Delhi election aap candidate list दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 Aam Aadmi Party List

Delhi election aap candidate list दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 Aam Aadmi Party List

Delhi election aap candidate list दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 Aam Aadmi Party candidate list

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 का नतीजा 11 फ़रवरी 2020 को आएगा. इससे पहले 8 फ़रवरी 2020 को दिल्ली में 70 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा.

आम आदमी पार्टी aap ने सभी 70 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है.

दिल्ली में मुख्य मुकाबला सत्तासीन आम आदमी पार्टी (AAP) और केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच है, हालांकि कांग्रेस की स्थिति भी पिछले चुनाव के मुकाबले मज़बूत लग रही है.

aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020
aap candidate list delhi 2020

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2015 में आम आदमी पार्टी Aam Aadmi Party ने ऐतिहासिक जीत हासिल की थी. दिल्ली विधानसभा चुनाव 2015 में आम आदमी पार्टी ने 67 सीटों पर जीत हासिल की थी. इस चुनाव में बीजेपी को सिर्फ़ 3 सीटें मिली थीं जबकि कांग्रेस का खाता भी नहीं खुला था.
चुनाव में जीत के बाद अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और मनीष सिसोदिया ने उपमुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली थी. 2015 से पहले 2013 में भी आम आदमी पार्टी ने 28 सीटें जीतकर कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाई थी.

दिल्ली में आम आदमी पार्टी Aam Aadmi Party की सरकार बनने से पहले कांग्रेस की शीला दीक्षित लगातार 15 साल तक यहां की मुख्‍यमंत्री रही थीं। दिल्ली में विधानसभा की 70 सीटें हैं जिसमें से 58 सामान्य श्रेणी की है जबकि 12 सीटें अनुसूचित जाति के लिये आरक्षित हैं.

दिल्ली विधानसभा का गठन पहली बार 7 मार्च, 1952 को किया गया था. तब दिल्ली विधानसभा में 48 सदस्य थे. इसके बाद 1956 में राज्य पुनर्गठन आयोग की सिफारिशों के के बाद दिल्ली को केंद्रशासित प्रदेश बना दिया गया. इसके तहत मंत्री परिषद खत्म कर दी गई. इसके बाद विधानसभा की जगह दिल्ली मेट्रोपॉलिटन काउंसिल ने ले ली.
इसके बाद 1991 में दिल्ली मेट्रोपॉलिटन काउंसिल की जगह एक बार फिर दिल्ली विधानसभा ने ले ली.

Leave a Comment

%d bloggers like this: