Noida International Airport Latest News in Hindi 31 KM की सड़क क्यों जरूरी?

Noida International Airport Latest News in Hindi | 31 KM की सड़क क्यों जरूरी है?

इस आर्टिकल में आप जानेंगे उस सड़क का अपडेट जो जेवर एयरपोर्ट को दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है. यूपी को हरियाणा से जोड़ने वाली इस सड़क के यूपी में आने वाले हिस्से के लिए ज़मीन अधिग्रहण की प्रोसेस शुरू हो गई है. 6 लेन की इस सड़क की कुल लंबाई 31 किलोमीटर होगी. इसका 7 किलोमीटर हिस्सा यूपी के गौतम बुद्ध नगर में और 24 किलोमीटर हिस्सा हरियाणा में होगा. यही वो सड़क होगी जो जेवर एयरपोर्ट को दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेसवे के रास्ते दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ेगी.

दरअसल दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे की शुरुआत दिल्ली एयरपोर्ट के नज़दीक से ही हो रही है. आगे चलकर दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे यूपी की सीमा के नज़दीक हरियाणा के बल्लभगढ़ से होकर गुजर रहा है. ऐसे में ज़रूरत थी एक ऐसी सड़क की जो यूपी के गौतम बुद्ध नगर से हरियाणा के बल्लभगढ़ तक जाए. इसीलिए इस सड़क का निर्माण करने का फैसला लिया गया.

अब गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन ने इस सड़क के लिए ज़मीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू कर दी है. NHAI यानी नैशनल हाइवे ऑथॉरिटी ऑफ इंडिया की मांग पर ये काम शुरू किया गया है. 31 किलोमीटर की इस सड़क के लिए गौतमबुद्घ नगर में लगभग 70 हेक्टेयर जमीन अक्वायर की जानी है.

गौतम बुद्ध नगर के एडीएम-लैंड एक्विजिशन बलराम सिंह ने मीडिया को बताया है कि इस सड़क के लिए 4 गांवों की जम़ीन का अधिग्रहण किया जाना है. ये ज़मीन जेवर इलाके के वल्लभनगर, दयानतपुर, फलैंदा बांगर और करौली बांगर की होगी.

इन गांवों के किसानों से ऑब्जेक्शन्स मंगाए गए हैं. किसानों को आपत्ति दर्ज कराने के लिए 21 दिनों का वक्त दिया गया है. किसान जिला प्रशासन के पास आपत्तियां दर्ज करा सकते हैं. किसानों की शिकायतों का निपटारा होने के बाद जमीन अधिग्रहण शुरू होगा और उसके बाद सड़क बनाई जाएगी. सड़क निर्माण का काम एनएचएआई करेगा लेकिन उसका खर्च राज्य सरकार को देना होगा.

31 किलोमीटर की ये सड़क दयानतपुर गांव के पास यमुना एक्सप्रेस वे के 32 किमी प्वाइंट पर बनाए जा रहे इंटरचेंज से जुड़ेगी और इंटरचेंज से नोएडा एयरपोर्ट के एंट्री गेट तक 750 मीटर लंबी एलिवेटेड रोड बनाई जाएगी. इस तरह से एलिवेटेड रोड, इंटरचेंज, 31 किलोमीटर की सड़क और दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे मिलकर जेवर के नोएडा एयरपोर्ट को दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ देंगे.

Noida International Airport Latest News in Hindi | 31 KM की सड़क क्यों जरूरी है?


यमुना ऑथॉरिटी के ओएसडी और नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड कंपनी के नोडल अफसर शैलेंद्र भाटिया ने बताया है कि नोएडा एयरपोर्ट के लिए मल्टी मोडल कनेक्टिविटी पर काम हो रहा है. दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे से कनेक्टिविटी भी इसी का हिस्सा है.

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी,
Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट की सिक्योरिटी से जुड़ी हुई एक बड़ी खबर सामने आई है. कुछ वक्त पहले हमने इसी चैनल पर आपको एक वीडियो में बताया था कि जेवर एयरपोर्ट की सीधी-सीधी बाउंड्री बनाने के काम में परेशानी आ रही है.

एयरपोर्ट डेवेलपर कंपनी ने बाउंड्री बनाना शुरू करने से पहले पूरी ज़मीन की पैमाइश यमुना एक्स्प्रेसवे ऑथॉरिटी और तहसील के कर्मचारियों के साथ मिल कर की थी. पैमाइश से पता चला था कि कुछ ज़मीन ऐसी है जहां सीधी दीवार नहीं बनाई जा सकती. यानी ज़मीन पर मोड़ आ रहे हैं.

Greater Noida International Airport Latest News जेवर एयरपोर्ट की चारदीवारी

इन मोड़ों को खत्म करने के दो रास्ते हैं पहला ये कि डेवेलपर कंपनी सीधी दीवार बनाने पर बाहर जा रही जमीन को खाली छोड़ दे. और दूसरा ये कि सीधी बाउंड्री बनाने के लिए आसपास की कुछ और ज़मीन अक्वायर करे. इसके लिए डेवेलपर को किसानों से लगभग 40 हेक्टेयर जमीन और लेनी पड़ती. अब डेवेलपर ने फैसला किया है कि वो बाउंड्री बनाने के लिए कुछ ज़मीन खाली छोड़ने को तैयार है.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की सुरक्षा की मजबूती के लिए चारदीवारी को सीधा बनाने का फैसला लिया गया है. यानी अक्वायर की गई ज़मीन का कुछ हिस्सा चारदीवारी के बाहर भी रहेगा. ये जमीन एयरपोर्ट के दूसरे या तीसरे फेज़ में इस्तेमाल की जाएगी. चारदीवारी के बाहर तार की फेंसिंग रहेगी. जिससे एयरपोर्ट की सिक्योरिटी के लिए 2 लेयर तैयार हो जाएंगी. इससे किसी के लिए भी डबल सिक्योरिटी को तोड़कर एयरपोर्ट एरिया में घुसना मुश्किल होगा.

अब जो बाउंड्री बनाई जाएगी वो अक्वायर की गई कुल ज़मीन से 2 मीटर अंदर की ओर होगी. नोएडा एयरपोर्ट की जमीन पर चारदीवारी का काम शुरू हो गया है. चारदीवारी के बीच-बीच में बने वॉच टावर पर तैनात सिक्योरिटी गार्ड दूर-दूर तक निगरानी कर सकेंगे.

एयरपोर्ट की अधिगृहीत जमीन सीधी लाइन में न होने की वजह से इस बात पर काफी मंथन चल रहा था कि चारदीवारी को सीधा रखा जाए या नहीं. आखिरकार फैसला हुआ कि किसानों से 40 हेक्टेयर जमीन लेने के बजाए एयरपोर्ट की अधिगृहीत जमीन पर पहले से मौजूद तार फेंसिंग के अंदर ही सीधी चारदीवारी बनाई जाएगी.

यमुना ऑथॉरिटी के ओएसडी शैलेंद्र भाटिया का कहना है कि एयरपोर्ट की जमीन की पैमाइश के बाद सभी बिदुओं का मिलान किया गया है. एयरपोर्ट की चारदीवारी लगभग 18 किमी लंबी हो सकती है. चारदीवारी सीधी होने से सुरक्षा चौकी, और टॉवर भी कम बनेंगे और दूर तक निगरानी आसान होगी.

यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड , यमुना विकास प्राधिकरण और तहसील प्रशासन की टीमों ने एयरपोर्ट की जमीन की दोबारा से पैमाइश की थी. एयरपोर्ट के शिलान्यास से पहले डेवेलपर कंपनी चारदीवारी का निर्माण कार्य शुरू कर चुकी है.

%d bloggers like this: