Toote hain pankh magar टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है Hindi Shayari

Toote hain pankh magar टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है Hindi Shayari

Toote hain pankh magar टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है Hindi Shayari

Toote hain pankh magar Hindi Shayari

ख़त्म हुआ हूं नहीं कि अभी जान बाकी है

टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है

अग्निपरीक्षाओं से सत्य रोज़ गुज़रेगा

जब तलक सफेद झूठ का जहान बाकी है

किसपे विश्वास करें और किससे मशविरा

कैसे करें पता कि ईमान कहां बाकी है

लिस्ट में एहसानों की कई नाम कट गए

बाकी हैं कई जिनके नाम वहां बाकी है

कभी-कभी लगता है बदलेगा कुछ नहीं

जब तलक कि नफ़रत की वो दुकान बाकी है

गिर गई हैं दीवारें खंभे बने खंडहर

पगला सोचता है कि अब भी मकान बाकी है

ख़त्म हुआ हूं नहीं कि अभी जान बाकी है

टूटे हैं पंख मगर एक उड़ान बाकी है

https://vinternet.in/chamakta-chand-andheri-raat/

Khatm hua hoon nahin ki abhi jaan baaki hai

Toote hain pankh magar ek udaan baaki hai

Agnipareekshaon se satya roz guzrega

Jab talak safed jhooth ka jahan baaki hai

Kispe vishwas karein aur kis se mashvira

Kaise karein pata k eemaan kahaan baaki hai

List mein ehsaanon ki kai naam kat gaye

Baaki hain kai jinke naam vahaan baaki hai

Kabhi-kabhi lagta hai badlega kuchh nahin

Jab talak ke nafrat ki vo dukaan baaki hai

Gir gayi hain deewarein khambhe bane khandahar

Pagla sochta hai ki ab bhi makaan baaki hai

Khatm hua hoon nahin ki abhi jaan baaki hai

Toote hain pankh magar ek udaan baaki hai

https://vinternet.in/darbar-mein-raja-ke/

Darbar mein Raja ke दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं Hindi Shayari

Darbar mein Raja ke दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं Hindi Shayari सड़क पर धूल में नगीने बैठे हैं

Darbar mein Raja ke दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं Hindi Shayari

life quotes in hindi

दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं

सड़क पर धूल में नगीने बैठे हैं

हक वही जो मिले सूखने से पहले

तरबतर मज़दूरों के पसीने बैठे हैं

इंसानों से उम्मीद ज़रा कम रखना

बनके हाड़-मांस की मशीनें बैठे हैं

ऊंचाई हमेशा बड़प्पन नहीं होती

छतों पे चढ़के आज ज़ीने बैठे हैं

जो आए थे दर पे एक ठौर मांगने

दबा के आज हमारी ज़मीनें बैठे हैं

बस अब बहुत हुआ खेल मत खेलो

समझो, हम चढ़ा के आस्तीनें बैठे हैं

मौत का डर दिखाता है तो आ भी

हम कौन सा हमेशा जीने बैठे हैं

दरबार में राजा के कमीने बैठे हैं

सड़क पर धूल में नगीने बैठे हैं

Darbar mein Raja ke kamine baithe hain

Sadak pe dhool mein nagine baithe hain

Haq wahi jo mile sookhne se pehle

Tarbatar mazdooron k paseene baithe hain

Insaanon se ummeed zara kam rakhna

Banke haad-maans ki masheene baithe hain

Oonchai hamesha badappan nahin hoti

Chhaton pe chadhke aaj zeene baithe hain

Jo aaye thhey dar pe ek thaur maangne

Vo aaj daba ke hamaari zameene baithe hain

Bas ab bahut hua, khel mat khelo

Samjho, Ham chadha ke aasteene baithe hain

Maut ka dar dikhata hai to aa bhee

Ham kaun sa hamesha jeene baithe hain

Darbar mein Raja ke kamine baithe hain

Sadak pe dhool mein nagine baithe hain

%d bloggers like this: