Tumko banane wale ne तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है Hindi Shayari

Tumko banane wale ne तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है Hindi Shayari

Tumko banane wale ne तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है Hindi Shayari

Hindi Shayari. Tumko banane wale ne. Love Shayari.

जो दौड़ का मैदान था सोया सा पड़ा है

बच्चों के लिए खेल से अब गेम बड़ा है

पलकें झुकाना बन गया सवाल नाक का

जिसको भी देखो आज वही ज़िद पे अड़ा है

जकड़न सी में हर शख्स है खुलता ही नहीं है

ऐसा दिखावटों का दिल पे ताला पड़ा है

गहरी है नींद उसकी या सोने का भरम है

अब छोड़ दो यारों उसे वो चिकना घड़ा है

इस मुल्क ने कीमत बड़ी चुकाई है तब-तब

जब-जब यहां अपना कोई अपनों से लड़ा है

ना जाने कैसी-कैसी जंग में फंसे हो तुम

आ जाओ खुला इश्क का मैदान पड़ा है

अपने हुनर की सरहदों को पार कर गया

तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है

अब होने लगा है तुम्हारे हुस्न का चर्चा

ऐसा हमारी आशिकी का रंग चढ़ा है

रहते हो परेशां कि कब तलाश ख़त्म हो

तुम हो खड़े जहां वहीं ख़ज़ाना गड़ा है

Jo daud ka maidan tha soya sa pada hai

Bachchon k liye khel se ab game bada hai

Palken jhukana ban gaya sawaal naak ka

Jisko bhi dekho aaj vahi zid pe adaa hai

Jakdan si mein har shakhs hai khulta hi nahin hai

Aisa dikhawaton ka dil pe talaa pada hai

Gehri hain neend uski ya sone ka bharam hai

Ab chhod do yaaron use vo chikna ghada hai

Is mulk ne keemat badi chukai hai tab-tab

Jab-jab yahaan apna koi apnon se ladaa hai

Naa jaane kaisi-kaisi jung mein phanse ho tum

Aa jao khulaa ishq ka maidan pada hai

Apne hunar ki sarhadon ko paar kar gaya

Tumko banane wale ne kuchh aisa gadhha hai

Ab hone laga hai tumhare husn ka charcha

Aisa hamari ashiqi ka rang chadhhaa hai

Rehte ho pareshaan ki kab talaash khatm ho

Tum ho khade jahaan vahin khazana gada hai

Humraah Lyrics in Hindi Malang हमराह लिरिक्स इन हिन्दी मलंग

Humraah Lyrics in Hindi Malang हमराह लिरिक्स इन हिन्दी मलंग

Humraah Lyrics in Hindi from the movie Malang हमराह लिरिक्स इन हिन्दी मलंग Film

”Humraah” Lyrics of the ”Humraah” song from the movie Malang is Latest Hindi song in the voice of Sachet Tandon. The song features Aditya Roy Kapur and Disha Patani. The music of this song has been composed by The Fusion Project. The ”Humraah” lyrics has been penned by Kunaal Vermaa and the video has been directed by Mohit Suri.

Song-Humraah
Film-Malang
Singer-Sachet Tandon
Lyrics-Kunaal Vermaa
Music-The Fusion Project

गाना: हमराह
फिल्म: मलंग
गायक: सचेत टंडन
गीतकार: कुणाल वर्मा
संगीतकार: द फ्यूज़न प्रोजेक्ट

दिल को जाने क्या हुआ
मिलके अपना सा तू लगा
कैसे मैं करूँ बयां
तुमसे ये जुनून है या गुमान
ऐसे मुझे तुम मिले तुम मिले
जैसे कोई दिन खिले दिन खिले
जाने कहाँ हम चले हम चले
चाहे जो भी दिल करे

जिस राह जिस राह भी जाऊं
तुझको तुझको ही चाहूँ
हमराह अब से मेरा तू
हमराह मैं भी तेरा हूँ

जिस राह जिस राह भी जाऊं
तुझको तुझको ही चाहूँ
हमराह अब से मेरा तू
हमराह मैं भी तेरा हूँ

एहसानमंद है दिल अब से ये तेरा
ये मर्ज़ कैसा है क्या नाम दूं बता
घर की दीवारें टूटी
दिल का जहां दिखा है

आंखों ने आज देखा ख्वाबों का आसमां है
तेरा करता हूँ शुक्रिया

जिस राह जिस राह भी जाऊं
तुझको तुझको ही चाहूँ
हमराह अब से मेरा तू
हमराह मैं भी तेरा हूँ

जिस राह जिस राह मैं भी
एहसानमंद है दिल अब से ये तेरा
ये मर्ज़ कैसा है क्या नाम दूं बता

Dil Ko Jaane Kya Hua
Milke Apna Sa Tu Laga
Kaise Main Karun Bayaan

Tumse Ye Junoon Hai Ya Gumaan
Aise Mujhe Tum Mile Tum Mile
Jaise Koyi Din Khile Din Khile
Jaane Kahan Hum Chale Hum Chale
Chahe Jo Bhi Dil Kare

Jis Raah Jis Raah Bhi Jaaun
Tujhko Tujhkho Hi Chaahun
Humrah Abse Mera Tu
Humraah Main Bhi Tera Hu

Jis Raah Jis Raah Bhi Jaaun
Tujhko Tujhkho Hi Chaahun
Humrah Abse Mera Tu
Humraah Main Bhi Tera Hu

Aehsaanmand Hai Dil Ab Se Ye Tera
Ye Marz Kaisa Hai Kya Naam Du Bata
Dil Ki Diwaarein Tuti
Dil Ka Jahan Dikha Hai
Aankhon Ne Aaj Dekha Khwaabon Ka Aasman Hai
Tera Karta Hu Shukriyan

Jis Raah Jis Raah Bhi Jaaun
Tujhko Tujhkho Hi Chaahun
Humraah Abse Mera Tu
Humraah Main Bhi Tera Hu

Jis Raah Jis Raah Main Bhi
Aehsaanmand Hai Dil Ab Se Tera
Ye Marz Kaisa Hai Kya Naam Du Bata

Song-Humraah
Film-Malang
Singer-Sachet Tandon
Lyrics-Kunaal Vermaa
Music-The Fusion Project

गाना: हमराह
फिल्म: मलंग
गायक: सचेत टंडन
गीतकार: कुणाल वर्मा
संगीतकार: द फ्यूज़न प्रोजेक्ट

Toote hain pankh magar टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है Hindi Shayari

Toote hain pankh magar टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है Hindi Shayari

Toote hain pankh magar टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है Hindi Shayari

Toote hain pankh magar Hindi Shayari

ख़त्म हुआ हूं नहीं कि अभी जान बाकी है

टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है

अग्निपरीक्षाओं से सत्य रोज़ गुज़रेगा

जब तलक सफेद झूठ का जहान बाकी है

किसपे विश्वास करें और किससे मशविरा

कैसे करें पता कि ईमान कहां बाकी है

लिस्ट में एहसानों की कई नाम कट गए

बाकी हैं कई जिनके नाम वहां बाकी है

कभी-कभी लगता है बदलेगा कुछ नहीं

जब तलक कि नफ़रत की वो दुकान बाकी है

गिर गई हैं दीवारें खंभे बने खंडहर

पगला सोचता है कि अब भी मकान बाकी है

ख़त्म हुआ हूं नहीं कि अभी जान बाकी है

टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है

https://vinternet.in/chamakta-chand-andheri-raat/

Khatm hua hoon nahin ki abhi jaan baaki hai

Toote hain pankh magar ek udaan baaki hai

Agnipareekshaon se satya roz guzrega

Jab talak safed jhooth ka jahan baaki hai

Kispe vishwas karein aur kis se mashvira

Kaise karein pata k eemaan kahaan baaki hai

List mein ehsaanon ki kai naam kat gaye

Baaki hain kai jinke naam vahaan baaki hai

Kabhi-kabhi lagta hai badlega kuchh nahin

Jab talak ke nafrat ki vo dukaan baaki hai

Gir gayi hain deewarein khambhe bane khandahar

Pagla sochta hai ki ab bhi makaan baaki hai

Khatm hua hoon nahin ki abhi jaan baaki hai

Toote hain pankh magar ek udaan baaki hai

https://vinternet.in/darbar-mein-raja-ke/

Chamakta Chand Andheri Raat चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं Hindi Shayari

Chamakta Chand Andheri Raat चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं Hindi Shayari

Chamakta Chand. चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं. Hindi shayari

Chamakta Chand Andheri Raat चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं

चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं

सियासत धर्म और ज़ात के बिना कुछ भी नहीं

यूं तो किस्से और कहानियां बेशुमार हैं यहां

जहान मोहब्बत की बात के बिना कुछ भी नहीं

घने बादल और सुनहरी शाम तो ठीक हैं लेकिन

इश्क़ का रंग भीगी बरसात के बिना कुछ भी नहीं

तेरा होना मेरे लिए ऊपरवाले का वरदान है

मेरा होना तेरे ख्यालात के बिना कुछ भी नहीं

इंसान खुशफ़हमियों में अक्सर भूल जाता है

हम सारे उसकी करामात के बिना कुछ भी नहीं

ये जो नेता हैं जानते हो इनका वजूद किनसे है

ये भरमाई गई जमात के बिना कुछ भी नहीं

चमकते मॉल और बिल्डिंगों से गुमराह ना होना

हमारा देश गांव-देहात के बिना कुछ भी नहीं

कितना भी चख लो कॉन्टिनेन्टल और चायनीज़

खाने का मज़ा दाल-भात के बिना कुछ भी नहीं

Chamakta chaand andheri raat ke bina kuchchh bhi nahin

Siyasat Dharm aur Zaat ke bina kuchh bhi nahin

Yun to kisse aur kahaniyaan beshumaar hain yahaan

Jahaan mohabbat ki baat ke bina kuchchh bhi nahin

Ghane badal aur sunehri shaam to theek hai lekin

Ishq ka rang bhigi barsaat ke bina kuchchh bhi nahin

Tera hona mere liye ooparwale ka vardan hai

Mera hona tere khayalaat ke bina kuchchh bhi nahin

Insaan khushfehmiyon mein aksar bhool jata hai

Hum saare uskin karamat ke bina kuchchh bhi nahin

Ye jo neta hain jante ho inka vajood kinse hai

Ye bharmai gai jamat ke bina kuchchh bhi nahin

Chamakte mall aur buildingon se gumrah na hona

Hamara desh gaanv-dehat ke bina kuchchh bhi nahin

Kitna bhi chakh lo continental aur chinese

Khane ka mazaa daal-bhaat ke bina kuchchh bhi nahin

Darbar mein Raja ke दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं Hindi Shayari

Darbar mein Raja ke दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं Hindi Shayari सड़क पर धूल में नगीने बैठे हैं

Darbar mein Raja ke दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं Hindi Shayari

life quotes in hindi

दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं

सड़क पर धूल में नगीने बैठे हैं

हक वही जो मिले सूखने से पहले

तरबतर मज़दूरों के पसीने बैठे हैं

इंसानों से उम्मीद ज़रा कम रखना

बनके हाड़-मांस की मशीनें बैठे हैं

ऊंचाई हमेशा बड़प्पन नहीं होती

छतों पे चढ़के आज ज़ीने बैठे हैं

जो आए थे दर पे एक ठौर मांगने

दबा के आज हमारी ज़मीनें बैठे हैं

बस अब बहुत हुआ खेल मत खेलो

समझो, हम चढ़ा के आस्तीनें बैठे हैं

मौत का डर दिखाता है तो आ भी

हम कौन सा हमेशा जीने बैठे हैं

दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं

सड़क पर धूल में नगीने बैठे हैं

Darbar mein Raja ke kamine baithe hain

Sadak pe dhool mein nagine baithe hain

Haq wahi jo mile sookhne se pehle

Tarbatar mazdooron k paseene baithe hain

Insaanon se ummeed zara kam rakhna

Banke haad-maans ki masheene baithe hain

Oonchai hamesha badappan nahin hoti

Chhaton pe chadhke aaj zeene baithe hain

Jo aaye thhey dar pe ek thaur maangne

Vo aaj daba ke hamaari zameene baithe hain

Bas ab bahut hua, khel mat khelo

Samjho, Ham chadha ke aasteene baithe hain

Maut ka dar dikhata hai to aa bhee

Ham kaun sa hamesha jeene baithe hain

Darbar mein Raja ke kamine baithe hain

Sadak pe dhool mein nagine baithe hain

इक झलक तो ठीक है उनको न देखूं देर तक Ik jhalak to theek hai

Shayari

Hindi Love Shayari इक झलक तो ठीक है उनको न देखूं देर तक Ik jhalak to theek hai

Ik jhalak to theek hai

कहते-कहते दिल मेरा हर बार ठिठक जाता है

लगता है दिमाग़ के दबाव में आ जाता है

मैं इधर होता हूं तो ये उधर चला जाता है

उधर चला जाऊं तो ये इधर चला आता है

वो न हों तो हौसला रहता सदा मज़बूत है

सामने उनके न जाने किधर चला जाता है

इक झलक तो ठीक है उनको न देखूं देर तक

देखने से देखने का असर चला जाता है

हाथ फैलाने से पहले तुम ज़रा सा सोचना

मांगने से मांगने का असर चला जाता है

आज़माने के हमारे शौक ने ये सीख दी

परखने में अपनेपन का असर चला जाता है

कहते-कहते दिल मेरा हर बार ठिठक जाता है

लगता है दिमाग़ के दबाव में आ जाता है

Kehte Kehte dil mera har baar thithak jata hai

Lagta hai dimaag ke dabav mein aa jata hai

Main idhar hota hun to ye udhar chala jata hai

Udhar chala jaun to ye idhar chala aata hai

Vo na ho to hausla rehta hai sada mazboot

Saamne uske n jaane kidhar chala jaata hai

Ik jhalak to theek hai unko na dekhun der tak

Dekhne se dekhne ka asar chala jaata hai

Haath phailane se pehle tum zara sa sochna

Mangne se mangne ka asar chala jaata hai

Aazmane ke hamare shauk ne ye seekh di

Parakhne mein dosti ka asar chala jaata hai

Kehte Kehte dil mera har baar thithak jata hai

Lagta hai dimaag ke dabav mein aa jata hai

Best Hindi Shayari वो जवानी क्या जवानी Love Shayari

Best Hindi Shayari वो जवानी क्या जवानी Love Shayari

वो जवानी क्या जवानी…

फ़ुर्सतों में ना सताए वो कहानी क्या कहानी

जो अधूरी रह गई थी वो कहानी क्या सुनानी

हूक दिल में न उठाए वो निशानी क्या निशानी

भूल से जो रह गई थी वो निशानी क्या दिखानी

यूं तो कहने से असर में ग़म के आती है कमी

जिसका सारा छल है उसको आपबीती क्या सुनानी

बात से है बात बनती और बनती बातें भी

बात को ज़्यादा बढ़ाएं ऐसी बातें क्या बढ़ानी

उम्र है या हौसला है इंक़लाबी कौन है

जो गदर में सर बचाये वो जवानी क्या जवानी

फ़ुर्सतों में ना सताए वो कहानी क्या कहानी

जो अधूरी रह गई थी वो कहानी क्या सुनानी

Best Hindi Shayari आसमां मिल तो सकता है Love Shayari

Best Hindi Shayari आसमां मिल तो सकता है Love Shayari

Best Hindi Shayari आसमां मिल तो सकता है Love Shayari

आसमां मिल तो सकता है परों को खोलना होगा

ज़माना हिल तो सकता है ज़ोर से बोलना होगा

गए वो दिन कि जब मैं थरथराता ख़ौफ़ खाता था

आज परचम को तेरे थरथराना डोलना होगा

जानकर और समझकर तो नहीं पहचान पाया हूं

तेरे हर एक इरादे को मुझे अब तोलना होगा

ये मेरा इश्क़ है ले लो मुनाफ़े में रहोगे तुम

आज तो मिल भी सकता है कल इसका मोल ना होगा

आसमां मिल तो सकता है परों को खोलना होगा

ज़माना हिल तो सकता है ज़ोर से बोलना होगा



Aasman mil to sakta hai paron ko kholna hoga

Zamana hil to sakta hai zor se bolana hoga

Gaye vo din ki jab main thartharata khauf khata tha

Aaj parcham ko tere thartharana ḍolana hoga

Jaankar aur samajhkar to nahin pehchan paya hoon

Tere har ek irade ko mujhe ab tolna hoga

Ye mera ishq hai le lo munafe mein rahoge tum

Aaj to mil bhi sakta hai kal iska mol na hoga

Aasman mil to sakta hai paron ko kholna hoga

Zamana hil to sakta hai zor se bolna hoga



Hindi Shayari on winter season शिमला से आगे निकली दिल्ली

Hindi Shayari on winter season शिमला से आगे निकली दिल्ली

Hindi Shayari on winter season अबकी दिल्ली में वो ठंड पड़ी

सुनते आए हैं बचपन से शिमला में है ठंड बड़ी

शिमला पीछे छूटा अबकी दिल्ली में वो ठंड पड़ी


होगा शिमला हिल स्टेशन पड़ती भी होगी बर्फ़ वहां

चिल स्टेशन बन के दिल्ली ने कर दी सबकी खाट खड़ी


टेम्प्रेचर शिमला से घटा कड़ाका शिमला से ज्यादा

2 डिग्री के पारे से दिल्ली की रैंकिंग और बढ़ी


खाने को ठंडा होने में नहीं मिनट भी लगता है

ऑर्डर देकर मंगवा लो कहती है बीवी पड़ी-पड़ी


सर्दी में रूखेपन ने चेहरे की चमक उड़ा डाली

सूखी त्वचा, फटी एड़ी और उतरी होठों की पपड़ी


सुन्न हाथ और पैर सुन्न पानी करंट सा लगता है

अलार्म लगता दुश्मन घड़ी दिखाती आंखें घड़ी-घड़ी


मफलर टोपी पहन के निकले हम कोहरे से लड़ते हैं

ज़िद पे अड़ी हुई ये सर्दी होती जाती और कड़ी


सुनते आए हैं बचपन से शिमला में है ठंड बड़ी

शिमला पीछे छूटा अबकी दिल्ली में वो ठंड पड़ी

Sunte aye hain bachpan se shimla mein hai thand badi
Shimla pichhe chhoota abki dilli mein vo thand padi

Hoga shimla hill station padti bhi hogi barf vahan
Chill station banke dilli ne kar di sabki khaat khadi

Temperature shimla se ghata kadaka shimla se zyada
2 digree ke pare se dilli ki ranking aur badhi

Khane ko thanda hone mein nahin minute bhi lagata hai
Order dekar mangwa lo kehti hai biwi padi-padi

Sardi mein rukhepan ne chehre ki chamak uda daali
Sukhi tvchaa, fati edi aur utri hothon ki papdi

Sunn haath aur pair sunn pani current sa lgata hai
Alarm lagata dushman ghadi dikhati ankhen ghadi-ghadi

Muffler topi pehen ke nikle hum kohre se ladte hain
Zid pe adi hui ye sardi hoti jaati aur kadi

Sunte aye hain bachpan se shimla mein hai thand badi
Shimla pichhe chhoota abki dilli mein vo thand padi  

 

%d bloggers like this: