Tumko banane wale ne तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है Hindi Shayari

Tumko banane wale ne तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है Hindi Shayari

Tumko banane wale ne तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है Hindi Shayari

Hindi Shayari. Tumko banane wale ne. Love Shayari.

जो दौड़ का मैदान था सोया सा पड़ा है

बच्चों के लिए खेल से अब गेम बड़ा है

पलकें झुकाना बन गया सवाल नाक का

जिसको भी देखो आज वही ज़िद पे अड़ा है

जकड़न सी में हर शख्स है खुलता ही नहीं है

ऐसा दिखावटों का दिल पे ताला पड़ा है

गहरी है नींद उसकी या सोने का भरम है

अब छोड़ दो यारों उसे वो चिकना घड़ा है

इस मुल्क ने कीमत बड़ी चुकाई है तब-तब

जब-जब यहां अपना कोई अपनों से लड़ा है

ना जाने कैसी-कैसी जंग में फंसे हो तुम

आ जाओ खुला इश्क का मैदान पड़ा है

अपने हुनर की सरहदों को पार कर गया

तुमको बनाने वाले ने कुछ ऐसा गढ़ा है

अब होने लगा है तुम्हारे हुस्न का चर्चा

ऐसा हमारी आशिकी का रंग चढ़ा है

रहते हो परेशां कि कब तलाश ख़त्म हो

तुम हो खड़े जहां वहीं ख़ज़ाना गड़ा है

Jo daud ka maidan tha soya sa pada hai

Bachchon k liye khel se ab game bada hai

Palken jhukana ban gaya sawaal naak ka

Jisko bhi dekho aaj vahi zid pe adaa hai

Jakdan si mein har shakhs hai khulta hi nahin hai

Aisa dikhawaton ka dil pe talaa pada hai

Gehri hain neend uski ya sone ka bharam hai

Ab chhod do yaaron use vo chikna ghada hai

Is mulk ne keemat badi chukai hai tab-tab

Jab-jab yahaan apna koi apnon se ladaa hai

Naa jaane kaisi-kaisi jung mein phanse ho tum

Aa jao khulaa ishq ka maidan pada hai

Apne hunar ki sarhadon ko paar kar gaya

Tumko banane wale ne kuchh aisa gadhha hai

Ab hone laga hai tumhare husn ka charcha

Aisa hamari ashiqi ka rang chadhhaa hai

Rehte ho pareshaan ki kab talaash khatm ho

Tum ho khade jahaan vahin khazana gada hai

Leave a Comment

%d bloggers like this: