Chamakta Chand Andheri Raat चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं Hindi Shayari

Chamakta Chand Andheri Raat चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं Hindi Shayari

Chamakta Chand. चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं. Hindi shayari

Chamakta Chand Andheri Raat चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं

चमकता चाँद अंधेरी रात के बिना कुछ भी नहीं

सियासत धर्म और ज़ात के बिना कुछ भी नहीं

यूं तो किस्से और कहानियां बेशुमार हैं यहां

जहान मोहब्बत की बात के बिना कुछ भी नहीं

घने बादल और सुनहरी शाम तो ठीक हैं लेकिन

इश्क़ का रंग भीगी बरसात के बिना कुछ भी नहीं

तेरा होना मेरे लिए ऊपरवाले का वरदान है

मेरा होना तेरे ख्यालात के बिना कुछ भी नहीं

इंसान खुशफ़हमियों में अक्सर भूल जाता है

हम सारे उसकी करामात के बिना कुछ भी नहीं

ये जो नेता हैं जानते हो इनका वजूद किनसे है

ये भरमाई गई जमात के बिना कुछ भी नहीं

चमकते मॉल और बिल्डिंगों से गुमराह ना होना

हमारा देश गांव-देहात के बिना कुछ भी नहीं

कितना भी चख लो कॉन्टिनेन्टल और चायनीज़

खाने का मज़ा दाल-भात के बिना कुछ भी नहीं

Chamakta chaand andheri raat ke bina kuchchh bhi nahin

Siyasat Dharm aur Zaat ke bina kuchh bhi nahin

Yun to kisse aur kahaniyaan beshumaar hain yahaan

Jahaan mohabbat ki baat ke bina kuchchh bhi nahin

Ghane badal aur sunehri shaam to theek hai lekin

Ishq ka rang bhigi barsaat ke bina kuchchh bhi nahin

Tera hona mere liye ooparwale ka vardan hai

Mera hona tere khayalaat ke bina kuchchh bhi nahin

Insaan khushfehmiyon mein aksar bhool jata hai

Hum saare uskin karamat ke bina kuchchh bhi nahin

Ye jo neta hain jante ho inka vajood kinse hai

Ye bharmai gai jamat ke bina kuchchh bhi nahin

Chamakte mall aur buildingon se gumrah na hona

Hamara desh gaanv-dehat ke bina kuchchh bhi nahin

Kitna bhi chakh lo continental aur chinese

Khane ka mazaa daal-bhaat ke bina kuchchh bhi nahin

Leave a Comment

%d bloggers like this: