Hindi Shayari साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai Romantic Shayari

Hindi Shayari साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai Romantic Shayari

साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है

मेरे संग हर कदम चलने को ये तैयार होती है

अकेलापन सफ़र लंबा मगर सब कट ही जाएगा

भरोसा देने वाला इक यही किरदार होती है

मैं जब जल्दी में होता हूं मेरी रफ्तार होती है

सड़क पर भीड़ हो ज्यादा तो मेरा वार होती है

जो बाहर हर तरफ़ हो सरपकाऊ शोर शराबा

तो अंदर बज रही कोई नई झनकार होती है

हो बारिश, धूप या सर्दी यही उपचार होती है

हमारी हाजिरी का इक यही आधार होती है

नहीं छत हो न दीवारें नहीं कोई ठिकाना हो

फ़ोन लैपटॉप जो संग हो ये कारोबार होती है

साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है

मेरे संग हर कदम चलने को ये तैयार होती है

Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai

Mere sang har qadam chalne ko ye taiyyar hoti hai

Akelapan safar lamba magar sab kat hi jayega

Bharosa dene wala ik yahi kirdar hoti hai

Main jab jaldi mein hota hoon meri raftar hoti hai

Sadak par bheed ho zyada toh mera vaar hoti hai

Jo baahar har taraf ho sarpakau shor sharaba

Toh andar baj rahi koi nai jhankaar hoti hai

Ho barish dhoop ya sardi yahi upchar hoti hai

Hamari haziri ka ik yahi aadhaar hoti hai

Nahin chhat ho na deewaren nahin koi thikana ho

Phone laptop jo sang ho ye karobar hoti hai

Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai

Mere sang har qadam chalne ko ye taiyyar hoti hai

Leave a Comment

%d bloggers like this: