Tum Maante Ho Farq तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती Hindi Shayari

Tum Maante Ho Farq तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती Hindi Shayari

Tum Maante Ho Farq Magar तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती. देश की राजधानी दिल्ली में हुए दंगों पर समाज के दर्द को बयां करती हिंदी शायरी Hindi Shayari

हिंदू का मुसलमान का ये खेल नहीं जानती

तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती

झंडा सफेद या हरा या भगवा हो लहरा रहा

कपड़ा है किसका कौन सा ये आग नहीं जानती

जब आग को मिले हवा तो पसरती है बद्दुआ

फिर हो कहीं अज़ान या फिर चल रही हो आरती

घर जल गया रमेश का रोज़ी छिनी रफ़ीक की

आए नहीं नज़र कहीं जितने भी थे हिमायती

मां बाप का वो लाड़ला अब भीड़ के चंगुल में था

थी बड़ी देर हो चुकी मां जब तलक संभालती

Hindu ka Musalman ka ye khel nahin jaanti

Tum maante ho farq magar aag nahin maanti

Jhanda safed ya haraa ya bhagwa ho lehra raha

Kapda hai kiska kaun sa ye aag nahin jaanti

Jab aag ko mile hawa to pasarti hai baddua

Phir ho kahin azaan ya phir chal rahi ho aarti

Ghar jal gaya Ramesh ka rozi chhini Rafeeq ki

Aaaye nahin nazar kahin jitne bhi thhey himaayati

Maa Baap ka vo ladla ab bheed ke changul mein thaa

Thee badi der ho chuki Maa jab talak sambhalti

Hindu ka musalmaan kaa ye khel nahin jaanti

Tum maante ho fark magar aag nahin maanti

Hindi Shayari साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai Romantic Shayari

Hindi Shayari साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai Romantic Shayari

साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है

मेरे संग हर कदम चलने को ये तैयार होती है

अकेलापन सफ़र लंबा मगर सब कट ही जाएगा

भरोसा देने वाला इक यही किरदार होती है

मैं जब जल्दी में होता हूं मेरी रफ्तार होती है

सड़क पर भीड़ हो ज्यादा तो मेरा वार होती है

जो बाहर हर तरफ़ हो सरपकाऊ शोर शराबा

तो अंदर बज रही कोई नई झनकार होती है

हो बारिश, धूप या सर्दी यही उपचार होती है

हमारी हाजिरी का इक यही आधार होती है

नहीं छत हो न दीवारें नहीं कोई ठिकाना हो

फ़ोन लैपटॉप जो संग हो ये कारोबार होती है

साथ जब तुम नहीं होतीं मेरा दिलदार होती है

मेरे संग हर कदम चलने को ये तैयार होती है

Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai

Mere sang har qadam chalne ko ye taiyyar hoti hai

Akelapan safar lamba magar sab kat hi jayega

Bharosa dene wala ik yahi kirdar hoti hai

Main jab jaldi mein hota hoon meri raftar hoti hai

Sadak par bheed ho zyada toh mera vaar hoti hai

Jo baahar har taraf ho sarpakau shor sharaba

Toh andar baj rahi koi nai jhankaar hoti hai

Ho barish dhoop ya sardi yahi upchar hoti hai

Hamari haziri ka ik yahi aadhaar hoti hai

Nahin chhat ho na deewaren nahin koi thikana ho

Phone laptop jo sang ho ye karobar hoti hai

Sath jab tum nahi hoti mera dildar hoti hai

Mere sang har qadam chalne ko ye taiyyar hoti hai

Love Shayari मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी Mohabbat ki kisi had se Guzarna chahti hogi Romantic Shayari

Love Shayari मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी Mohabbat ki kisi had se Guzarna chahti hogi Romantic Shayari

मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी

वो नाज़ुक मोड़ पर आकर बहकना चाहती होगी

मेरी चाहत में पड़ने का रहा होगा मलाल उसको

छुड़ाकर हाथ वो अपना सुधरना चाहती होगी

घने बादल तलक उड़कर मचलना चाहती होगी

जो माफ़िक है नहीं उसके बदलना चाहती होगी

पुराने रंग दीवारों के कहाँ कब तक सुहाते हैं

ये मेरी ज़िंदगानी रंग बदलना चाहती होगी

मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी

वो नाज़ुक मोड़ पर आकर बहकना चाहती होगी

Mohabbat ki kisi had se guzarna chahti hogi

Vo nazuk mod par aakar bahana chahti hogi

Meri chahat mein padne ka raha hoga malal usko

Chhudakar haath vo apna sudharna chahti hogi

Ghane badal talak udkar machalna chahti hogi

Jo mafiq hai nahin uske badalna chahti hogi

Purane rang deewaro ke kahan kab tak suhate hain

Ye meri zindgani rang badalna chahti hogi

Mohabbat ki kisi had se guzarna chahti hogi

Vo nazuk mod par aakar bahana chahti hogi

 

Sad Shayari काश हमने उसे सांसों से सुखाया होता Kash hamne use sanson se sukhaya hotaa Dard Bhari Shayari

Sad Shayari काश हमने उसे सांसों से सुखाया होता Kash hamne use sanson se sukhaya hotaa Dard Bhari Shayari

ख़्वाबों का पूरा जहां हमने सजाया होता

रुक तो जाते वो अगर हमने बुलाया होता

दिल पे इक बोझ सी है उनकी आंखों की नमी

काश हमने उसे सांसों से सुखाया होता

मुझे साये की तरह उनसे जुड़ जाना था

मेरे साये से जुड़ा उनका भी साया होता

अपने सीने की ख़लिश का सबब हम खुद हैं

ऐ खुदा तूने ही कोई रस्ता दिखाया होता

ख़्वाबों का पूरा जहां हमने सजाया होता

रुक तो जाते वो अगर हमने बुलाया होता

Khwabon kaa pura jahaan hamne sajaya hota

Ruk to jaate vo agar hamne bulaayaa hotaa

Dil pe ik bojh si hai unki aankhon ki nmi 

Kaash hamne use saanson se sukhaayaa hotaa

Mujhe saaye ki tarah unse jud jaanaa thaa

Mere saaye se judaa unkaa bhi saayaa hotaa

Apne seene ki khalish kaa sabab ham khud hai

Aey khudaa tune hi koi rastaa dikhaayaa hotaa

Khwaabon kaa puraa jhaan hamne sajaayaa hotaa

Ruk to jaate vo agar hamne bulaayaa hotaa

सज़ा न दे मुझे, मैं इंतज़ार कर लूंगा Saza na de mujhe main intezaar kar loonga

सज़ा न दे मुझे, मैं इंतज़ार कर लूंगा

तेरे हिसाब से, शर्तों पे प्यार कर लूंगा

तुम अपने हुस्न का दरबान बना रख लो मुझे

तुम्हें इस जान का जागीरदार कर लूंगा

Saza na de mujhe main intezaar kar loonga

Tere hisab se, sharton pe pyar kar loonga

Tum apne husn ka darbaan banaa rakh lo mujhe

Tumhe is jaan ka jaagirdaar kar loonga

%d bloggers like this: