए था, क्योंकि UP में भी उनके लिए सिर्फ खाली कुर्सियां हैं: सपा प्रमुख अखिलेश यादव, गोंडा,उ.प्र.

अयोध्या: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा-अर्चना की

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा-अर्चना की
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा-अर्चना की

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में पर्यटन और संस्कृत विभाग की 642 करोड़ रुपए की 488 विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया।

उत्तर प्रदेश ने 700 से अधिक पर्यटन स्थलों का सफलतापूर्वक विकास किया है और वहां पर जनसुविधाओं, आवागमन के साधनों का विकास भी किया है। अधिक लोगों को इसका लाभ और अधिक लोगों को रोज़गार मिल सके, इस दिशा में बहुत बड़ी सफलता प्राप्त की है: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश: CM योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या के डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय में छात्र-छात्राओं को टैबलेट-स्मार्टफोन बांटा। उन्होंने कहा, “जो कहते थे कि अयोध्या में परिंदा भी पर नहीं मार सकता,आज इस नए उ.प्र.के नई अयोध्या को देखने के लिए वे भी अपने को नहीं रोक पा रहे हैं।”

हम छात्र-छात्राओं को स्मार्टफोन और टैबलेट उपलब्ध करा रहे हैं। बहुत सारे गरीब बच्चों के मां-बाप टैबलेट और स्मार्टफोन का खर्चा उठाने में संकट होगा। सरकार डिजिटल एक्सेस के तहत टैबलेट-स्मार्टफोन के चलाने के खर्च को उन बच्चों को उपलब्ध कराएगी: उत्तर प्रदेश के CM योगी आदित्यनाथ,गोरखपुर

न केवल पढ़ाई के लिए बल्कि ऑनलाइन प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए भी इस टैबलेट का इस्तेमाल किया जाएगा। हमने प्रदेश से 10,000 छात्र-छात्रोओं को चुना है जो किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हों उनको निशुल्क कोचिंग की सुविधा उपलब्ध करवा रहे हैं: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

6 जनवरी 2022 की खबरें.

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में छात्रों को टैबलेट और स्मार्टफोन बांटे।

हम ये टैबलेट और स्मार्ट फोन UP के फाइनल ईयर, सेकंड ईयर, स्नातक प्रथम वर्ष, मेडिकल, पैरामेडिकल, फार्मेसी, नर्सिंग, पॉलिटेक्निक, ITI, इंजीनियरिंग से जुड़े और उन सभी बच्चों को देंगे जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, वाराणसी

माँ भारती के अमर सपूत, देश के प्रथम CDS जनरल बिपिन रावत जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए जनपद मैनपुरी स्थित सैनिक स्कूल का नाम ‘जनरल बिपिन रावत सैनिक स्कूल’ किया गया है: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

Bharatiya Janata Party forms 24-member state election committee for Uttar Pradesh Assembly elections.

Bharatiya Janata Party forms 24-member state election committee for Uttar Pradesh Assembly elections.

उत्तर प्रदेश: राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में नायब तहसीलदार और सहायक शिक्षकों के पद पर चयनित हुए उम्मीदवारों को नियुक्ति पत्र दिए।

चयन प्रक्रिया को एक समय सीमा के अंदर पूरा किया गया। चयन प्रक्रिया में किसी भी प्रकार की सिफ़ारिश, लेन-देन या किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं हुआ है, जो 2017 के पहले एक चुनौती उत्तर प्रदेश में थी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

Lucknow, UP | Allahabad High Court reserves order for January 11 in connection with Ashish Mishra’s bail, who is a prime accused in Lakhimpur Kheri incident

5 जनवरी 2022 की खबरें.

लिक्विड ऑक्सीजन की आवश्यकता क्या होती है ये हमें कोरोना महामारी के दौरान देखने को मिला। उत्तर प्रदेश की समस्या का समाधान करने के लिए ऑक्सीजन संयंत्र लगाने का निश्चय किया गया और उसकी आधारशिला रखी गई: लखनऊ में ऑक्सीजन संयंत्र के उद्घाटन के दौरान उत्तर प्रदेश CM योगी आदित्यनाथ

इस ऑक्सीजन प्लांट से उत्तर प्रदेश में 362 करोड़ से अधिक निवेश के साथ-साथ रोज़गार की संभावनाओं को भी आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में 5,799 करोड़ लागत की सिंचाई, बाढ़ नियंत्रण तथा पम्प नहर व नलकूप से संबंधित 227 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। उन्होंने कहा, “2017 में जब हमारी सरकार बनी थी, दशकों से सिंचाई की परियोजनाएं लंबित पड़ी थी।”

एक पार्टी द्वारा बालिकाओं की मैराथन आयोजित की गई थी। जिसमें जल्दी दौड़ने के कारण बालिकाओं में भगदड़ मची। मामले में सिटी मजिस्ट्रेट द्वारा एक तहरीर थाने पर भेजी गई है जिसमें धारा 188, 269, 270 IPC और 3 महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज़ किया गया है: रोहित सिंह सजवान, SSP बरेली,UP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पंजाब दौरे के दौरान उनकी सुरक्षा व्यवस्था के साथ जो खिलवाड़ पंजाब सरकार के संरक्षण में हुआ वह पंजाब में व्याप्त अराजकता और दुर्व्यवस्था का उदाहरण है। पंजाब सरकार को देश की जनता से इसके लिए माफी मांगनी चाहिए: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

Uttar Pradesh Congress has postponed its ‘Ladki Hun Lad Sakti Hun’ marathon due to rise in COVID cases 7 to 8 marathons were planned in Noida, Varanasi, and various other districts of the states in the coming days

UP Congress Committee writes to Chief Election Commissioner Sushil Chandra “to cancel big rallies in view of anticipated 3rd COVID wave…; suggests EC to stop PM, CM Yogi Adityanath from using govt machinery/money for inaugurations & making political statements at these events.”

People in Uttar Pradesh are not going to get hoaxed by the ‘laal topi’ leaders. We remember what SP, BSP, and Congress did to the state when they were in power. Akhilesh Ji will keep dreaming of forming government: State BJP chief Swatantra Dev Singh

उत्तर प्रदेश: राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के तहत लाभार्थियों को पेंशन बांटी।

एक साथ प्रदेश के 98 लाख 28,000 लाभार्थियों को बढ़ी हुई पेंशन राशि का एकमुश्त लाभ उपलब्ध कराया जा रहा है। 2,955.36 करोड़ रुपए की राशि डीबीटी के माध्यम से सीधे लाभार्थियों के खाते में जा रही है: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

यह अखिलेश यादव से पूछिए कि क्या वह वहां दर्शन करेंगे? आज कल तो टीका लोग लगा ही रहे हैं। पहले जो राम का अस्तित्व नकारते थे तो वह लोग मंदिर जा रहे हैं: सपा प्रमुख अखिलेश यादव के अयोध्या जाने पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह

उत्तर प्रदेश: केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेस वे का शिलान्यास किया।

इस नए एक्सप्रेस वे के बनकर तैयार हो जाने के बाद लखनऊ और कानपुर की दूरी घटकर सिर्फ आधा घंटा हो जाएगी। जैसे मुंबई और पुणे के बीच जिस प्रकार का हुआ उसी प्रकार का कानपुर और लखनऊ के बीच यातायात की व्यवस्था होगी: केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी

बिजली, पानी, परिवहन, दूरसंचार इनके बिना किसी भी राज्य का विकास नहीं हो सकता। उत्तर प्रदेश का विकास भी इसलिए नहीं हुआ था क्योंकि यहां इसके बारे में काफी गंभीर समस्याएं थीं। मैं घोषणा कर रहा कि हम उत्तर प्रदेश में 7 ग्रीन फील्ड एक्सेस कंट्रोल्ड एक्सप्रेस हाईवे बनाएंगे: नितिन गडकरी

मैं कहता था कि इस देश का किसान देश को ऊर्जा, पेट्रोल-डीजल का पर्याय देगा। हमने फ्लेक्स इंजन का ऑर्डर निकाला है। जिन गाड़ी निर्माताओं का 70% सेल है वह गाड़ियां अब फ्लैक्स इंजन में आएंगी जो पेट्रोल और बायो-इथेनॉल दोनों पर चलेंगी। इथेनॉल से राज्य की अर्थव्यवस्था बढ़ेगी: नितिन गड़करी

उत्तर प्रदेश में 2017 से पहले सिर्फ एक एक्सप्रेस वे था लेकिन जब से योगी जी ने उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के रुप में शासन की बागडोर संभाली है तब से 4 एक्सप्रेस वे का निर्माण तेजी से हो रहा है और 1 एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, लखनऊ

लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेस वे को एक सामान्य एक्सप्रेस वे के रूप में नहीं देखना चाहिए बल्कि इसे इकोनॉमिक कॉरिडोर के रूप में देखना चाहिए। ये एक्सप्रेस वे उत्तर प्रदेश में डिफेंस कॉरिडोर के लखनऊ-कानपुर नोड को एक हाई स्पीड कनेक्टिविटी भी प्रदान करने का काम करेगा: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

प्रदेश में वर्तमान में मतदाताओं की कुल संख्या 15,02,84,005(15 करोड़ 2 लाख 84 हज़ार 5) हो गई है: उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला

Uttar Pradesh | A total of 52,80,882 voters added to the list. Out of which 23,92,258 are men, 28,86,988 are women & 1,636 registered themselves as third gender. At present there are total of 1,74,351 polling stations in state: Chief Electoral Officer Ajay Kumar Shukla

4 जनवरी 2022 की खबरें.

UP CM Yogi Adityanath ने आज जनपद सहारनपुर में ₹199 करोड़ की 112 विकास परियोजना का लोकार्पण/शिलान्यास तथा देवबंद में आतंकवाद निरोधक दस्ता (ATS) इकाई/कमांडो ट्रेनिंग सेंटर का शिलान्यास किया।

I have ordered the city magistrate to investigate the matter and give a report soon: Manvendr Singh, District Magistrate Bareilly on stampede during Congress’ ‘Ladki hoon, Lad Sakti hoon’ marathon organised in the city today

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में 3,200 करोड़ से अधिक की नगरीय विकास परियोजनाओं का लोकार्पण किया और साथ ही प्रधानमंत्री आवास (शहरी) के 50,000 लाभार्थियों को 500 करोड़ से अधिक धनराशि का ऑनलाइन हस्तांतरण किया।

Today they are giving the slogan of ‘Ladki Hoon’. They ruled here for 50 years & could not provide medical facilities to women. Now again they are making false promises… We have given free ration, medical facilities to the poor: Union Minister Smriti Irani in Amethi, UP (03.01)

“Lord Sri Krishna comes to my dream every night to tell me that our party is going to form the government,” said Former UP CM and Samajwadi Party chief Akhilesh Yadav yesterday

Income Tax Department is conducting searches at the properties of real estate company ACE Group & its promoter Ajay Chaudhary in Delhi, Noida, Greater Noida, & Agra. Chaudhary is said to be close to a political leader of Uttar Pradesh: Sources

Uttar Pradesh: Income-Tax Department conducts raid at the premises linked to Mannu Alagh (aka Harsimran Singh Alagh), promoter of Nuova Group in Agra

मैं पांच साल में सहारनपुर की दर्जनों यात्रा कर चुका हूं। मेरे लिए जैसा लखनऊ वैसा ही सहारनपुर। पहले की सरकार आतंकवादियों के मुकदमों को वापस लेती थी, हम आतंकवादियों को ठोकने के लिए ATS का सेंटर बना रहे हैं: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

सहारनपुर के किसानों ने, नौजवानों ने, हस्तशिल्पियों नेअपनी मेहनत से सहारनपुर को पहचान दिलाई है। पहले की सरकारों के लिए सहारनपुर दूर होता था। 5 साल में अखिलेश यादव सहारनपुर एक बार भी नहीं आए होंगे: सहारनपुर में 112 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण करते हुए उ.प्र. CM योगी आदित्यनाथ

3 जनवरी 2022 की खबरें.

योगी आदित्यनाथ ने ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ को उत्तर प्रदेश में एक विजन के तौर पर बढ़ाया और उसी के कारण इस साल का अनुमान है कि उत्तर प्रदेश अकेला 2 लाख करोड़ रुपये का निर्यात करेगा: केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल

प्रदेश सरकार का बुलडोजर जब चलता है तो सपा के बबुआ को बुरा लगता है। जब माफियाओं की संपत्ति जब्त होती है तब उन्हें बुरा लगता है। भाई और बहन को जब माफियाओं पर बुलडोजर चलता है तो बुरा लगता है, ये क्यों हो रहा है। ये लोग आंतकवादियों के खिलाफ मुकदमों को वापस लेते हैं:उ.प्र. मुख्यमंत्री

अयोध्या में राम मंदिर क्या ये भाई बहन बना लेते? याद करिए सोमनाथ मंदिर के पुनरुद्धार कार्यक्रम में जब डॉ. राजेंद्र प्रसाद जा रहे थे तो इनके परनाना ने विरोध किया था, उन्होंने कहा कि ये नहीं करना चाहिए। ये लोग अयोध्या में राम मंदिर का भी विरोध कर रहे थे: उ.प्र. CM योगी आदित्यनाथ

अखिलेश जी ने कहा है कि योगी जी ने सत्यानाश कर दिया है। हम ये जरूर कहेंगे कि अखिलेश जी के भविष्य का सत्यानाश जरूर हुआ है। जो उन्होंने सोचा था कि माफियाराज करेंगे, आतंकियों को छोड़ देंगे और गुंडाराज होगा उनके इस सपने पर हमने पानी जरूर फेरा है: बीजेपी के अध्यक्ष जे.पी.नड्डा

सपा सरकार में 18,000 लोगों के मकान सिर्फ स्वीकृत हुए, दिए नहीं और हमने 43 लाख़ परिवारों को मकान, 2 करोड़ 61 लाख़ परिवारों को शौचालय दिया: अमेठी में राजकीय मेडिकल कॉलेज के शिलान्यास और 200 शय्या युक्त ज़िला स्तरीय रेफरल चिकित्सालय, तिलोई के लोकार्पण कार्यक्रम में CM योगी आदित्यनाथ

फर्क साफ है, एक ओर अखिलेश का कुशासन था और आज योगी जी का सुशासन है। उस समय भ्रष्टाचार की बदबू थी और आज ईमारदारी की खुशबू है और मैं अखिलेश जी को कहता हूं इत्र जितना भी लगाओ बदबू खुशबू में नहीं बदल सकती है: उत्तर प्रदेश के लखनऊ में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा

आज कल चर्चा हो रही है- मैं लड़की हूं, लड़ सकती हूं। आपको किसने मना किया है कि आप न लड़िये? लेकिन जब महिलाओं के लिए लड़ने की बारी थी तो आप कहा थे? तब 11 करोड़ परिवारों के पास शौचालय नहीं था: उत्तर प्रदेश के लखनऊ में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा

BJP Rajya Sabha MP Harnath Singh Yadav writes to party chief JP Nadda requesting him to consider fielding Uttar Pradesh CM Yogi Adityanath from Mathura in the upcoming Assembly elections

Income Tax Department takes SP MLC and perfume businessman Pushpraj Jain to the residence of his brother Atul Jain in Kanpur The department is conducting searches at the businessman’s properties

We are an ideological party. We are not here to rule but to implement our ideology. India had to carry Article 370 for 70 years due to a mistake committed by (former PM) Jawaharlal Nehru. It was a barrier in making J&K an integral part of India: BJP chief JP Nadda

Akhilesh (Yadav) Ji, you had withdrawn cases against 15 terrorists, but the court didn’t allow it. Four of them were sentenced to death and others were given life imprisonment. Akhilesh Ji, this is your real face: BJP chief JP Nadda in Basti, UP

Former MP from Amethi (Rahul Gandhi) doesn’t even know how to sit in a temple. The priest of the temple he had visited had to teach him how to sit. He doesn’t know what is Hinduism or ‘Hindutva’, & he is doing false propaganda:UP CM Yogi Adityanath during a public rally in Amethi

वर्ष 2017 के पहले माना जाता था कि आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां कुछ नहीं करती हैं। पिछली सरकार ने अपनी विफलता का ठीकरा उनके ऊपर फोड़ने का कार्य किया। आज वही आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां अपनी कार्य-कुशलता से प्रदेश को एक ‘स्वस्थ व समृद्ध उत्तर प्रदेश’ बनाने में अपना योगदान दे रही हैं-योगी आदित्यनाथ

भारतीय जनता पार्टी की सरकार जब से आई है तब से अल्पसंख्यकों का सबसे ज्यादा उत्पीड़न हो रहा है: ‘भाजपा द्वारा व्यापारियों के उत्पीड़न और जैन समाज’ से संबंधित अपने बयान पर अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने बस्ती में जन विश्वास यात्रा निकाली।

इनके ज़माने में पांच साल में 700 दंगे हुए थे। पलायन हुआ। लोग घर छोड़कर गए। मां-बेटियां सूर्यास्त के बाद घर से बाहर निकल नहीं सकती थीं। आज वे सम्मान और हिम्मत के साथ रात 12 बजे तक घूमती हैं। यह योगी आदित्यनाथ की सरकार ने दिया है: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा

हमने लोगों को जोड़ा है उन्होंने लोगों को बांटा। उन्होंने हमें धर्म के नाम पर बांटा। जिन्होंने देश का विभाजन किया उनके नाम को लेकर आज भी समाज को बांटने पर जुटे हैं, यह है अखिलेश यादव की सरकार और उनके लोग: बस्ती में रैली को संबोधित करते हुए BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा

पहले 5 साल के होने के बाद ही बच्चे का नाम बेसिक शिक्षा स्कूल में लिखाया जा सकता था। लेकिन नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू होने के बाद 5 साल से कम आयु वाले बच्चों का बुनियादी शिक्षा के लिए नामांकन हो सकेगा जिसकी बुनियादी शिक्षा के लिए हमारा आगनबाड़ी केंद्र होगा: CM योगी आदित्यनाथ

पूर्वी उत्तर प्रदेश में हर साल 1.5-2 हजार बच्चों की मस्तिष्क ज्वर की वजह से मृत्यु होती थी।आज पूर्वी उत्तर प्रदेश मस्तिष्क ज्वर से मुक्त हो चुका है। जो काम 40 वर्षों में नहीं हुआ वह कार्य हमने 4 वर्षों में किया: 754 आंगनबाड़ी केन्द्रों के शिलान्यास कार्यक्रम में CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में सिविल अस्पताल का दौरा किया। इस अस्पताल में 15-18 साल के बच्चों को कोविड वैक्सीन की डोज़ दी जा रही है।

प्रदेश में 15-18 साल के बच्चों की संख्या लगभग 1,40,00,000 हैं। उन्हें कोवैक्सीन देने के लिए कहा गया है। आज से प्रदेश में 2,150 केंद्रों में वैक्सीनेशन शुरू हुआ है। लखनऊ में 39 केंद्र बनाए हैं, जहां 15-18 साल के बच्चों को वैक्सीन की डोज़ दे रहे हैं: उत्तर प्रदेश CM योगी आदित्यनाथ

प्रदेश में अब तक ओमिक्रोन के सिर्फ़ 8 मामले आए हैं, जिसमें से 3 मामले पहले ही निगेटिव हो गए हैं। शेष मरीज़ होम आइसोलेशन में हैं। प्रदेश में कोविड के 2,261 सक्रिय मामले हैं, जिसमें से 2,100 से अधिक मरीज़ होम आइसोलेशन में हैं: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, लखनऊ

प्रदेश में 18 साल से ऊपर के 20,25,00,000 से अधिक लोगों को अब तक वैक्सीन की डोज़ दी गई है। जिसमें से 12,84,94,516 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज़ दी गई और 7,40,93,819 लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज़ दी गई है: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, लखनऊ

31 दिसम्बर 2021 की खबरें.

नफरत की दुर्गंध फैलाने वाले भाजपा के लोग, सौहार्द की सुगंध को कैसे पसंद करेंगे। ये समाजवादी इत्र बनाने वाले पुष्पराज जैन को ढूंढने गए थे और उन्होंने अपने ही साथी पीयूष जैन को ढूंढ निकाला: कन्नौज में अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष

पूरे पूर्वांचल का दौरा किया सब जगह ऐसी ही भीड़ दिखाई देती है और ये बताता है कि 2022 में होने वाले चुनाव में 300 पार होने वाला है: उत्तर प्रदेश के संतकबीर नगर में गृह मंत्री अमित शाह

सपा, बसपा, कांग्रेस, कम्युनिस्ट और ममता बनर्जी मिलकर धारा 370 हटने का विरोध कर रहे थे। 5 अगस्त 2019 को PM ने संसद में धारा 370 को उखाड़ कर फेंक दिया। अखिलेश यादव वोट मांगने आए तो पूछना कार सेवकों का दोष क्या था, आपकी सरकार ने क्यों गोली चलाई: केद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, अयोध्या

राज्य में पैसा पहले भी था लेकिन वह पैसा सत्ताधारी नेताओं की जेबों को भरने में लगाया जाता था। अब वह पैसा लोगों की दिवारों को तोड़कर निकाला जा रहा है। समाजवादी इत्र का नारा देने वाले प्रदेश में किस प्रकार की बदबू फैलाते थे: उत्तर प्रदेश CM योगी आदित्यनाथ, रायबरेली

अगर किसी व्यक्ति से समाजवादी पार्टी का मतलब पूछोगे तो वह यही बोलेगा कि जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो बैठा है कोई पेशेवर गुंडा. गाड़ी पर लगा सपा का झंडा ही अराजकता का प्रतीक है। कानपुर मेट्रो उद्घाटन के दौरान भी सपा कार्यकर्ताओं ने दंगा भड़काने का काम किया: योगी आदित्यनाथ

30 दिसम्बर 2021 की खबरें.

UP ATS ने अवैध धर्मांतरण में मौलाना कलीम सिद्दीकी, उमर गौतम और सलाऊद्दीन सहित UP आदि 8 प्रांतों से 17 आरोपी गिरफ़्तार किए। ATS ने लगभग 100 करोड़ से अधिक की राशि का बैंक और हवाला के माध्यम से आदान-प्रदान और धार्मिक ट्रस्टों के नाम पर इनकी संपत्तियों का खुलासा किया: UP DGP

-समाजवादी पार्टी और बसपा उत्तर प्रदेश को एक बार फिर से जंगलराज की ओर ले जाएंगे। उत्तर प्रदेश योगी जी के नेतृत्व में देश में दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना है: उन्नाव में गृह मंत्री अमित शाह

-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सारे काम छोड़ कर उत्तर प्रदेश में कैंप कर रहे हैं। पहले पश्चिम बंगाल में कैंप किया वहां मुंह की खानी पड़ी तो मैं समझता हूं कि वो जितना कैंप करेंगे उतनी जीतने की संभावना कम हो जाएगी क्योंकि जनता सब समझती है: राजस्थान CM अशोक गहलोत

-राज्य में अब तक मतदाताओं की कुल संख्या 15 करोड़ से अधिक है। अंतिम प्रकाशन के बाद मतदाता के वास्तविक आंकड़े आएंगे। अंतिम प्रकाशन के बाद भी अगर किसी का नाम ना आए तो वो क्लेम कर सकते हैं: लखनऊ में मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा

-उत्तर प्रदेश की पिछली सरकारें उत्तर प्रदेश में दंगाइयों को प्रश्रय देती थीं, अराजकता को बढ़ावा देती थीं और उत्तर प्रदेश को परिवारवाद की जागीर मानकर प्रदेश को अराजकता की आग में झोकने का कार्य कर रही थीं: महाराजगंज में योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

-आदरणीय प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने राष्ट्रवाद, सुशासन और विकास के मुद्दे पर कार्य किया है। समाज के प्रत्येक तबके को इस डबल इंजन की सरकार ने जोड़ा है। ‘डबल इंजन की सरकार है तो राशन का डबल डोज भी मिल रहा है- योगी आदित्यनाथ

-समाजवादी पार्टी तीन P(पी) के आधार पर चलती थी। परिवारवाद, पक्षपात, और पलायन। भाजपा तीन V(वी) के आधार पर चलती है। विकास, व्यापार और सांस्कृतिक विरासत। योगी जी के राज में कोई बाहुबली नहीं दिखता है केवल बजरंगबली दिखाई देते हैं: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश

-सपा, बसपा ने 15 साल राज किया। क्या हालत कर दी थी पश्चिमी उत्तर प्रदेश की। यहां से लोग पलायन करने लग गए थे। हाथी और साइकिल वालों ने भ्रष्टाचार की नोटों से बोरे भरने के अलावा कोई काम नहीं किया। विकास का काम भाजपा ने किया है: मुरादाबाद में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, उत्तर प्रदेश

-उस समय की सरकार में बैठे लोग गरीब का पैसा हड़प जाते थे और आज गरीब का वो ही पैसा दीवारों से निकल रहा है, जेसीबी लगाकर पैसा निकाला जा रहा है क्योंकि इन लोगों ने गरीब का पैसा लूटकर घरों में रख दिया था: महाराजगंज में योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

29 दिसम्बर 2021 की खबरें.

-Uttar Pradesh Govt issues notification to rename Jhansi Railway Station as Virangana Lakshmibai Railway Station

-We won’t get (Muslim) votes because we removed Article 370, built temples in Ayodha & Kashi & will build a temple in Mathura also. BJP doesn’t want votes of those who support terrorism, raise Pro-Pak slogans & dream of Sharia law in India: BJP MP Subrat Pathak in Kannauj

-Kanpur police have booked and arrested five people linked to Samajwadi Party for conspiring to create ruckus during Prime Minister Narendra Modi’s visit to Kanpur yesterday.

“Samajwadi Party suspends 5 of its members for alleged involved in yesterday’s incident in Kanpur,” says the party

UP| Today I want women to know what kind of politics is happening these days. Politics is done in the name of religion, caste but no work is done for women. You all have the power to change this type of politics: Congress general secretary, Priyanka Gandhi Vadra in Firozabad

-Housing and Urban Affairs Secretary Durga Shankar Mishra repatriated to Uttar Pradesh cadre to become next chief secretary of the state

-पिछले साढ़े चार सालों के अंदर हमने प्रदेश में 45 लाख ग़रीबों को एक-एक आवास दिया है। समाजवादी पार्टी की सरकार में एक भी ग़रीब को आवास नहीं मिला था। आवास का पैसा कहां चला गया। अब दीवारों से वहीं पैसा निकल रहा है: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, फ़र्रुख़ाबाद

-कांग्रेस पहले जब सत्ता में थी तो आतंकियों को प्रेरित और प्रोत्साहित करती थी और ये हिंदू संगठनों पर झूठे मुकदमे दर्ज करते थे और आज जब सत्ता से बाहर है तो हर उस कार्य का विरोध करते हैं जो कार्य जनता के हित के लिए हो: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, फ़र्रुख़ाबाद

-कांग्रेस ने देश में सर्वाधिक समय तक शासन किया। उस समय ये कैसे BJP कार्यकर्ता, नेता, RSS नेता, हिंदू नेताओं को झूठे मुकदमें में फंसाने का काम करते थे। आपने मालेगांव विस्फोट में देखा होगा। कांग्रेस की शरारत देश के ख़िलाफ़ अपराध है और कांग्रेस को मांफी मांगनी चाहिए: उत्तर प्रदेश CM

-प्रधानमंत्री यह मान लें कि नोटबंदी पूरी तरह से विफल रहा है जिससे गरीब पिट गया, छोटे व्यापार बरबाद हो गए, हज़ारों की तादाद में लोगों की नौकरी चली गई लेकिन इस तरह के लोगों के पास आज भी नोट हैं और आगे भी रहेगा: कानपुर में व्यवसायी पीयूष जैन के घर छापे पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी

गोरखपुर – उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलेक्ट्रिक बस सेवा का उद्घाटन करने के बाद बस में सवारी की।

-जब से कोविड आया तब से प्रदेश में एपिडेमिक एक्ट लगा है। एपिडेमिक एक्ट 2020 की अवधि 31 दिसंबर 2021 को खत्म हो रही थी। अब कोविड के मामले बढ़ रहे हैं इसलिए केंद्र और राज्य के एपिडेमिक एक्ट की अवधि को बढ़ा कर 31 मार्च 2022 तक लागू किया गया है: अमित मोहन प्रसाद, ACS स्वास्थ्य, UP

28 दिसम्बर 2021 की खबरें.

-हम सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और वो खुद का विकास, खुद पर विश्वास, अपने परिवार और जाति के लिए काम, ये उनका इतिहास है। उनका राज दंगों का राज था। आज योगी जी के राज में दंगई जेल में हैं। फर्क साफ है नेता ईमानदार और दमदार है: बदायूं में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा

अभी एक इत्र के समाजवादी व्यापारी पकड़े गए हैं, अखिलेश जी को बहुत मचलन हो रही है कि क्यों रेड डालते हो? घर में से 250 करोड़ रुपये निकले, अखिलेश जी ये रुपये कहां से आए: सुलतानपुर में गृह मंत्री अमित शाह

सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों इकट्ठा होकर आ जाएं तो भी हमें कोई परेशानी नहीं है क्योंकि तुष्टिकरण करने वाली ये जातिवादी पार्टियां कभी उत्तर प्रदेश का ​कल्याण नहीं कर सकतीं: उत्तर प्रदेश के सुलतानपुर में गृह मंत्री अमित शाह

उत्तर प्रदेश: मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा के नेतृत्व में चुनाव आयोग की एक टीम लखनऊ पहुंची। चुनाव आयोग की टीम आज से उत्तर प्रदेश के तीन दिवसीय दौरे पर है।

दशकों तक हमारे देश में यह स्थिति रही है कि एक हिस्से का तो विकास हुआ, दूसरा पीछे ही छूट गया। राज्यों के स्तर पर, समाज के स्तर पर इस असमानता को दूर करना उतना ही ज़रूरी है। इसलिए हमारी सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मंत्र पर काम कर रही है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

2014 से पहले यूपी में जितनी मेट्रो चलती थी उसकी कुल लंबाई 9 किलोमीटर थी। 2014-17 के बीच मेट्रो की लंबाई बढ़कर 18 किलोमीटर हुई। आज कानपुर मेट्रो को जोड़ें तो यूपी में मेट्रो की लंबाई अब 90 किलोमीटर से ज़्यादा हो गई है। कहां 9 किलोमीटर और कहां 90 किलोमीटर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

आज उत्तर प्रदेश के विकास में एक नया अध्याय जुड़ रहा है। आज कानपुर को मेट्रो कनेक्टिविटी मिलने के साथ ही बीना रिफाइनरी से भी कानपुर अब कनेक्ट हो गया है। दोनों परियोजनाओं के लिए पूरे उत्तर प्रदेश को बहुत-बहुत बधाई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कानपुर

कानपुर औद्योगिक शहर माना जाता था लेकिन स्वार्थ की राजनीति ने कानपुर के औद्योगिक स्वरूप को नष्ट कर दिया था। यहां अराजकता का तांडव प्रारंभ हुआ था: कानपुर में जन रैली को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

देश की पहली मेट्रो लाइन 2002 में शुरू हुई थी। कई लोग कहते हैं कि मेट्रो का काम उनके कार्यकाल में शुरू हुआ है। कानपुर मेट्रो का ये पहले खंड का दो साल पहले ही शिलान्यास हुआ था और आज इसका संचालन हो रहा है: कानपुर में केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के पूर्ण खंड का उद्घाटन किया और मेट्रो की सवारी की। इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे।

15 साल तक उत्तर प्रदेश में SP, BSP को राज करने का मौका दिया या नहीं। विकास हुआ क्या? गुंडे भागे थे क्या? गरीबों को अनाज मिलता था क्या? ये लोग विकास नहीं कर सकते। जैसे इत्र वाले के घर से 250 करोड़ रुपए मिले हैं, ऐसा भ्रष्टाचार ही ये कर सकते हैं: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, हरदोई

अखिलेश यादव की सरकार के कार्यकाल में 700 दंगे हुए थे। यही इनका ख़ानदान है इनके पास खाने के दांत अलग और दिखाने के दांत अलग हैं। CM रहते हुए अखिलेश यादव ने 15 आतंकवादियों के मामले वापस करवाए, कोर्ट भी इसके ख़िलाफ था: उत्तर प्रदेश के हापुड़ में BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा

27 दिसम्बर 2021 की खबरें.

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

10 people have been arrested after a few students of Sewa Bharti, Lohamandi area, were thrashed by some miscreants following an accident. Some anti-social elements were present in the area. Case registered in the matter, further investigation is underway: SSP Agra SK Singh

Lucknow | In view of the Uttar Pradesh Assembly polls, the Election Commission of India will be on a three-day visit to the state from December 28.

-GST इंटेलिजेंस महानिदेशालय (DGGI) अहमदाबाद ने CGST अधिनियम की धारा 67 के तहत इत्र व्यवसायी पीयूष जैन को गिरफ़्तार किया है। उनके पास से 187 करोड़ रुपए से अधिक की बेहिसाब नकदी, कच्चा और तैयार माल बरामद किया गया.

पीयूष जैन ने स्वीकार किया है कि रिहायशी परिसर से बरामद नकदी बिना जीएसटी के माल की बिक्री से जुड़ी है: जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय(DGGI)

उत्तर प्रदेश: कन्नौज में व्यवसायी पीयूष जैन के आवास पर GST इंटेलिजेंस महानिदेशालय (DGGI) की छापेमारी

-अब समझ आया होगा कि बुआ-बबुआ नोटबंदी का विरोध क्यों करते थे क्योंकि प्रदेश को लूट कर इन लोगों ने अपने घरों की दीवारों में नोट कैद करके रखे हुए थे: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

-हमारे प्रदेश अध्यक्ष जी ने कहा था “यह ‘समाजवादी इत्र’ नहीं, ‘समाजवादी बदबू’ है, जो प्रदेश में फैलाई जा रही है”…

-बबुआ को इस बात की चिढ़ हो गई है कि UP के नौजवानों को स्मार्टफोन और टैबलेट क्यों मिल रहे हैं? ये स्मार्टफोन गरीब, प्रदेश की बेटियों के हाथ में आए, टैबलेट का लाभ ऑनलाइन शिक्षा के लिए हमारे नौजवान को मिले ये समाजवादी खानदान कैसे बर्दाश्त कर सकता है: सीतापुर में योगी आदित्यनाथ, UP CM

-मैंने आज तक सुना और धार्मिक ग्रंथों में ये बात देखता था कि देवी लक्ष्मी दीपावली के दिन दीपोत्सव के साथ आती हैं लेकिन इन पापियों ने उन्हें दीवारों में बंद करके रखा है। सपा नेताओं के घरों में दीवारों से भी अब देवी लक्ष्मी निकलने लग गई हैं: सीतापुर में योगी आदित्यनाथ, UP CM

-आज यहां 554 करोड़ रुपए विकास पर खर्च हो रहे हैं। ये पैसा 5 साल पहले विकास पर खर्च नहीं होता था, ये पैसा दलालों के हाथों में जाता था और दीवारों में चिन लिया जाता था। आज आयकर विभाग उस पैसे को निकाल रहा है, अब वह पैसा गरीब का घर बनाने में खर्च होगा: उत्तर प्रदेश CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में ‘साहिबजादा दिवस’ में हिस्सा लिया और गुरूद्वारे पहुंचकर मत्था टेका।

देश और दुनिया में सिख कौम को अपने पुरुषार्थ के लिए जाना जाता है। लेकिन भारत को गुलाम बनाने की मंशा और भारत को इस्लाम में बदलने की मंशा से जो आए थे, आज उनका नाम और निशान मिट गया है। भारत की गुरू परंपरा सामान्य परंपरा नहीं एक दिव्य परंपरा है: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

Maharaja Ranjit Singh brought 2 tons of gold & transformed Kashi Vishwanath Temple into the Golden Kashi Vishwanath Temple. Aurangzeb broke the temple but Maharaja Ranjit Singh made the temple golden: CM Yogi Adityanath in a program organized on the occasion of ‘Sahibzada Day’

दिल्ली: उत्तर प्रदेश के भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर आज दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा से मुलाक़ात की।

25 दिसम्बर 2021 की खबरें.

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

पहले की सरकार संस्कृत के शिक्षक नहीं रखती थी, वो उर्दू के अनुवादक रखते थे और ऐसे लोग रखते थे जिन्हें खुद उर्दू नहीं आती थी। अभी जो पैसे आवास योजना के तहत दिए जा रहे हैं वो पहले भी दिए जा सकते थे। लेकिन पहले उन पैसों को इकट्ठा करके खा लिया जाता था: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

-उत्तर प्रदेश में हर समाज के पास उनका अपना नेता है। उनकी सियासी पहचान और ताक़त है। उ. प्र. में अगर किसी बिरादरी का नेता नहीं है तो वो है यहां के 19% मुसलमान। ये हिस्सेदारी की लड़ाई है, आप अपने वोट की ताक़त से अपने सियासी नेतृत्व को बनाए: फिरोज़ाबाद में AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी

-प्रदेश के युवाओं के साथ खिलवाड़ करने वाले की जगह जेल होगी। आज माफियाओं की अवैध कमाई पर जब बुलडोजर चलता है तो उनके संरक्षणदाताओं के भी होश उड़ते हुए दिखाई देते हैं: UP CM योगी आदित्यनाथ.

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के अवसर पर उनके पैतृक आवास बटेश्वर में आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। UP CM योगी आदित्यनाथ-श्रद्धेय अटल जी की जयंती ‘सुशासन दिवस’ के अवसर पर उनके पैतृक गांव बटेश्वर धाम में जनपद आगरा की ₹230 करोड़ लागत की 11 लोक-कल्याणकारी परियोजनाओं का लोकार्पण/शिलान्यास.

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य- ‘मैं भाजपा का आम कार्यकर्ता हूं और भाजपा का कार्यकर्ता कोई इच्छा व्यक्त नहीं करता है। संगठन का आदेश ही हमारे लिए सर्वोपरी होता है। चुनाव के बाद हो सकता है मुझे डिप्टी सीएम ही बनाया जाए या फिर संगठन में कोई दायित्व मिल जाए। जो भी पार्टी का फैसला होगा वो मान्य होगा।’

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ से प्रदेश में एक करोड़ मुफ्त टैबलेट, स्मार्टफोन वितरण अभियान का शुभारंभ किया। इस दौरान उनके साथ केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद रहे।

पहले सरकारी नियुक्तियां में भाई-भतीजावाद होता था। नौकरी निकलते ही एक खानदान, वंश के लोग वसूली पर निकल पड़ते थे। महाभारत का कोई रिश्ता नहीं छूटता था जो वसूली पर नहीं निकलता था। शकुनी मामा, दुर्योधन भांजा, दुशासन और कहीं कोई भतीजा निकल पड़ता था: उत्तर प्रदेश CM योगी आदित्यनाथ

कोरोना के समय देखा कि तकनीक का व्यक्ति के जीवन में बड़ा महत्व है। बच्चे बताते थे कि स्मार्टफोन, टैबलेट न होने की वजह से पढ़ाई नहीं हो पा रही है। तब हमने तय किया कि राज्य के 1 करोड़ युवाओं को टैबलेट देने की सुविधा से जोड़ेंगे: राज्य के मुख्यंमंत्री योगी आदित्यनाथ, लखनऊ

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर लखनऊ में उन्हें श्रद्धांजलि दी। Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath, state election in-charge & Union Minister Dharmendra Pradhan pay floral tribute to former PM Atal Bihari Vajpayee in Lucknow on his birth anniversary.

-Can a dead fish pollute the entire pond? It can’t. So if any individual or public representative has caused pain to you, we apologize for that. But don’t let your anger harm the state & the country: Union Minister Niranjan Jyoti in Banda (24.12.2021)

24 दिसम्बर 2021 की खबरें.

-महाराजा सुहेलदेव जी के अनुयायी सालार मसूद के अनुयायियों से हाथ मिलाएंगे क्या? कोई सच्चा राष्ट्रभक्त आक्रांताओं के समक्ष सिर कभी नहीं झुका सकता, न अपने पथ से हटेगा और न डिगेगा।

-आदरणीय प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी का कहना है कि श्री अयोध्या जी को ऐसी नगरी के रूप में विकसित करना है, जो दुनिया की सबसे सुंदरतम नगरी हो। हम लोग इस आह्वान को पूर्ण करने की दिशा में वर्ष 2017 से सतत क्रियाशील हैं।

-माननीय केंद्रीय मंत्री श्री @sarbanandsonwal जी से आज मैंने श्री अयोध्या जी को जलमार्ग से जोड़ने की बात कही है। यदि सरयू नदी जलमार्ग से जुड़ जाती है तो श्री अयोध्या जी की भव्यता तो बढ़ेगी ही, यहां के किसानों की उपज भी देश व दुनिया की मंडी तक आसानी से पहुंच सकेगी। प्रिय प्रदेशवासियों, देश के विभिन्न राज्यों में कोविड के मामलों में बढ़ोतरी के दृष्टिगत कल से प्रतिदिन, रात्रि 11 बजे से प्रातः 05 बजे तक प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू प्रभावी रहेगा। हम आपकी सुरक्षा हेतु सभी आवश्यक कदम उठा रहे हैं। कोविड गाइडलाइंस का पालन करें। मास्क जरूर लगाएं।

-उत्तर प्रदेश: केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड(CBIC) के अध्यक्ष विवेक जौहरी के मुताबिक छापेमारी में लगभग 150 करोड़ रुपये की नकदी ज़ब्त की गई है। अभी भी नोटों की गिनती की जा रही है।फर्ज़ी बिल और क्रेडिट का मामला है। हमने पाया कि 2-3 पार्टी बिना बिल के माल निकाल रही थी। फर्ज़ी बिलों के माध्यम से सामान को उसकी असल किमत से कम बताया गया है। मामले में कार्रवाई जारी है: कानपुर में हुए छापे पर केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड(CBIC) के अध्यक्ष विवेक जौहरी

-उन्होंने मान लिया है कि उन्होंने बिना टैक्स चुकाए और बिना इनवाइस काटे माल निकाला था और लगभग 3 करोड़ टैक्स चुका दिया है। लगभग 150 करोड़ रुपये की नकदी बरामद की गई है, गिनती जारी है। अभी तक कोई गिरफ़्तारी नहीं हुई है। कानपुर और उन्नाव में सर्च चल रहा है: विवेक जौहरी, अध्यक्ष, CBIC

-हमें जानकारी मिली है कि पान मसाला और जी कंपनी त्रिमूर्ति फ्रेग्रेंस बिना इनवाइस और बिना टैक्स चुकाए मटेरियल का परिवहन कर रही है। हमने लगभग 150 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की है, अभी गिनती जारी है: विवेक जौहरी, अध्यक्ष, केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड(CBIC)

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

23 दिसम्बर 2021 की खबरें.

-उ.प्र. के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आज 69,000 सहायक अध्यापक भर्ती में आरक्षण की विसंगति को लेकर आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों ने मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए बेसिक शिक्षा विभाग को समस्या के त्वरित एवं न्यायसंगत समाधान हेतु निर्देश दिए: उ.प्र. मुख्यमंत्री कार्यालय

-भविष्य में भी जो देश को तोड़ने का काम कर रहा होगा। चाहे सीमा पार से कर रहा होगा या सीमा के अंदर कर रहा होगा उसके ख़िलाफ़ क़ानून के तहत कड़ी कार्रवाई की जाएगी: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, आगरा, उत्तर प्रदेश

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी
UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

ये 20 यूट्यूब चैनल जो बंद किए गए हैं। ये 20 यूट्यूब चैनल किसके थे। सीमा पार पाकिस्तान में बैठकर भारत को बांटने का काम करने वालों के। जो भ्रम, भय फैलाते थे, देश को तोड़ने का काम करते थे। उनके ख़िलाफ़ क़ानून के तहत कार्रवाई की है: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, आगरा, उत्तर प्रदेश

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

-अखिलेश यादव ने ट्वीट कर मांग की है कि चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न दिया जाना चाहिए। जिस तरह से अखिलेश यादव ने वकालत की है आज रात लखनऊ में योगी आदित्यनाथ और दिल्ली में नरेंद्र मोदी को नींद नहीं आने वाली है: अलीगढ़ में जनसभा को संबोधन के दौरान राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी

UP Election 2022 Latest News in Hindi यूपी चुनाव 2022 की ताज़ा जानकारी

-उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल की एक संयुक्त जनसभा के दौरान मंच की रेलिंग टूटने से भगदड़ हुई। इस दौरान राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी भी मंच पर मौजूद थे।

-उत्तर प्रदेश: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने वाराणसी दौरे के दौरान सरकार द्वारा मिलने वाली योजनाओं के लाभार्थियों के साथ संवाद किया। इस दौरान उनके साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौज़ूद थे।

Jewar Airport Metro Latest News ग्रेटर नोएडा से जेवर तक मेट्रो

Jewar Airport Metro Latest News ग्रेटर नोएडा से जेवर तक मेट्रो

ग्रेटर नोएडा से जेवर तक मेट्रो
DPR 31 दिसम्बर तक ?

गौतम बुद्ध नगर के जेवर में बनने वाला नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट शायद दुनिया का इकलौता ऐसा एयरपोर्ट होगा जिसकी कनेक्टिविटी बेजोड़ होगी. ये एयरपोर्ट मेट्रो ट्रेन कनेक्टिविटी, बुलेट ट्रेन कनेक्टिविटी, 4 एक्सप्रेसवेज़ की कनेक्टिविटी, और पॉड टैक्सी कनेक्टिविटी वाला एयरपोर्ट होगा.

Jewar Airport Metro Latest News ग्रेटर नोएडा से जेवर तक मेट्रो
Jewar Airport Metro Latest News ग्रेटर नोएडा से जेवर तक मेट्रो

खास बात ये है कि मेट्रो और बुलेट ट्रेन के स्टेशन जेवर एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग में ही बनाए जाने की संभावना है. जेवर एयरपोर्ट बनाते समय एयर ट्रैवलर्स की हर सुविधा का ख्याल रखा जा रहा है.

JEWAR AIRPORT की मेट्रो कनेक्टिविटी से जुड़ी ताज़ा ख़बर ये है कि ग्रेटर नोएडा से नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट तक बनने वाले मेट्रो प्रोजेक्ट की डीपीआर जल्द तैयार होने की उम्मीद बढ़ गई है. ये डीपीआर यानी DETAILED PROJECT REPORT 2021 के अंत तक यानी 31 दिसंबर 2021 तक तैयार होने की संभावना है.

DMRC यानी DELHI METRO RAIL CORPORATION इस मेट्रो प्रोजेक्ट की DPR बना रही है. DPR बनाकर DMRC इसे YAMUNA AUTHORITY को सौंप देगी. YAMUNA AUTHORITY को डीपीआर मिलने के बाद आगे का काम किया जाएगा.

मीडिया रिपोर्ट्स में YAMUNA AUTHORITY के अधिकारियों का बयान है कि एयरपोर्ट से मेट्रो की कनेक्टिविटी की योजना पर काम जारी है। पहली DPR में ग्रेटर नोएडा से जेवर तक 25 मेट्रो स्टेशन तैयार करने की योजना थी, लेकिन बाद में इसमें बदलाव करते हुए मेट्रो स्टेशनों को कम करने का फैसला लिया गया.

Jewar Airport Metro Latest News ग्रेटर नोएडा से जेवर तक मेट्रो
Jewar Airport Metro Latest News ग्रेटर नोएडा से जेवर तक मेट्रो

अब DMRC डीपीआर में संशोधन का काम कर रही है. डीपीआर तैयार होने के बाद फंडिंग से लेकर अन्य जरूरी संसाधनों पर काम होगा। संभावना है कि 31 दिसंबर तक इसकी संशोधित डीपीआर तैयार हो जाएगी। ग्रेटर नोएडा से जेवर एयरपोर्ट तक लगभग 35 किलोमीटर लंबा मेट्रो ट्रैक बन जाने से एयरपोर्ट से मेट्रो की कनेक्टिविटी हो जाएगी।

इसके अलावा ग्रेटर नोएडा से ही नई दिल्ली रेलवे स्टेशन तक भी मेट्रो का नया कॉरिडोर बनाने की प्लानिंग पर काम हो रहा है. इस प्रोजेक्ट के लिए फीजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार कराई जा रही है जिसे बनने में सितम्बर 2021 से लगभग 9 महीने लगने का अनुमान लगाया गया था. यानी ये फीजिबिलिटी रिपोर्ट 2022 के मई-जून तक तैयार हो सकती है.

ग्रेटर नोएडा से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन तक बनने वाले नए मेट्रो कॉरीडोर से जेवर एयरपोर्ट दिल्ली के आईजीआई यानी इंदिरा गांधी इंटरनैशनल एयरपोर्ट से जुड़ जाएगा.

Jewar Airport Ka Shilanyas Kab Hoga ?अटलजी के जन्मदिन पर शिलान्यास ?

Jewar Airport Ka Shilanyas Kab Hoga ?अटलजी के जन्मदिन पर शिलान्यास ?

Jewar Airport Ka Shilanyas Kab Hoga ?अटलजी के जन्मदिन पर शिलान्यास ?
Jewar Airport Ka Shilanyas Kab Hoga ? अटलजी के जन्मदिन पर शिलान्यास ?

कुछ दिन पहले हमने इसी चैनल पर एक वीडियो अपलोड किया था जिसमें संभावना जताई थी कि 17 सितम्बर 2021 यानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर जेवर में एयरपोर्ट का शिलान्यास किया जा सकता है.

इस वीडियो में हमने साफ कहा था कि ये कोई खबर नहीं बल्कि केवल एक संभावना थी. और आखिरकार ये एक संभावना ही साबित हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास नहीं हुआ लेकिन अब जो तारीख आ रही है वो कोई संभावना नहीं बल्कि कई मीडिया रिपोर्टस में छपी खबर है. हालांकि ये खबर भी सूत्रों के हवाले से ही आई है.

मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक जेवर में नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास देश के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर किया जा सकता है.

Jewar Airport Ka Shilanyas Kab Hoga ?अटलजी के जन्मदिन पर शिलान्यास ?
Jewar Airport Ka Shilanyas Kab Hoga ?अटलजी के जन्मदिन पर शिलान्यास ?

अब इसी वीडियो में आपके लिए एक सवाल भी है. सवाल ये है कि अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन किस तारीख को पड़ता है. अपना जवाब आप कमेंट बॉक्स में टाइप करके दे सकते हैं. तो खबर ये है कि दिसम्बर महीने में पड़ने वाले अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास किया जा सकता है.

जैसा कि हम पहले भी कई वीडियोज़ में बता चुके हैं कि इस ऑफिशियल शिलान्यास के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दोनों मौजूद रहेंगे. वैसे ज़मीन पर जेवर एयरपोर्ट के काम की शुरुआत 23 अगस्त 2021 को ही हो चुकी है. कन्स्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों और मज़दूरों ने एयरपोर्ट साइट पर नारियल फोड़ कर काम की शुरुआत की थी.

अभी जम़ीन की लेवलिंग और बाउंड्री वॉल का काम किया जा रहा है. पिछले कई महीनों से जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास का इंतजार किया जा रहा है. हमने भी शिलान्यास को लेकर कई वीडियोज़ में आपको हर अपडेट देने की कोशिश की है.

हमने आपको बार बार बताया है कि शिलान्यास की सारी तैयारियां पूरी हैं. इंतज़ार सिर्फ प्रधानमंत्री के दफ्तर से कार्यक्रम की तारीख तय होने का है. लेकिन अब जो रिपोर्ट्स आ रही हैं उनके मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जानबूझ कर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन को एयरपोर्ट के शिलान्यास के लिए चुना है.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल के नाम पर एयरपोर्ट का नाम रखकर केंद्र सरकार की कोशिश उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के समकक्ष रखने की है. अभी देश की राजधानी दिल्ली के इंटरनैशनल एयरपोर्ट का नाम इंदिरा गांधी इंटरनैशनल एयरपोर्ट है. केंद्र की सरकार अटलजी को इतिहास में उचित सम्मान देना चाहती है.

दूसरा ये भी है कि एक ब्राह्मण व्यक्तित्व को सम्मान देकर सरकार आने वाले यूपी चुनाव के लिए खुद को ब्राह्मण हितैषी भी दिखाना चाहती है.

Investments in Yeida Yamuna Expressway Industrial Development Authority

Investments in Yeida Yamuna Expressway Industrial Development Authority

Investments inY eida Yamuna Expressway Industrial Development Authority
Investments in Yeida Yamuna Expressway Industrial Development Authority

कोविड काल में यीडा का कमाल सामने आया है. यीडा यानी यमुना एक्स्प्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवेलपमेंट ऑथॉरिटी ने पैनडैमिक पीरियड में बेहतरीन इन्वेस्टमेंट हासिल किया है. कोरोना के दौर में जब पूरा देश और दुनिया महामारी की वजह से मंदी झेल रहे थे उसी दौरान यीडा ने बड़ी संख्या में निवेशकों को आकर्षित करने में सक्सेस हासिल की है.

 Investments in Yeida Yamuna Expressway Industrial Development Authority
Investments in Yeida Yamuna Expressway Industrial Development Authority

बीमारी की वजह से किए गए लॉकडाउन के दौरान जब हर छोटा बड़ा धंधा बंद था तब भी यीडा एरिया में बड़ी संख्या में इन्वेस्टर्स ने अपने प्रोजेक्ट लगाए हैं.  यमुना ऑथॉरिटी ने इस दौरान कई तरह के क्लस्टर्स में कई स्कीम्स निकाली थीं जिन्हें निवेशकों का बहुत ही अच्छा रिस्पॉन्स मिला है.

यीडा के सीईओ अरुणवीर सिंह ने मीडिया को बताया कि ऑथॉरिटी ने कोविड काल के दौरान कई क्लस्टर स्कीम निकालीं. इनमें हैंडलूम क्लस्टर, एमएसएमई क्लस्टर, उद्योगों के लिए क्लस्टर, और टॉय सिटी क्लस्टर शामिल थे. इसके अलावा नोएडा क्लस्टर के नाम से भी स्कीम निकाली गई. जिसमें 85 कंपनियों ने निवेश किया है. यीडा एरिया में निवेश करने वाली कंपनियां देश की नामी-गिरामी कंपनियां हैं.

अरुणवीर सिंह ने बताया कि कोविड के दौरान लिकाली गईं क्लस्टर स्कीम्स में 1270 कंपनियों को यूनिट लगाने के लिए ज़मीन अलॉट कर दी गई है. ये कंपनियां लगभग 7000 हेक्टेयर एरिया में काम शुरू कर रही हैं. नया आंकड़ा दिया गया है कि इन कंपनियों की ओर से लगभग 50 हज़ार करोड़ का इन्वेस्टमेंट इस इलाके में किया जा रहा है.

गौतम बुध नगर में कुल 3 डेवेलपमेंट ऑथॉरिटी हैं, नोएडा ऑथॉरिटी, ग्रेटर नोएडा ऑथॉरिटी और यमुना ऑथॉरिटी. कुछ वक्त पहले तक यमुना ऑथॉरिटी को अपना खर्च चलाने के लिए भी बैंकों से लोन लेना पड़ता था. लेकिन अब जिस तेज़ी से यमुना ऑथॉरिटी में काम हो रहा है उससे वो तीनों ऑथॉरिटीज़ में नंबर वन ऑथॉरिटी बनने की ओर बढ़ रही है.

 Investments in Yeida Yamuna Expressway Industrial Development Authority
Investments in Yeida Yamuna Expressway Industrial Development Authority

आने वाले कुछ महीनों में यमुना ऑथॉरिटी के कई बड़े प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास होने वाला है. जैसे जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट, फिल्म सिटी, पॉड टैक्सी प्रोजेक्ट, टॉय सिटी, मेडिकल डिवाइस पार्क और डाटा पार्क. अगले 6 महीने में कई नई इंडस्ट्रीज़ यहां काम करना शुरू कर देंगी.

यमुना ऑथॉरिटी एरिया को हर तरह की कनेक्टिविटी दी जा रही है. चाहे वो एयर ट्रैवल हो, मेट्रो हो, रोड ट्रांसपोर्ट हो या पॉड टैक्सी. हर तरह की सुविधा ऑथॉरिटी एरिया को उपलब्ध कराई जा रही है.

जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट 30 हजार करोड़ रुपये में, फिल्म सिटी लगभग 10000 करोड़ रुपये में और मेडिकल डिवाइस पार्क और डाटा पार्क जैसे प्रोजेक्ट लगभग 20 हजार करोड़ रुपये में लगाए जा रहे हैं.

आंकड़ों के मुताबिक इस सभी से लगभग 5 लाख लोगों को रोज़गार देने पर काम हो रहा है.

Jewar Airport will connect to Chola Railway Station of Delhi Howrah Line

Jewar Airport will connect to Chola Railway Station of Delhi Howrah Line

Jewar Airport will connect to Chola Railway Station of Delhi Howrah Line
Jewar Airport will connect to Chola Railway Station of Delhi Howrah Line

जेवर एयरपोर्ट से जुड़ेगा दिल्ली-हावड़ा रूट का चोला स्टेशन

नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनने वाला है. दूर-दराज़ के लोग भी यहां तक पहुंच सकें इसके लिए इसकी कनेक्टिविटी पर खास ध्यान दिया जा रहा है. अब जेवर एयरपोर्ट को दिल्ली हावड़ा रेल लाइन से भी जोड़ने की तैयारी है. इसके लिए केंद्र सरकार को प्रपोज़ल भेजा जाएगा. यमुना ऑथॉरिटी ये प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजेगी. राज्य सरकार के जरिये इस प्रस्ताव को केंद्र सरकार को भेजा जाएगा.

योजना ये है कि दिल्ली हावड़ा रेल लाइन के चोला रेलवे स्टेशन से जेवर एयरपोर्ट तक रेलवे ट्रैक बिछाया जाएगा. जेवर एयरपोर्ट की साइट से दिल्ली हावड़ा रेलमार्ग पर बना चोला रेलवे स्टेशन सिर्फ 15 किलोमीटर की दूरी पर है. इस स्टेशन से जेवर एयरपोर्ट तक रेल लाइन बिछाई जाएगी. इस लाइन का यूज़ केवल माल ढुलाई के लिए किया जाएगा.

इसके अलावा जेवर एयरपोर्ट को मेट्रो लाइन के ज़रिए दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ने की योजना पर भी काम जारी है. जेवर एयरपोर्ट को ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क-दो स्टेशन से जोड़ा जाएगा. 25 किलोमीटर की इस मेट्रो लाइन पर लगभग आधा दर्जन स्टेशन बनाए जाएंगे. इसके अलावा सेक्टर 144 से मेट्रो लाइन को दिल्ली के शिवाजी स्टेडियम मेट्रो स्टेशन से जोड़ने की तैयारी है. इस तरह से इंदिरा गांधी इंटरनैशनल एयरपोर्ट तक जा रही मेट्रो लाइन से जेवर एयरपोर्ट की मेट्रो लाइन कनेक्ट हो जाएगी.

दरअसल नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट को सड़क, मेट्रो, और हाईस्पीड ट्रेन से कनेक्टिविटी देने के विकल्पों पर तेज़ी से काम हो रहा है. इसी के तहत एयरपोर्ट को सड़क कनेक्टिविटी का एक और विकल्प मिलेगा. खुर्जा में एनएच 91 से जेवर एयरपोर्ट तक सड़क बनाई जाएगी. इसके लिए सर्वे जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है.

एयरपोर्ट के एनएच 91 से जुड़ने के बाद अलीगढ़, एटा, और फर्रुखाबाद जिले भी इससे सीधे जुड़ जाएंगे. इन जिलों के यात्री सीधे जेवर एयरपोर्ट पहुंच सकेंगे. खुर्जा शहर बिज़नेस के लिहाज से महत्वपूर्ण है. यहां बड़े लेवल पर चीनी मिट्टी के प्रॉडक्ट्स बनाए जाते हैं. जिन्हें देश विदेश में भेजा जाता है. एयरपोर्ट से सीधी कनेक्टिविटी का फायदा खुर्जा के कारोबार को भी मिलेगा. इसके अलावा यमुना ऑथॉरिटी का एरिया भी खुर्जा तक जाने का प्रस्ताव है. कुल मिलाकर भविष्य में जेवर एयरपोर्ट समेत यमुना ऑथॉरिटी के कई प्रोजेक्ट्स का फायदा खुर्जा को मिलने जा रहा है.

Pod Taxi in Greater Noida From Jewar Airport To Uttar Pradesh Film City

Pod Taxi in Greater Noida From Jewar Airport To Uttar Pradesh Film City

गौतम बुद्ध नगर के जेवर में नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट से उत्तर प्रदेश की फिल्म सिटी तक चलने वाली पॉड टैक्सी का रूट तैयार हो गया है. इसके लिए फिल्म सिटी से एयरपोर्ट तक ट्रैक का निर्माण होगा. यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवेलपमेंट ऑथॉरिटी ने जेवर एयरपोर्ट तक कनेक्टिविटी आसान करने के लिए प्रपोज़्ड पॉड टैक्सी का 14 किमी का रूट प्लान तैयार कर लिया है.

Pod Taxi in Greater Noida From Jewar Airport To Uttar Pradesh Film City
Pod Taxi in Greater Noida From Jewar Airport To Uttar Pradesh Film City

14 किलोमीटर में से साढ़े पांच किमी का रूट यमुना एक्सप्रेसवे के पैरेलल यानी समानांतर होगा. इसके अलावा पॉड टैक्सी यीडा के चार सेक्टर्स से भी होकर भी गुजरेगी. यमुना ऑथॉरिटी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर अरुणवीर सिंह ने बताया कि पॉड टैक्सी चलाने के लिए IPRCL यानी INDIAN PORT RAIL & ROPEWAY CORPORATION LTD. ने डीटेल्ड प्लान बना लिया है.

जेवर के नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट से फिल्म सिटी की दूरी यमुना एक्सप्रेसवे के पैरेलल करीब साढ़े पांच किमी है लेकिन ऑथॉरिटी के सेक्टर्स को भी पॉड टैक्सी की कनेक्टिविटी देने के लिए पॉड टैक्सी का रूट लगभग 14 किमी बनाया गया है. यानी यमुना ऑथॉरिटी के सेक्टर- 28, 29, 32, और 33 को भी पॉड टैक्सी की कनेक्टिविटी मिलेगी.

पॉड टैक्सी का सबसे ज्यादा फायदा उन लोगों को होगा जो इन सेक्टर्स में स्थापित इंडस्ट्रीज़ में काम करेंगे. पॉड टैक्सी के जरिए लोगों को कम कीमत पर ट्रांसपोर्ट की अच्छी सुविधा मिल सकेगी. पॉड टैक्सी प्रोजेक्ट का काम पीपीपी यानी पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के आधार पर होगा.

पॉड टैक्सी प्रोजेक्ट का फायदा सिर्फ रोज़गार पाने वालों को ही नहीं बल्कि रोज़गार देने वालों को भी होगा. यीडा के सेक्टर-28 में मेडिकल डिवाइस पार्क और डाटा सेंटर प्रपोज्ड है जबकि सेक्टर-29, 32 और 33 इंडस्ट्रियल सेक्टर हैं. इनमें टॉय पार्क, अपैरल पार्क, एमएसएमई पार्क और अन्य कई प्रोजेक्ट प्रस्तावित हैं. इन सभी सेक्टर्स में पॉड टैक्सी का स्टेशन बनाया जाएगा.

पॉड टैक्सी की मैक्सिमम स्पीड 100 किमी प्रति घंटा होगी. ये पूरी तरह से एलिवेटेड ट्रैक पर चलेगी. एक टैक्सी में 4 से 6 यात्री सफर कर सकेंगे.

पॉड टैक्सी प्रोजेक्ट के लिए बिड डॉक्यूमेंट और कंसेशन अग्रीमेंट तैयार हो चुका है. टेंडर जारी करने से पहले यूपी सरकार की मंजूरी ली जानी है. मंज़ूरी के बाद ही टेंडर जारी किया जाएगा.

Greater Noida Integrated Industrial Township MMLH MMTH

Greater Noida Integrated Industrial Township MMLH MMTH

Greater Noida Integrated Industrial Township MMLH MMTH
Greater Noida Integrated Industrial Township MMLH MMTH

केंद्र सरकार के एक फैसले की बदौलत ग्रेटर नोएडा के तीन प्रोजेक्ट्स डेवेलपमेंट की दौड़ में काफी आगे आ गए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन तीन प्रोजेक्ट्स को हाल ही में लॉन्च की गई गति शक्ति योजना से जोड़ने का ऐलान किया है. ये तीन प्रोजेक्ट्स हैं. इंटीग्रेटेड टाउनशिप, मल्टी मोडल ट्रांसपोर्ट हब और मल्टी मोडल लॉजिस्टिक हब.

इन तीनों योजनाओं को जेवर एयरपोर्ट से जोड़ने की प्लानिंग कर ली गई है. ये तीनों प्रोजेक्ट इंटर कनेक्टेड होंगे. इनको एयरपोर्ट से जोड़ने के लिए लॉजिस्टिक हब को जीटी रोड से जोड़ने की प्लानिंग है. इसके लिए लॉजिस्टिक हब के पास जीटी रोड पर करीब 2.5 किलोमीटर रास्ते को चौड़ा किया जाएगा. इसे दो लेन से छह लेन का बनाने का प्रस्ताव है.

ग्रेटर नोएडा की इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप देश की सबसे स्मार्ट टाउनशिप्स में से एक है. इसे जेवर एयरपोर्ट से जोड़ने पर मल्टी मोडल ट्रांसपोर्ट हब और मल्टीमोडल लॉजिस्टिक हब भी जेवर एयरपोर्ट से जुड़ जाएंगे. इन तीनों प्रोजेक्ट्स के लिए डीएमआईसी-आईआईटीजीएनएल ने एक प्लान बनाया है. जिस पर जल्द ही काम शुरू होने वाला है.

आईआईटी जीएनएल के सीईओ नरेंद्र भूषण के मुताबिक़, इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप, मल्टीमॉडल ट्रांसपोर्ट हब और मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक हब के डेवेलप होने से करीब दो लाख युवाओं को सीधे रोजगार के मौके मिलेंगे.

मल्टीमॉडल ट्रांसपोर्ट हब और लॉजिस्टिक हब की डीपीआर यूपी सरकार को भेजी गई है. डीपीआर मंजूर होते ही टेंडर निकाला जाएगा और काम शुरू कराया जाएगा. टारगेट है कि अगले तीन साल में ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक हब डेवेलप कर दिया जाए.

ग्रेटर नोएडा के बोड़ाकी के पास प्रपोज्ड मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट हब और मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक हब के लिए आठ गांवों, दादरी, जुनपत, चिटेहरा, कठहेड़ा, पल्ला, पाली, बोड़ाकी और थापा खेड़ा की जमीन ली जा रही है.

अफसरों के मुताबिक उत्तर प्रदेश वेयरहाउसिंग और लॉजिस्टिक पॉलिसी घोषित करने वाले प्रमुख राज्यों में से एक है. इस पॉलिसी के ज़रिए राज्य सरकार ने लॉजिस्टिक्स सेक्टर को इंडस्ट्री का दर्जा दे दिया है. राज्य सरकार ने राज्य में लॉजिस्टिक्स उद्योग के लिए व्यवसाय करने की लागत कम कर दी है, जिससे यूपी को उत्तर भारत में प्रमुख लॉजिस्टिक्स केंद्र के रूप में उभरने में सहायता मिलती है.

Kushinagar International Airport Inaugurated By PM Narendra Modi

Kushinagar International Airport Inaugurated By PM Narendra Modi

Kushinagar International Airport Inaugurated By PM Narendra Modi
Kushinagar International Airport Inaugurated By PM Narendra Modi

उत्तर प्रदेश को तीसरे इंटरनैशनल एयरपोर्ट की सौग़ात मिल गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर एयरपोर्ट का उद्घाटन कर दिया है. श्रीलंका से बौद्ध भिक्षुओं को लेकर आई इंटरनैशनल फ्लाइट के कुशीनगर की ज़मीन पर उतरने के साथ ही इस इंटरनैशनल एयरपोर्ट की शुरुआत हो गई.

ये हवाई अड्डा 589 एकड़ ज़मीन पर 260 करोड़ रुपये की लागत से बना है. इस हवाई अड्डे के लोकार्पण के साथ ही उत्तर प्रदेश सबसे ज्यादा हवाई अड्डों वाला प्रदेश बन गया है. ये यूपी का नौवां एयरपोर्ट है.

कुशीनगर का ये एयरपोर्ट उत्तर प्रदेश का सबसे लंबे रनवे वाला एयरपोर्ट भी है. एयरपोर्ट के उद्घाटन के मौके पर प्राइम मिनिस्टर ने कहा कि आने वाले तीन से चार साल में देश में 200 से ज्यादा एयरपोर्ट और सीपौड का नेटवर्क खड़ा करने की कोशिश हो रही है.
देश में उड़ान योजना के तहत 900 से ज्यादा नए रूट्स को मंजूरी दी जा चुकी है, इनमें से 350 से ज्यादा रूट्स पर हवाई सेवा शुरू भी हो चुकी है. अब तक 50 से ज्यादा ऐसे एयरपोर्ट चालू किए गए हैं जो या तो नए हैं या पहले काम नहीं कर रहे थे.

पीएम ने कहा कि भारत बौद्ध समाज की आस्था और श्रद्धा का केंद्र है. इस एयरपोर्ट के उद्घाटन के साथ कुशीनगर दुनिया से जुड़ गया है. कुशीनगर का हवाई अड्डा सिर्फ एयर कनेक्टिविटी के लिहाज से ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि इससे किसान, पशुपालक, दुकानदार, मजदूर, और लोकल बिज़नेसमेन भी फायदा उठाएंगे. इससे टूरिज़्म भी बढ़ेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भगवान बुद्ध से जुड़ी जगहों को डेवेलप करने के लिए, बेहतर कनेक्टिविटी के लिए, और श्रद्धालुओं की सुविधाओं के निर्माण पर भारत सरकार खास ध्यान दे रही है.

इसी कार्यक्रम में सिविल एविएशन मिनिस्टर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बताया कि दिल्ली से कुशीनगर के लिए सीधी फ्लाइट 26 नवंबर से शुरू होगी. उसके बाद 18 दिसंबर को कुशीनगर से मुंबई और कोलकाता की फ्लाइट जोड़ी जाएगी.

ये एयरपोर्ट घरेलू और अंतरराष्ट्रीय तीर्थयात्रियों को भगवान बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थल पर जाने की सुविधा देगा. इस हवाई अड्डे से उत्तर प्रदेश के साथ साथ बिहार के आस-पास के जिलों को भी फायदा होगा.

कुशीनगर एक अंतरराष्ट्रीय बौद्ध तीर्थस्थल है, जहां भगवान गौतम बुद्ध का महापरिनिर्वाण हुआ था. कुशीनगर बौद्ध सर्किट का केंद्र बिंदु है. इस सर्किट में लुंबिनी, सारनाथ और गया भी शामिल हैं.

UP Film City Latest News in Hindi बिड डॉक्युमेंट तैयार

UP Film City Latest News in Hindi बिड डॉक्युमेंट तैयार

UP Film City Latest News in Hindi बिड डॉक्यूमेंट तैयार
UP Film City Latest News in Hindi बिड डॉक्यूमेंट तैयार

दिसम्बर 2021 तक उत्तर प्रदेश की फिल्म सिटी का शिलान्यास कराने की कोशिशों में लगी उत्तर प्रदेश सरकार को सिस्टम और प्रक्रियाओं की सुस्ती का सामना करना पड़ रहा है. नए अपडेट से पता चला है कि फिल्म सिटी को बनाने वाली कंपनी का चुनाव जनवरी 2022 तक हो पाएगा.

यमुना ऑथॉरिटी एरिया में बनने वाली प्रपोज़्ड फिल्म सिटी के लिए बिड डॉक्यूमेंट यानी बोली दस्तावेज और ड्राफ्ट कंसेशन यानी रियायत मसौदा तैयार हो गया है. यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवेलपमेंट ऑथॉरिटी ने ये दस्तावेज़ उत्तर प्रदेश सरकार को सौंप दिए हैं.

यमुना ऑथॉरिटी के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह के मुताबिक ये दोनों दस्तावेज स्टडी करने के बाद सरकार को भेजे गए हैं. इन डॉक्यूमेंट्स को स्टडी करने के लिए सरकार ने भी एक कमेटी बनाई है.

UP Film City Latest News in Hindi बिड डॉक्यूमेंट तैयार
UP Film City Latest News in Hindi बिड डॉक्यूमेंट तैयार

फिल्म सिटी की डीपीआर यानी डीटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट पहले ही तैयार हो चुकी है. डीपीआर बनाने वाली कंपनी CBRE ने ही फिल्म सिटी के लिए बिड डाक्यूमेंट और कंसेशन एग्रीमेंट तैयार किया है.

बिड डाक्यूमेंट और कंसेशन एग्रीमेंट को सरकार से मंज़ूरी मिलने के बाद फिल्म सिटी बनाने वाली कंपनी को चुनने के लिए ग्लोबल टेंडर निकाला जाएगा. ग्लोबल टेंडर निकाले जाने के बाद 2 महीने के अंदर डेवेलपर कंपनी का सेलेक्शन कर लिया जाएगा. ऑथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि जनवरी 2022 तक डेवेलपर कंपनी का सेलेक्शन होने की उम्मीद है.

डेवेलपर कंपनी के सेलेक्शन को लेकर एक शर्त भी रखी गई है. शर्त ये है कि टेंडर में हिस्सा लेने वाली कंपनी का टर्नओवर कम से कम 500 करोड़ रुपये होना चाहिए.

फिल्म सिटी का विकास पीपीपी मॉडल पर किया जाएगा. उत्तर प्रदेश की ये वर्ल्ड क्लास फिल्म सिटी यमुना ऑथॉरिटी एरिया के सेक्टर-21 में 1000 एकड़ जमीन पर बनाई जानी है. इसमें से 75 प्रतिशत ज़मीन पर फिल्मों से जुड़ी सुविधाएं होंगी. 5 प्रतिशत एरिया में फिल्म इंस्टीट्यूट, 15 प्रतिशत एरिया में एम्यूजमेंट पार्क और बाकी एरिया में होटल, रेस्तरां, विला और कमर्शियल कन्स्ट्रक्शन हो सकता है.

Noida International Airport Latest News in Hindi 31 KM की सड़क क्यों जरूरी?

Noida International Airport Latest News in Hindi | 31 KM की सड़क क्यों जरूरी है?

इस आर्टिकल में आप जानेंगे उस सड़क का अपडेट जो जेवर एयरपोर्ट को दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है. यूपी को हरियाणा से जोड़ने वाली इस सड़क के यूपी में आने वाले हिस्से के लिए ज़मीन अधिग्रहण की प्रोसेस शुरू हो गई है. 6 लेन की इस सड़क की कुल लंबाई 31 किलोमीटर होगी. इसका 7 किलोमीटर हिस्सा यूपी के गौतम बुद्ध नगर में और 24 किलोमीटर हिस्सा हरियाणा में होगा. यही वो सड़क होगी जो जेवर एयरपोर्ट को दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेसवे के रास्ते दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ेगी.

दरअसल दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे की शुरुआत दिल्ली एयरपोर्ट के नज़दीक से ही हो रही है. आगे चलकर दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे यूपी की सीमा के नज़दीक हरियाणा के बल्लभगढ़ से होकर गुजर रहा है. ऐसे में ज़रूरत थी एक ऐसी सड़क की जो यूपी के गौतम बुद्ध नगर से हरियाणा के बल्लभगढ़ तक जाए. इसीलिए इस सड़क का निर्माण करने का फैसला लिया गया.

अब गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन ने इस सड़क के लिए ज़मीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू कर दी है. NHAI यानी नैशनल हाइवे ऑथॉरिटी ऑफ इंडिया की मांग पर ये काम शुरू किया गया है. 31 किलोमीटर की इस सड़क के लिए गौतमबुद्घ नगर में लगभग 70 हेक्टेयर जमीन अक्वायर की जानी है.

गौतम बुद्ध नगर के एडीएम-लैंड एक्विजिशन बलराम सिंह ने मीडिया को बताया है कि इस सड़क के लिए 4 गांवों की जम़ीन का अधिग्रहण किया जाना है. ये ज़मीन जेवर इलाके के वल्लभनगर, दयानतपुर, फलैंदा बांगर और करौली बांगर की होगी.

इन गांवों के किसानों से ऑब्जेक्शन्स मंगाए गए हैं. किसानों को आपत्ति दर्ज कराने के लिए 21 दिनों का वक्त दिया गया है. किसान जिला प्रशासन के पास आपत्तियां दर्ज करा सकते हैं. किसानों की शिकायतों का निपटारा होने के बाद जमीन अधिग्रहण शुरू होगा और उसके बाद सड़क बनाई जाएगी. सड़क निर्माण का काम एनएचएआई करेगा लेकिन उसका खर्च राज्य सरकार को देना होगा.

31 किलोमीटर की ये सड़क दयानतपुर गांव के पास यमुना एक्सप्रेस वे के 32 किमी प्वाइंट पर बनाए जा रहे इंटरचेंज से जुड़ेगी और इंटरचेंज से नोएडा एयरपोर्ट के एंट्री गेट तक 750 मीटर लंबी एलिवेटेड रोड बनाई जाएगी. इस तरह से एलिवेटेड रोड, इंटरचेंज, 31 किलोमीटर की सड़क और दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे मिलकर जेवर के नोएडा एयरपोर्ट को दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ देंगे.

Noida International Airport Latest News in Hindi | 31 KM की सड़क क्यों जरूरी है?


यमुना ऑथॉरिटी के ओएसडी और नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड कंपनी के नोडल अफसर शैलेंद्र भाटिया ने बताया है कि नोएडा एयरपोर्ट के लिए मल्टी मोडल कनेक्टिविटी पर काम हो रहा है. दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे से कनेक्टिविटी भी इसी का हिस्सा है.

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी,
Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट की सिक्योरिटी से जुड़ी हुई एक बड़ी खबर सामने आई है. कुछ वक्त पहले हमने इसी चैनल पर आपको एक वीडियो में बताया था कि जेवर एयरपोर्ट की सीधी-सीधी बाउंड्री बनाने के काम में परेशानी आ रही है.

एयरपोर्ट डेवेलपर कंपनी ने बाउंड्री बनाना शुरू करने से पहले पूरी ज़मीन की पैमाइश यमुना एक्स्प्रेसवे ऑथॉरिटी और तहसील के कर्मचारियों के साथ मिल कर की थी. पैमाइश से पता चला था कि कुछ ज़मीन ऐसी है जहां सीधी दीवार नहीं बनाई जा सकती. यानी ज़मीन पर मोड़ आ रहे हैं.

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

इन मोड़ों को खत्म करने के दो रास्ते हैं पहला ये कि डेवेलपर कंपनी सीधी दीवार बनाने पर बाहर जा रही जमीन को खाली छोड़ दे. और दूसरा ये कि सीधी बाउंड्री बनाने के लिए आसपास की कुछ और ज़मीन अक्वायर करे. इसके लिए डेवेलपर को किसानों से लगभग 40 हेक्टेयर जमीन और लेनी पड़ती. अब डेवेलपर ने फैसला किया है कि वो बाउंड्री बनाने के लिए कुछ ज़मीन खाली छोड़ने को तैयार है.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की सुरक्षा की मजबूती के लिए चारदीवारी को सीधा बनाने का फैसला लिया गया है. यानी अक्वायर की गई ज़मीन का कुछ हिस्सा चारदीवारी के बाहर भी रहेगा. ये जमीन एयरपोर्ट के दूसरे या तीसरे फेज़ में इस्तेमाल की जाएगी. चारदीवारी के बाहर तार की फेंसिंग रहेगी. जिससे एयरपोर्ट की सिक्योरिटी के लिए 2 लेयर तैयार हो जाएंगी. इससे किसी के लिए भी डबल सिक्योरिटी को तोड़कर एयरपोर्ट एरिया में घुसना मुश्किल होगा.

अब जो बाउंड्री बनाई जाएगी वो अक्वायर की गई कुल ज़मीन से 2 मीटर अंदर की ओर होगी. नोएडा एयरपोर्ट की जमीन पर चारदीवारी का काम शुरू हो गया है. चारदीवारी के बीच-बीच में बने वॉच टावर पर तैनात सिक्योरिटी गार्ड दूर-दूर तक निगरानी कर सकेंगे.

एयरपोर्ट की अधिगृहीत जमीन सीधी लाइन में न होने की वजह से इस बात पर काफी मंथन चल रहा था कि चारदीवारी को सीधा रखा जाए या नहीं. आखिरकार फैसला हुआ कि किसानों से 40 हेक्टेयर जमीन लेने के बजाए एयरपोर्ट की अधिगृहीत जमीन पर पहले से मौजूद तार फेंसिंग के अंदर ही सीधी चारदीवारी बनाई जाएगी.

यमुना ऑथॉरिटी के ओएसडी शैलेंद्र भाटिया का कहना है कि एयरपोर्ट की जमीन की पैमाइश के बाद सभी बिदुओं का मिलान किया गया है. एयरपोर्ट की चारदीवारी लगभग 18 किमी लंबी हो सकती है. चारदीवारी सीधी होने से सुरक्षा चौकी, और टॉवर भी कम बनेंगे और दूर तक निगरानी आसान होगी.

यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड , यमुना विकास प्राधिकरण और तहसील प्रशासन की टीमों ने एयरपोर्ट की जमीन की दोबारा से पैमाइश की थी. एयरपोर्ट के शिलान्यास से पहले डेवेलपर कंपनी चारदीवारी का निर्माण कार्य शुरू कर चुकी है.

Noida International Airport in Jewar Will Connect to Yamuna Expressway

Noida International Airport in Jewar Will Connect to Yamuna Expressway यमुना एक्सप्रेसवे जेवर एयरपोर्ट से कैसे जुड़ेगा?

Noida International Airport in Jewar Will Connect to Yamuna Expressway

Jewar Airport Latest News in Hindi ये है कि यात्रियों को जेवर में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट तक पहुंचाने के लिए कई ऑप्शन उपलब्ध कराए जाएंगे ताकि उनका सफर आसान रहे.

अब जेवर एयरपोर्ट और यमुना एक्सप्रेसवे को जोड़ने के लिए तैयारी शुरू हो गई है. दोनों को कनेक्ट करने के लिए इंटरचेंज बनाया जाएगा. इंटरचेंज बनाने पर लगभग 50 करोड़ रुपये खर्च होंगे. 32.5 किलोमीटर के इंटरचेंज में दो उतार और दो चढ़ाव बनाए जाएंगे.

एनएचएआई यानी नैशनल हाइवे ऑथॉरिटी ऑफ इंडिया इसका निर्माण करेगी. यमुना प्राधिकरण और NHAI में इस पर सहमति बन चुकी है. इंटरचेंज का डिजाइन भी तैयार हो गया है. यमुना प्राधिकरण जल्द ही इसके निर्माण के लिए एनएचएआई को लेटर जारी करेगा. कागजी कार्रवाई पूरी होने के बाद इंटरचेंज का निर्माण शुरू हो जाएगा.

इसके साथ ही इंटरचेंज से एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग तक करीब 750 मीटर लंबी एलिवेटेड रोड बनाई भी जाएगी। इसकी भी तैयारी चल रही है. प्रपोज़्ड इंटरचेंज से लेकर एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग तक की दूरी लगभग 750 मीटर है. इंटरचेंज से लेकर टर्मिनल बिल्डिंग तक ये एलिवेटेड रोड यमुना ऑथॉरिटी बनवाएगी.

Noida International Airport in Jewar Will Connect to Yamuna Expressway

पहले इस सड़क को एलिवेटेड बनाने का प्रस्ताव नहीं था लेकिन एयरपोर्ट एरिया में बुलेट ट्रेन और मेट्रो प्रोजेक्ट आने के बाद इसमें बदलाव किया गया है. यमुना एक्सप्रेसवे के इंटरचेंज से टर्मिनल बिल्डिंग तक बनने वाली एलिवेटेड रोड का एस्टीमेट तैयार किया जा रहा है. यमुना प्राधिकरण ये एलिवेटेड रोड भी एनएचएआई से ही बनवाएगा. एलिवेटेड रोड से यहां पर भविष्य में जाम की स्थिति बनने की संभावना नहीं रहेगी.

New Noida Latest News न्यू नोएडा के मास्टर प्लान की 2 रिपोर्ट तैयार

New Noida Latest News

न्यू नोएडा में आने वाले बुलंदशहर के 60 और गौतमबुद्धनगर के 20 गांवों के लोगों के लिए खुशखबरी है. ग्रेटर नोएडा के दादरी से लेकर बुलंदशहर के खुर्जा तक बनने वाले न्यू नोएडा के मास्टर प्लान को लेकर बड़ा अपडेट सामने आया है.

New Noida Latest News

मास्टर प्लान बनाने वाली एजेंसी ने मास्टर प्लान पर 2 रिपोर्ट तैयार करके नोएडा ऑथॉरिटी को सौंप दी हैं. हमने आपको बताया था कि न्यू नोएडा का मास्टर प्लान बनाने का जिम्मा एसपीए यानी स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर को दिया गया था. उससे पहले न्यू नोएडा के 80 गांवों में किसी भी तरह की एनओसी पर नोएडा ऑथॉरिटी ने रोक लगा दी थी.

अब एसपीए बड़ी तेज़ी से न्यू नोएडा के मास्टर प्लान पर काम कर रहा है. एसपीए ने दूसरी बार मास्टर प्लान से जुड़ी रिपोर्ट नोएडा ऑथॉरिटी को भेजी है. अब नोएडा ऑथॉरिटी के अफसर इस रिपोर्ट को स्टडी कर रहे हैं.

मास्टर प्लान की जो रिपोर्ट एसपीए ने भेजी है उसमें मुख्य तौर पर न्यू नोएडा की फ्यूचर कनेक्टिविटी के बारे में बताया गया है. रिपोर्ट में बताया गया है कि न्यू नोएडी की गाजियाबाद, ग्रेटर नोएडा और नोएडा से कनेक्टिविटी कैसी होगी. इसी रिपोर्ट में न्यू नोएडा को बनाने के मकसद के बारे में भी डीटेल दी गई है.

अब नोएडा ऑथॉरिटी का प्लानिंग डिपार्टमेंट इस रिपोर्ट की स्टडी करके संशोधनों के साथ एसपीए को वापस भेजेगा. ऑथॉरिटी के अफसर देखेंगे कि इस मास्टर प्लान में क्या बदलाव होने चाहिएं. ऑथॉरिटी ने एसपीए को पूरे मास्टर प्लान को तैयार के लिए अप्रैल 2022 तक का वक्त दिया है. इसीलिए एसपीए इस पर तेज़ी से काम कर रहा है. ये मास्टर प्लान जीआईएस यानी जियोग्रैफिक इन्फोरमेशन सिस्टम के आधार पर बनाया जा रहा है यानी न्यू नोएडा का मास्टर प्लान सेटेलाइट बेस्ड होगा.

इस काम के लिए एसपीए कई और कंपनियों के साथ मिलकर काम कर रहा है. ये मास्टर प्लान ऐसा होगा कि इन्वेस्टर्स घर बैठे ही न्यू नोएडा के हर जोन, सेक्टर और ज़मीन की जानकारी ऑनलाइन हासिल कर सकेंगे. उम्मीद है कि ये मास्टर प्लान अप्रैल 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा.

PM Kisan Samman Nidhi Amount Will Be Doubled किसान सम्मान निधि दोगुनी

PM Kisan Samman Nidhi Amount Will Be Doubled

PM Kisan Samman Nidhi Amount Will Be Doubled

देश भर के लगभग 12 करोड़ किसानों के लिए खुशखबरी है. अगर मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो केंद्र सरकार किसान सम्मान निधि की रकम दोगुनी कर सकती है. मोदी सरकार इस बारे में सीरियसली सोच रही है.

अभी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में किसानों को साल भर में 6000 रुपये दिए जाते हैं. दो-दो हज़ार की तीन किश्तों में ये रकम किसानों को दी जाती है. अगर सरकार इस योजना की रकम डबल कर देती है तो हर किसान को 6000 रुपये के बदले 12000 रुपये हर साल दिए जाएंगे. यानी अभी जो दो-दो हज़ार रुपये की तीन किश्तें दी जाती हैं वो किश्तें चार-चार हज़ार रुपये की होंगी. यानी हर चार महीने में 4 हज़ार रुपये की किश्त किसान को मिलेगी.

PM किसान सम्मान निधि योजना में अब तक देश के 12 करोड़ 14 लाख किसान रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं.

PM Kisan Samman Nidhi Amount Will Be Doubled

25 अगस्त 2021 को इस योजना की रकम डबल होने की संभावना को लेकर इसी Vinternet यूट्यूब चैनल पर हमने एक वीडियो अपलोड किया था. हमने बताया था कि रकम डबल होने की संभावना क्यों बढ़ी थी. उस दौरान बिहार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात की थी.

उस मुलाकात के बाद बिहार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने मीडिया से कहा था कि पीएम किसान सम्मान निधि की रकम दोगुनी होने वाली है. उन्होंने ये भी कहा था कि केंद्र सरकार ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है.

दूसरी तरफ किसानों को भी विश्वास है कि पीएम किसान सम्मान निधि की बढ़ाई जा सकती है. किसानों को विश्वास इसलिए है क्योंकि वो ये मानते हैं कि सरकार उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए ऐसा कर सकती है. किसानों का कहना है कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार ने पिछले साढ़े चार साल में गन्ने का मूल्य नहीं बढ़ाया, लेकिन अब क्योंकि चुनाव में कुछ महीने ही बाकी हैं तो योगी सरकार ने गन्ने का मूल्य बढ़ा दिया.

PM Kisan Samman Nidhi Amount Will Be Doubled

आम किसानों को ये भी लगता है कि 2024 से पहले तो पीएम किसान सम्मान निधि की राशि बढ़ाई ही जा सकती है. केंद्र सरकार अब तक पीएम किसान सम्मान निधि योजना में 2000-2000 रुपये की 9 किश्तें जारी कर चुकी है.

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत 2018 में की गई थी. इस योजना का मकसद है साल 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करना. रिपोर्ट्स के मुताबिक अब तक केंद्र सरकार इस योजना के तहत 1.38 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम किसानों के खाते में भेज चुकी है.

First Electric Highway of India देश का पहला इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने का ऐलान

First Electric Highway of India देश का पहला इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने का ऐलान

भारत सरकार ने देश का पहला इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने का ऐलान कर दिया है. ये इलेक्ट्रिक हाइवे दिल्ली से जयपुर के बीच बनाया जाएगा. Minister for Road Transport & Highways नितिन गडकरी ने राजस्थान के दौसा में ये ऐलान किया.

First Electric Highway of India Announced by Nitin Gadkari

इस हाईवे पर इलेक्ट्रिक वाहन ही चलेंगे. इससे पैसा भी बचेगा और प्रदूषण भी कम होगा। केंद्रीय मंत्री की इस घोषणा को देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने की राह में बड़ा कदम माना जा रहा है.

First Electric Highway of India Symbolic picture


200 किलोमीटर लंबे इस हाईवे को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे के साथ ही एक नई लेन पर बनाया जाएगा. ये लेन पूरी तरह इलेक्ट्रिक होगी और इसमें केवल इलेक्ट्रिक वाहन ही चलेंगे. पूरी तरह तैयार होने के बाद ये देश का पहला ई-हाईवे होगा. सरकार इसके लिए स्वीडन की कंपनियों से बात कर रही है.

First Electric Highway of India Symbolic picture

दुनियाभर में तीन अलग-अलग तरह की टेक्नोलॉजी ई-हाईवे के लिए इस्तेमाल की जाती हैं. भारत सरकार स्वीडन की कंपनियों से बात कर रही है, इसलिए माना जा रहा है कि स्वीडन में जो टेक्नोलॉजी इस्तेमाल की जा रही है, वही भारत में भी होगी. स्वीडन में पेंटोग्राफ मॉडल इस्तेमाल किया जाता है, जो भारत में ट्रेनों में भी इस्तेमाल किया जाता है.

First Electric Highway of India

हालांकि इलेक्ट्रिक हाइवे बनाने में सबसे बड़ी चुनौती इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलप करने की है. इलेक्ट्रिक हाईवे को बनाने का खर्च आम रोड के मुकाबले ज्यादा आता है. साथ ही शुरुआत में पूरे देश में ऐसे हाईवे का नेटवर्क खड़ा करना बड़ी चुनौती है. ये काम बेहद खर्चीला और इसमें समय भी ज्यादा लगता है. इसके अलावा केवल इलेक्ट्रिक हाइवे बनाना ही काफी नहीं है. उनपर चलने के लिए भारत में इलेक्ट्रिक गाड़ियां भी होनी चाहिएं.

भारत जैसे देश में पेट्रोल-डीजल से चल रहे वाहनों को इलेक्ट्रिक वाहनों से रिप्लेस करने में लंबा वक्त लग सकता है.

Beware of drinik malware Android Mobile Phone Users Beware of Hackers

Beware of drinik malware Android Mobile Phone Users Beware of Hackers

अगर आप भी एंड्रॉयड फोन यूज़र हैं तो सावधान हो जाइए क्योंकि एंड्राइड स्मार्टफोन यूजर्स पर एक खतरा मंडरा रहा है और इसकी चेतावनी बाकायदा सरकार ने जारी की है. इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम यानी CERT-In ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि एंड्राइड स्मार्टफोन यूजर्स पर Drinik नाम के मैलवेयर का खतरा है.


CERT-In के मुताबिक Drinik मैलवेयर यूजर की ऑनलाइन बैंकिंग डिटेल चुरा रहा है. इस मैलेवेयर के ज़रिए हैकर्स पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के 27 से ज्यादा बैंक के कस्टमर्स को अपना शिकार बना रहे हैं. इसलिए ऑनलाइन बैंकिंग के दौरान आपको बेहद सावधान रहने की ज़रूरत है.

Beware of drinik malware Android Mobile Phone Users Beware of Hackers


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक Drinik नाम का मैलवेयर मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स की डिवाइस पर इनकम टैक्स रिफंड का झांसा देकर एंट्री करता है. इनकम टैक्स रिफंड लिखा होने की वजह से कई बार यूजर्स इस पर भरोसा कर लेते हैं जिसके बाद उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ता है.

Beware of drinik malware Android Mobile Phone Users Beware of Hackers


बताया गया है कि Drinik एक बैंकिंग ट्रोजन है और इसके माध्यम से हैकर यूजर के फोन की स्क्रीन को मॉनिटर कर सकते हैं. इतना ही नहीं बैंकिंग से जुड़ी इन्फोर्मेशन भी इसके ज़रिए चोरी की जा सकती है.


CERT-In ने ये भी बताया है कि ये मैलवेयर टेक्स्ट मैसेज के माध्यम से आपके फोन में घुस सकता है. मैसेज में एक लिंक शेयर किया जाता है जिस पर क्लिक करते ही यूजर इनकम टैक्स की एक फेक वेबसाइट पर पहुंच जाता है. इसके बाद यूजर से वायरस वाली एक APK फाइल को डाउनलोड और इंस्टॉल करने को कहा जाता है. इंस्टॉल पूरा होने के बाद यूजर से एसएमएस, कॉल लॉग और कॉन्टैक्ट डीटेल के साथ ही कई अन्य जरूरी चीजों का एक्सेस मांगा जाता है. एक्सेस मिलते ही यूज़र की बैंकिंग डिटेल चोरी कर ली जाती है.

तो आपको ऐसे किसी भी मैसेज से सावधान रहने की ज़रूरत है जिसमें इनकम टैक्स रीफंड की बात कही गई हो.

Plastic Processing Park in Gautam Budh Nagar प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क

Plastic Processing Park in Gautam Budh Nagar प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क

Plastic Processing Park in Gautam Budh Nagar प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क

उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर में यमुना ऑथॉरिटी एरिया में मेडिकल डिवाइस पार्क, टॉय पार्क, टेक्सटाइल पार्क और लेदर पार्क के साथ-साथ अब Plastic Processing Park भी डेवेलप किया जाएगा.
यीडा यानी यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवेलपमेंट ऑथॉरिटी इस Plastic Processing Park को 100 एकड़ एरिया में डेवेलप करेगी. ऐसा ही एक पार्क गोरखपुर में भी 52 एकड़ एरिया में बनाया जाएगा.


इन दोनों प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्कों से उत्तर प्रदेश में हजारों लोगों को रोजगार मिलेगा. साथ ही साथ यूपी में प्लास्टिक इंड्रस्ट्री को भी बढ़ावा मिलेगा. यूपी सरकार ने अगले 10 साल में होने वाली प्लास्टिक की कई गुना डिमांड को देखते हुए इस इंडस्ट्री को बढ़ावा देने का काम शुरू किया है. सरकार को उम्मीद है कि इन प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्कों में प्लास्टिक इंडस्ट्री की बड़ी कंपनियां इन्वेस्टमेंट करेंगी.

Plastic Processing Park in Gautam Budh Nagar प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क

दुनिया भर में प्लास्टिक की डिमांड तेजी से बढ़ रही है. ऑल इंडिया प्लास्टिक इंडस्ट्रीज़ एसोसिएशन ने कई बार रिक्वेस्ट की थी कि यीडा एरिया में प्लास्टिक इंडस्ट्री के लिए कोई स्कीम लाई जाए. एसोसिएशन का दावा है कि साल 2030 तक प्लास्टिक की डिमांड 5 से 6 गुना बढ़ सकती है. इसीलिए नई इंडस्ट्री लगाई जानी ज़रूरी हैं जिनसे भविष्य की ज़रूरतों को पूरा किया जा सके.

यमुना ऑथॉरिटी के सीईओ का कहना है कि सरकार ने इंडस्ट्रियल इन्वेस्टमेंट को बढ़ावा देने के लिए जो पॉलिसीज़ बनाई हैं, उनसे बिग इन्वेस्टर्स काफी प्रभावित हुए हैं. ये निवेशक सरकार की इंवेस्टर फ्रेंडली पॉलिसीज़ का फायदा लेते हुए अपनी यूनिट उत्तर प्रदेश में लगाना चाहते हैं. इसी के तहत ऑल इंडिया प्लास्टिक इंडस्ट्रीज़ एसोसिएशन ने यीडा एरिया में प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क की स्थापना के लिए रिक्वेस्ट की थी. ऑथॉरिटी ने इसे स्वीकार करते हुए यीडा के सेक्टर 10 में ये पार्क डेवेलप करने का फैसला किया है.
अब एसोसिएशन की रिक्वेस्ट स्वीकार होने के बाद इस पार्क में इन्वेस्टमेंट करने के लिए 20 से ज्यादा इन्वेस्टर्स ने प्रपोज़ल दिए हैं.

Plastic Processing Park in Gautam Budh Nagar प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क

इस पार्क में मेडिकल इक्विपमेंट, एग्रीकल्चर इक्विपमेंट, पीवीसी पाइप, पैकेजिंग और प्लास्टिक फर्नीचर बनाने के प्रपोज़ल दिए गए हैं. ऑथॉरिटी ने इन इन्वेस्टर्स से डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट मांगी है. यीडा के प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क में दो हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा.


इसी तरह गोरखपुर के प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क में भी बड़ी संख्या में लोगों को रोज़गार मिलेगा. गोरखपुर के पार्क में 100 से ज्यादा यूनिट्स लगने की संभावना है. इसके अलावा प्लास्टिक प्रोसेसिंग पार्क में प्लास्टिक पर रिसर्च करने और प्लास्टिक की रीसाइक्लिंग करने के लिए एक टेस्टिंग लैब भी बनाई जाएगी. 5 एकड़ जमीन पर ये लैब CIPET यानी सेंट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के तहत बनाई जाएगी.

Jewar Airport Work Stopped जेवर एयरपोर्ट का काम रुका

Jewar Airport Work Stopped

Jewar Airport Work Stopped सांकेतिक चित्र Symbolic Picture

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जेवर में नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट की साइट पर काम रुक गया है. पिछले कई दिनों से एयरपोर्ट के लिए चुनी गई ज़मीन पर काम रुका हुआ है. काम क्यों रुका है इसकी सही-सही वजह सामने नहीं आई है.

सवाल है कि क्या बारिश की वजह से काम रोका गया है?

क्या कोरोना की तीसरी लहर की आशंका की वजह से काम रोका गया है?


क्या आधिकारिक शिलान्यास की वजह से काम रोका गया है?


या पितृ पक्ष की वजह से काम रोका गया है?

Jewar Airport Work Stopped Jewar Aiport Board

सबसे ज्यादा संभावना इसी बात की है कि श्राद्धों की वजह से काम रोका गया हो. जेवर एयरपोर्ट का काम 23 अगस्त 2021 को शुरू किया गया था. एयरपोर्ट के लिए अक्वायर की गई ज़मीन पर सबसे पहले साफ सफाई और समतलीकरण का काम किया जाना है. काम शुरू हुए लगभग एक महीना हो चुका है लेकिन अभी समतलीकरण ही पूरा नहीं हो पाया है. और अब तो पिछले कई दिनों से काम रुका ही हुआ है.

टारगेट रखा गया है कि 2023 में ही जेवर से फ्लाइट्स शुरू हो जाएं लेकिन इसकी उम्मीद कम ही लगती है.
हालांकि काम रुकने को लेकर जेवर के विधायक धीरेन्द्र सिंह ने सफाई दी है. धीरेंद्र सिंह का कहना है कि पीएम और सीएम की मौजूदगी में ऑफिशियल शिलान्यास होने के बाद एयरपोर्ट का काम तेज़ी पकड़ेगा. धीरेंद्र सिंह ने ये भी कहा है कि उन्हें यूपी के मुख्यमंत्री के दफ्तर से जानकारी मिली है कि श्राद्ध खत्म होने के बाद किसी भी दिन एयरपोर्ट का शिलान्यास हो सकता है. जैसे ही पीएमओ से तारीख मिलेगी वैसे ही एयरपोर्ट का भूमिपूजन कर दिया जाएगा.

जेवर विधायक ने ये भी बताया कि एयरपोर्ट का शिलान्यास अगस्त में ही होना था, लेकिन अफगानिस्तान में तख्तापलट और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन की वजह से प्रधानमंत्री के दप्तार से शिलान्यास का समय नहीं मिल पाया था. अब मुख्यमन्त्री दफ्तर ने पितृ पक्ष के बाद नवरात्र में एयरपोर्ट के शिलान्यास का कार्यक्रम कराने के लिए पीएमओ को प्रस्ताव भेजा है. अब प्रधानमंत्री कार्यालय से ही तारीख तय होनी है. शिलान्यास के बाद एयरपोर्ट का काम युद्धस्तर पर होगा.

Singapore Companies Want to Invest in UP यूपी में सिंगापुर की कंपनियां

Singapore Companies

सिंगापुर की कई कंपनियां भारत के उत्तर प्रदेश में इन्वेस्टमेंट करना चाहती हैं. भारत में सिंगापुर के हाईकमिश्नर साइमन वॉन्ग वी कुन ने कहा है कि सिंगापुर की कंपनियां यूपी में लॉजिस्टिक, इंटीग्रेटड टाउनशिप और डाटा सेंटर के फील्ड में निवेश करना चाहती हैं.


सिंगापुर के हाईकमिश्नर कुन की अगुवाई में 3 मेम्बर्स के डेलीगेशन ने 23 सितम्बर 2021 को यूपी के इंडस्ट्रियल डेवेलपमेंट मिनिस्टर और चीफ सेक्रेटरी से मुलाकात की. इसी दौरान सिंगापुर के हाईकमिश्नर ने कहा कि सिंगापुर के इन्वेस्टर्स यूपी में msme क्षेत्र समेत कई सेक्टर्स में निवेश करना चाहते हैं. वॉन्ग ने कहा कि उनके देश के निवेशक बुन्देलखण्ड में डिफेन्स कॉरीडोर, एमएसएमई यूनिट्स, लॉजिस्टिक्स, इंटीग्रेटेड टाउनशिप और डाटा सेण्टर की स्थापना में निवेश के लिये इच्छुक हैं. इसके अलावा निवेशक वाराणसी में स्किल सेण्टर के क्षेत्र में भी निवेश करना चाहते हैं.

Singapore Companies Want to Invest in Uttar Pradesh | Vinternet | Vivek Vashistha


सिंगापुर के हाईकमिश्नर ने बताया कि सिंगापुर की दो कंपनियां नोएडा में डाटा सेंटर की स्थापना करना चाहती हैं. एक कंपनी कानपुर में एग्रो फील्ड में निवेश की इच्छुक है. उन्होंने इनके लिए ज़मीन उपलब्ध कराने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि भारत और सिंगापुर के बीच व्यापारिक रिश्ते काफी मजबूत हैं. उत्तर प्रदेश में निवेश के लिये अनुकूल माहौल है और यहां का मास्टर प्लान बहुत अच्छा है. यहां पर लॉजिस्टिक प्वाइंट बहुत ही सुनियोजित ढंग से विकसित किये गये हैं. उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा धार्मिक स्थल होने के कारण यहां बड़ी संख्या में देश-विदेश से श्रद्धालु आते हैं.


उधर उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास के कारण दुनियाभर के निवेशकों को अपनी ओर आकर्षित करने में सफल हो रहा है. प्रदेश में 21 नई इन्वेस्टमेंट फ्रेंडली नीतियाँ लागू की गई हैं. उत्तर प्रदेश निवेशकों को अनुकूल और भयमुक्त वातावरण दे रहा है.

उत्तर प्रदेश के इंडस्ट्रियल डेवेलपमेंट मिनिस्टर सतीश महाना ने सिंगापुर के निवेशकों को प्रदेश में निवेश के लिए इनवाइट करते हुए कहा कि सरकार निवेशकों को हर तरह की सुविधाएं दे रही है.

Natural Paint Made from Cow dung By KVIC 1 KG गोबर के बदले क्या मिलेगा?

Natural Paint Made from Cow dung By KVIC

Natural Paint Made from Cow dung By KVIC 1 KG गोबर के बदले मिलेगा कितना पैसा?

कौन खरीदेगा आपकी गाय का गोबर ?

1 किलो गोबर के बदले मिलेगा कितना पैसा ?

गोबर से कौन बनाएगा पेंट ?

गोबर से बना पेंट आम पेंट से कितना सस्ता होगा ?

https://youtu.be/zhqZQGOmNeU

अगर आप जानना चाहते हैं इन सवालों के जवाब तो इस वीडियो को देखिए आखिर तक और अगर आप पहली बार इस चैनल पर आए हैं तो इन्फ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी लेटेस्ट न्यूज़ लगातार पाने के लिए इस चैनल को सब्स्क्राइब कर लीजिए अभी.

दोस्तों, अगर आप भी भारत के किसी गांव में रहते हैं और आपके पास गाय भी हैं तो मोटी कमाई के लिए तैयार हो जाइए. अब आपको मिलने वाला है गाय से काम और गोबर का अच्छा दाम.

Natural Paint Made from Cow dung By KVIC

KVIC यानी KHADI AND VILLAGE INDUSTRIES COMMISION जल्द ही देश भर के कई इलाकों में गाय के गोबर से नैचुरल पेंट बनाने की यूनिट लगाने जा रहा है. इन यूनिट्स पर आम लोगों और गौशालाओं से गोबर बाकायदा खरीदा जाएगा. गाय के गोबर के लिए पांच रुपये प्रति किलो के हिसाब से भुगतान किया जाएगा. यानी अगर कोई ग्रामीण महीने भर में गाय का 2000 किलो गोबर भी बेचता है तो उसे 10000 रुपये महीने की कमाई होने लगेगी.

फिलहाल गांवों में गोबर का इस्तेमाल उपले बनाकर ईंधन के तौर पर या खाद के तौर पर किया जाता है. लेकिन शहरी इलाकों में कई गौशालाओं में गोबर को पानी के साथ नालियों में बहा दिया जाता है. जिससे गंदगी तो फैलती ही है गोबर का भी इस्तेमाल नहीं हो पाता. लेकिन अब KVIC की मदद से न सिर्फ गोबर का सही इस्तेमाल होगा बल्कि गांव के लोगों को गोबर से अच्छा पैसा कमाने का मौका भी मिलेगा.

KVIC ने देश की राजधानी दिल्ली, यूपी के वाराणसी, गुजरात के अहमदाबाद, कर्नाटक के बेंगलुरू, महाराष्ट्र के नाशिक और ओडिशा के चौद्वार में भी नैचुरल पेंट की फैक्ट्री लगाने का फैसला किया है.

अब अगर आपको लगता है कि ये कोई अफवाह है या ऐसा पॉसिबल ही नहीं है तो इन तस्वीरों को देखिए. ये तस्वीरें हैं जनवरी 2021 की. ये तस्वीरें उस ईवेंट की हैं जब देश के MSME मिनिस्टर के तौर पर नितिन गडकरी ने पहली बार राजस्थान के जयपुर में गाय के गोबर से बना पेंट लॉन्च किया था.

KVIC चेयरमैन विनय कुमार सक्सेना ने बताया कि आम लोगों और गौशालाओं (Gaushala) से पांच रुपये प्रति किलोग्राम की कीमत पर गोबर खरीदा जाएगा. KVIC के मुताबिक अभी लोग एक से डेढ़ रुपये प्रति किलोग्राम की दर पर गाय के गोबर को खाद या दूसरे कामों के लिए बेचते हैं. गोबर के उपले बनाकर भी बेचे जाते हैं जिसमें लागत और मेहनत भी लगती है. लेकिन अब KVIC चार से पांच गुना ज्यादा कीमत देकर गोबर खरीदेगा.

आमतौर पर एक हेल्दी गाय दिन में 20 से 25 किलोग्राम तक गोबर करती है. ऐसे में पांच रुपये प्रतिकिलो के हिसाब से एक गाय के गोबर को बेचने से ही रोजाना 100 रुपये से 125 रुपये तक की कमाई की जा सकती है. साथ ही महीने का तीन हजार रुपये से चार हजार रुपये तक एक गाय से कमाया जा सकता है. जबकि गाय का दूध और घी अलग हैं.

6 महीने पहले लांच हुए इस Natural Paint Made from Cow dung By KVIC की मांग लगातार बढ़ रही है. महज 12 दिन के अंदर गोबर से बना साढ़े तीन हजार लीटर पेंट बिक गया था. ये बिक्री सिर्फ दिल्ली और जयपुर के 2 स्टोर्स से की गई थी.

लोग अपने घरों की दीवारों पर इसका यूज़ कर रहे हैं. इस पेंट को लॉन्च करने वाले नितिन गडकरी ने भी इसका इस्तेमाल अपने घर की दीवारों पर किया है. वहीं खादी ग्रामोद्योग आयोग की कई बिल्डिंग्स में भी इसे यूज़ किया गया है. अब खादी ग्रामोद्योग आयोग ने इस पेंट की ऑनलाइन सेल Online Sale भी शुरू कर दी है. अब देशभर में कहीं से भी लोग इसे ऑर्डर कर सकते हैं.

गाय के गोबर से बना ये नैचुरल पेंट बाज़ार में मिलने वाले बड़ी कंपनियों के पेंट्स के मुकाबले लगभग आधी कीमत पर मिल रहा है. इसके डिस्टेम्पर की कीमत 120 रुपये किलो और इमलशन की कीमत 215 रुपये किलो रखी गई है. 

%d bloggers like this: