Tum Maante Ho Farq तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती Hindi Shayari

Tum Maante Ho Farq तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती Hindi Shayari

Tum Maante Ho Farq Magar तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती. देश की राजधानी दिल्ली में हुए दंगों पर समाज के दर्द को बयां करती हिंदी शायरी Hindi Shayari

हिंदू का मुसलमान का ये खेल नहीं जानती

तुम मानते हो फ़र्क मगर आग नहीं मानती

झंडा सफेद या हरा या भगवा हो लहरा रहा

कपड़ा है किसका कौन सा ये आग नहीं जानती

जब आग को मिले हवा तो पसरती है बद्दुआ

फिर हो कहीं अज़ान या फिर चल रही हो आरती

घर जल गया रमेश का रोज़ी छिनी रफ़ीक की

आए नहीं नज़र कहीं जितने भी थे हिमायती

मां बाप का वो लाड़ला अब भीड़ के चंगुल में था

थी बड़ी देर हो चुकी मां जब तलक संभालती

Hindu ka Musalman ka ye khel nahin jaanti

Tum maante ho farq magar aag nahin maanti

Jhanda safed ya haraa ya bhagwa ho lehra raha

Kapda hai kiska kaun sa ye aag nahin jaanti

Jab aag ko mile hawa to pasarti hai baddua

Phir ho kahin azaan ya phir chal rahi ho aarti

Ghar jal gaya Ramesh ka rozi chhini Rafeeq ki

Aaaye nahin nazar kahin jitne bhi thhey himaayati

Maa Baap ka vo ladla ab bheed ke changul mein thaa

Thee badi der ho chuki Maa jab talak sambhalti

Hindu ka musalmaan kaa ye khel nahin jaanti

Tum maante ho fark magar aag nahin maanti

%d bloggers like this: