Purvanchal Expressway Bundelkhand Expressway का निर्माण तेज़

Purvanchal Expressway और Bundelkhand Expressway का निर्माण तेज़

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण तेज़,यूपीडा सीईओ ने की समीक्षा

Purvanchal Expressway और Bundelkhand Expressway का निर्माण तेज़,यूपीडा सीईओ ने की समीक्षा

यूपीडा यानी उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज़ औद्योगिक विकास प्राधिकरण पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे का तेज़ी से निर्माण करा रहा है.

लखनऊ के लोकभवन में उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज़ औद्योगिक विकास प्राधिकरण यानी यूपीडा के सीईओ अवनीश अवस्थी ने 1 फ़रवरी 2020 को दोनों एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्यों की समीक्षा की.

Purvanchal Expressway Bundelkhand Expressway

अवनीश अवस्थी ने निर्माण कार्यों में लगी कम्पनियों के अधिकारियों से कहा कि वो पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य को तय समय सीमा यानी अगस्त 2020 तक पूरा करें. और जनवरी 2022 तक बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे को भी तैयार कर यातायात के लिए खोल दिया जाए.

अवनीश अवस्थी ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य में तेज़ी लाई जाए और इसके निर्माण कार्य में आ रही बाधाओं को जल्द से जल्द दूर किया जाए. अवनीश अवस्थी ने बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य को लेकर भी निर्देश दिए और इसे भी जल्दी पूरा करने का निर्देश दिया.

लोक भवन में हुई समीक्षा बैठक में यूपीडा के सीईओ अवनीश कुमार अवस्थी ने यूपीडा के अधिकारियों और निर्माण कम्पनियों के सम्बंधित प्रतिनिधियों को निर्देश देते हुए कहा कि निर्माण कार्य में गुणवत्ता का पूरा ध्यान रखते हुए कार्य में तेज़ी लाई जाए और पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के लिए उपलब्ध ज़मीन से सम्बंधित विवादों का शीघ्र ही हल निकाला जाए. अवनीश अवस्थी का कहना था कि निर्माण कार्य में कोई भी व्यवधान पैदा न हो और निर्माण कार्य तय समय सीमा में पूरा कराया जाए.

Purvanchal Expressway Bundelkhand Expressway

अगर पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की बात करें तो इसका निर्माण कार्य काफ़ी तेज़ी से चल रहा है. साल 2020 में इस एक्सप्रेसवे के मुख्य मार्ग को खोलने की योजना है. उल्लेखनीय है कि इसकी कुल लम्बाई 340.824 किमी का लगभग 35 प्रतिशत से अधिक भौतिक कार्य पूरा कर लिया गया है.

1 फरवरी 2020 तक 98 प्रतिशत से अधिक क्लीयरिंग व ग्रबिंग का काम और 70 प्रतिशत से ज़्यादा मिट्टी का काम पूरा कर लिया गया है. अब तक पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के कुल 430 स्ट्रक्चर्स का निर्माण कार्य पूरा किया जा चुका है. बाकी का निर्माण कार्य तेज़ स्पीड से चल रहा है.

Purvanchal Expressway Bundelkhand Expressway

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-731 लखनऊ-सुल्तानपुर रोड(ग्राम चांदसराय) से शुरू होकर
जनपद-बाराबंकी,
अमेठी,
सुल्तानपुर,
फैजाबाद,
अम्बेडकरनगर,
आज़मगढ़,
मऊ होते हुए जनपद-गाजीपुर(ग्राम हैदरिया) में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 पर समाप्त होता है.

इस एक्सप्रेसवे की कुल लम्बाई 340.824 किमी है जिसके निर्माण के लिये एक्सप्रेसवे को 8 पैकेजों में बांटा गया है. ये एक्सप्रेसवे 6 लेन चौड़ा और 8 लेन में एक्सपेंडेबल यानी विस्तारणीय है.

बैठक में यूपीडा के सीईओ अवनीश अवस्थी ने बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य की भी समीक्षा की. समीक्षा में उन्होंने यूपीडा के अधिकारियों और निर्माण कम्पनियों के सम्बंधित प्रतिनिधियों को निर्देश देते हुए कहा कि निर्माण कार्य में गुणवत्ता का पूरा ध्यान रखें और तेज़ी से कार्य करते हुए फरवरी 2020 तक 2 प्रतिशत मिट्टी का कार्य पूरा कर लिया जाए.

यूपीडा की फरवरी 2022 तक बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य पूरा कर इसे यातायात के लिए खोलने की योजना है. अब तक यूपीडा बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे के लिए लगभग 95 प्रतिशत से ज़्यादा भूमि अधिग्रहीत की जा चुकी है.

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे चित्रकूट ज़िले में भरतकूप के पास से शुरू होकर जनपद बांदा,
हमीरपुर,
महोबा,
जालौन,
औरैया होते हुए आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-91(इटावा-बेवर मार्ग) से करीब 16 किमी पूर्व कुदरैल गांव के पास समाप्त होगा.

ये एक्सप्रेसवे 4 लेन चौड़ा और 6 लेन एक्स्पैनडेबल (विस्तारणीय) होगा. इस एक्सप्रेसवे की लम्बाई 296.07 किमी है. इस एक्सप्रेसवे के बन जाने के बाद पूरा बुन्देलखण्ड क्षेत्र सीधा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से जुड़ जाएगा और वहां विकास के नये रास्ते खुलेंगे.

Leave a Comment

%d bloggers like this: