Hindi Shayari on winter season शिमला से आगे निकली दिल्ली

Hindi Shayari on winter season शिमला से आगे निकली दिल्ली

Hindi Shayari on winter season अबकी दिल्ली में वो ठंड पड़ी

सुनते आए हैं बचपन से शिमला में है ठंड बड़ी

शिमला पीछे छूटा अबकी दिल्ली में वो ठंड पड़ी


होगा शिमला हिल स्टेशन पड़ती भी होगी बर्फ़ वहां

चिल स्टेशन बन के दिल्ली ने कर दी सबकी खाट खड़ी


टेम्प्रेचर शिमला से घटा कड़ाका शिमला से ज्यादा

2 डिग्री के पारे से दिल्ली की रैंकिंग और बढ़ी


खाने को ठंडा होने में नहीं मिनट भी लगता है

ऑर्डर देकर मंगवा लो कहती है बीवी पड़ी-पड़ी


सर्दी में रूखेपन ने चेहरे की चमक उड़ा डाली

सूखी त्वचा, फटी एड़ी और उतरी होठों की पपड़ी


सुन्न हाथ और पैर सुन्न पानी करंट सा लगता है

अलार्म लगता दुश्मन घड़ी दिखाती आंखें घड़ी-घड़ी


मफलर टोपी पहन के निकले हम कोहरे से लड़ते हैं

ज़िद पे अड़ी हुई ये सर्दी होती जाती और कड़ी


सुनते आए हैं बचपन से शिमला में है ठंड बड़ी

शिमला पीछे छूटा अबकी दिल्ली में वो ठंड पड़ी

Sunte aye hain bachpan se shimla mein hai thand badi
Shimla pichhe chhoota abki dilli mein vo thand padi

Hoga shimla hill station padti bhi hogi barf vahan
Chill station banke dilli ne kar di sabki khaat khadi

Temperature shimla se ghata kadaka shimla se zyada
2 digree ke pare se dilli ki ranking aur badhi

Khane ko thanda hone mein nahin minute bhi lagata hai
Order dekar mangwa lo kehti hai biwi padi-padi

Sardi mein rukhepan ne chehre ki chamak uda daali
Sukhi tvchaa, fati edi aur utri hothon ki papdi

Sunn haath aur pair sunn pani current sa lgata hai
Alarm lagata dushman ghadi dikhati ankhen ghadi-ghadi

Muffler topi pehen ke nikle hum kohre se ladte hain
Zid pe adi hui ye sardi hoti jaati aur kadi

Sunte aye hain bachpan se shimla mein hai thand badi
Shimla pichhe chhoota abki dilli mein vo thand padi  

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *