Love Shayari मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी Mohabbat ki kisi had se Guzarna chahti hogi Romantic Shayari

Love Shayari मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी Mohabbat ki kisi had se Guzarna chahti hogi Romantic Shayari

मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी

वो नाज़ुक मोड़ पर आकर बहकना चाहती होगी

मेरी चाहत में पड़ने का रहा होगा मलाल उसको

छुड़ाकर हाथ वो अपना सुधरना चाहती होगी

घने बादल तलक उड़कर मचलना चाहती होगी

जो माफ़िक है नहीं उसके बदलना चाहती होगी

पुराने रंग दीवारों के कहाँ कब तक सुहाते हैं

ये मेरी ज़िंदगानी रंग बदलना चाहती होगी

मोहब्बत की किसी हद से गुज़रना चाहती होगी

वो नाज़ुक मोड़ पर आकर बहकना चाहती होगी

Mohabbat ki kisi had se guzarna chahti hogi

Vo nazuk mod par aakar bahana chahti hogi

Meri chahat mein padne ka raha hoga malal usko

Chhudakar haath vo apna sudharna chahti hogi

Ghane badal talak udkar machalna chahti hogi

Jo mafiq hai nahin uske badalna chahti hogi

Purane rang deewaro ke kahan kab tak suhate hain

Ye meri zindgani rang badalna chahti hogi

Mohabbat ki kisi had se guzarna chahti hogi

Vo nazuk mod par aakar bahana chahti hogi

 

Leave a Comment

%d bloggers like this: